सुब्रह्मण्यम स्वामी ने संसद भवन निर्माण ने जताई घोटाले की आशंका

नए संसद भवन निर्माण अभी शुरू भी नहीं हुआ की वामपंथी, विपक्ष, बुद्धिजीवियों के बाद अब बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी ऐतराज़ जताया हैं. सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ऐतराज़ में नई संसद भवन का ठेका टाटा समूह को दिए जाने पर घोटाले की आशंका जताई हैं. इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस काल में हुए 2g घोटाले पर भी एक ट्वीट साझा किया.

भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता कहे जाने वाले सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में लिखा की, “क्या किसी को पता है कि टाटा को नए संसद परिसर के निर्माण के लिए कैसे चुना गया था? क्या इसके लिए निविदा आमंत्रित की गई थीं या फिर इसे 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की तरह पहले आओ पहले पाओ के आधार पर दे दिया गया?”

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा की, “उत्तर प्रदेश सरकार के राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड ने भी नए संसद भवन के लिए बोली लगाई थी, लेकिन वह जीत नहीं पाई. उनसे पता करेंगे कि ऐसा क्यों हुआ?” सुब्रमण्यम स्वामी बीजेपी के राजयसभा सांसद भी हैं और उनके इस ट्वीट के बाद बीजेपी दिल्ली के नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने स्वामी को ट्वीट में टैग करते हुए लिखा, “हैलो गद्दार!”

तजिंदर पाल सिंह ने अपने ट्वीट में अखबार के उस हिस्से का स्क्रीन शॉट साझा किया जिसमें लिखा गया था की, किस तरह से बिडिंग में टाटा प्रोजेक्ट्स ने ‘लार्सन एंड टर्बो’ (L&T) को हराकर 861.90 करोड़ रुपए की बोली लगाकर भारत के नए संसद भवन के निर्माण का ठेका हासिल किया हैं.

आपको बता दें की केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) ने सितंबर 16, 2020 को नए संसद भवन के निर्माण के लिए वित्तीय बोलियाँ खोली थी जिसमें टाटा ग्रुप की सबसे कम बोली 861.90 करोड़ की थी और लार्सन एंड टर्बो की बोली 865 करोड़ रुपए की थी. क्योंकि टाटा ग्रुप की बोली 3.1 करोड़ रुपए कम थी इस लिए सरकार ने नए संसद भवन के निर्माण का ठेका लार्सन एंड टर्बो को छोड़कर टाटा ग्रुप को दे दिया.

सभी तरह की खबरों से जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़े

RELATED ARTICLES