बड़ी खबर बीजेपी की इस बड़ी नेता ने दुनिया को कहा अलविदा

बड़ी खबर बीजेपी की इस बड़ी नेता ने दुनिया को कहा अलविदा: टिकटॉक स्टार और बीजेपी नेता सोनाली फोगाट का निधन हो गया है. सोनाली फोगाट का निधन गोवा में दिल का दौरा पड़ने से हुआ है. सोनाली के अचानक यूं दुनिया से चले जाने की खबर सुनकर उनके फैंस चौंक गए हैं. सोनाली अपने सोशल मीडिया पोस्ट की वजह से सुर्खियों में बनी रहती थीं. इतना ही नहीं सोनाली ने सोमवार रात भी एक वीडियो शेयर किया था, जो कि अब वायरल हो रहा है.

पोस्टमार्टम के बाद सामने आएगी मौत की असली वजह

नार्थ गोवा के डीजी से मिली जानकारी के मुताबिक, नार्थ गोवा के एसटी एंटिनी अस्पताल से पुलिस को सोनाली फोगाट के मौत की जानकारी मिली. इसके बाद लोकल पुलिस हॉस्पिटल पहुंच गई है और फिर होटल जाएगी. डीजी के मुताबिक अभी मौत की वजह बता पाना संभव नहीं है. जांच और पोस्टमार्टम के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी.

सोनाली ने अपने करियर की शुरुआत साल 2006 में एंकरिंग से की थी। वह हिसार दूरदर्शन के लिए एंकरिंग करती थीं। दो साल बाद 2008 में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ले ली। 2019 में भाजपा की टिकट पर आदमपुर से विधानसभा का चुनाव लड़ा था। सोनाली पंजाबी और हरियाणवी फिल्में, म्यूजिक वीडियोज कर चुकी थी।

पति की भी हुई थी संदिग्ध हालात में मौत

जानकारी के अनुसार सोनाली फोगाट का पहले से ही 22 से 25 अगस्त तक गोवा घूमने का प्लान था. ऐसे में वह गोवा गई हुई थीं. सोनाली फोगाट के निजी सचिव सुधीर सांगवान और उनकी टीम का एक अन्य व्यक्ति भी गोवा में उनके साथ मौजूद था. सोनाली फोगाट की मौत की खबर के बाद उनके परिवारवाले हरियाणा के हिसार जिले के भूथन गांव से गोवा रवाना हो गए हैं. बता दें कि 2016 में सोनाली फोगाट के पति संजय फोगाट भी हरियाणा के फार्म हाउस में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिले थे.

चुनाव हार गई थीं सोनाली

सोनाली अपने बयानों को लेकर भी सुर्खियों में रही हैं। 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने आदमपुर से कुलदीप बिश्नोई के खिलाफ चुनाव लड़ा था। वे इस चुनाव में हार गई थीं। कुलदीप बिश्नोई ने 29 हजार 471 वोट से ज्यादा वोट हासिल किए थे।

बड़ी खबर बीजेपी की इस बड़ी नेता ने दुनिया को कहा अलविदा
बड़ी खबर बीजेपी की इस बड़ी नेता ने दुनिया को कहा अलविदा

हाल ही में सोनाली-कुलदीप की मुलाकात हुई थी

सोनाली और कुलदीप बिश्नोई राजनीतिक विरोधी थे। हाल ही में दोनों की मुलाकात हुई थी और गिले-शिकवे दूर हुए थे। ये मुलाकात सोनाली के घर पर ही हुई थी। इसके बाद सोनाली गुरु जांभेश्वर जयंती पर बिश्नोई मंदिर में पहुंची थीं।