मरने के लिए ट्रैन के आगे कूदा लेकिन दो हिस्से होने के बाद भी जिन्दा रहा

2020 में दुनिया को ऐसी-ऐसी चीज़े देखने और सुनने को मिली जिसे किसी ने देखा और सुना नहीं था उसे एक अजीब साल कहना गलत नहीं होगा. परन्तु 2021 भी कुछ ख़ास नहीं हैं क्योंकि पिछले साल की महामारी की वैक्सीन अगर इस साल मिली है तो नई महामारी ने भी जन्म ले लिया हैं.

खैर हम आपको उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर शहर में एक ऐसे व्यक्ति की बात बताने जा रहें हैं, जिसके बारे में सुनकर आपको लगेगा की 2021 और 2020 में जैसे मानो कांटे की टक्कर चल रही हो. बताया जा रहा है की एक व्यक्ति ने आत्महत्या करने के मकसद से ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान देने की कोशिश की.

ट्रेन के आगे कूदा, वह ट्रेन के नीचे भी आया, शरीर के दो हिस्से हो गए लेकिन वो इंसान मरा नहीं. जी हाँ वो इंसान भी भी जिन्दा है और जिला राजकीय मेडिकल कालेज में उसका इलाज़ चल रहा हैं. पुलिस अधीक्षक संजय कुमार ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया की, थाना रोजा अंतर्गत हथोड़ा गांव में रहने वाला युवक हर्षवर्धन (26) एक विद्यालय में टैक्सी चलकर अपने घर का खर्च चलाता था.

4 जनवरी की सुबह हथोड़ा स्टेडियम के पीछे रेलवे लाइन पर दिल्ली से लखनऊ जाने वाली गाडी के आगे उसने कूदकर अपनी जान देनी चाहि. कुछ देर बाद लखनऊ से दिल्ली जा रही मालगाड़ी के ड्राइवर ने एक व्यक्ति के धड़ दो हिस्सों में कटा हुआ देखा, उसने तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दी जिसके बाद पुलिस पहुंची एम्बुलेंस बुलाई गयी और पता चला व्यक्ति अभी मरा नहीं.

पुलिस का कहना है की जब हम वहां पहुंचे तो लड़के का धड़ नहर के पानी में पड़ा हुआ था. वह होश में था और चिला रहा था की हमें बचा लीजिये हमने आत्महत्या करने की कोशिश की हैं. पुलिस का कहना है की लड़के का कूल्हों के पास से निचे का हिस्सा कट चूका था और क्योंकि उसने अपना धड़ नहर के बहते पानी में डाल दिया था इसलिए उसकी ब्लीडिंग रुक गयी थी.

राजकीय मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी प्रभारी डॉक्‍टर मोहम्‍मद मेराज ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया की युवक का धड़ रीढ़ की हड्डी से कुछ निचे से कटा था जिस वजह से वो जिन्दा रहा और कोमा में नहीं गया. उन्होंने बताया की हालत अभी भी नाज़ुक है, हालत में थोड़ा सुधार आ जाये फिर इसे बड़े हॉस्पिटल में शिफ्ट कर देंगे.

सभी तरह की खबरों से जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़े

RELATED ARTICLES