7 चीजें ! जो नोटबंदी के बाद देश में बदल गई !

7 Things Demonetization Changed : तो मोदी जी की नोटबंदी की anniversary भी चली गयी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 8 नवबंर वाले मास्टर स्ट्रोक से अंजान हर भारतीय की एकदम रात 8 बजे आंखें फट गई थीं. इस बात को भला कौन भूल सकता हैं. इस दांव की खूब तारीफें भी हुई. और हफ्ते भर में ही लोग Facebook twitter पर मोदी जी और BJP को गालियां दे रहे थे क्युकी अब उन्हें लाइन में लगना पड़ रहा है. अब इस मास्टर स्ट्रोक को एक साल हो चूका है. और कांग्रेस ने तो नोटबंदी की जयंती को काले दिन यानि Black Day के रूप में मनाया भी था. 7 Things Demonetization Changed - Indiavirals.com 8 नवंबर के बाद भारत की economy और भारत में लोगों की जिंदगी में काफी कुछ बदल गया. 1. लाइन में लगने की practice कुछ दिन पहले Starbucks ने अपनी aniversay sale में 100 रुपए की coffee दी. और उसके लिए इतने लोग लाइन में लगे थे जितने नोटबंदी के टाइम ATM की लाइन में ही दिखते थे. नोटबंदी के बाद से एक बात पक्की हो गयी कि लाइन में लगने की प्रैक्टिस है अब लोगों को. वैसे तो भारतीय किसी भी Free या सस्ती चीज के लिए लाइन लगा ही लेते हैं, लेकिन नोटबंदी के बाद से घंटों लाइन में इंतजार करने से capacity बढ़ गई है. 2. Paytm के ग्राहक नोटबंदी होते ही देश के तमाम Mobile wallet तेजी से तरक्की करने लगे. इसमें Paytm सबसे ऊपर था. नोटबंदी होने के बाद Paytm के 300 मिलियन से भी ज़ादा users हो गए. नोटबंदी के महज 12 दिन बाद ही Paytm के 70 लाख से ज्यादा transaction और 120 करोड़ से ज्यादा रुपए का लेनदेन हर दिन होने लगा. पूरे साल का target Paytm ने दो महीने के अंदर अंदर पूरा कर लिया. नोटबंदी के बाद से Digital Transaction में बढ़त तो हुई. 3. बीजेपी की UP में सरकार उत्तरप्रदेश में चुनाव के पहले नोटबंदी ने UP में बाकि दलों की हड्डी तोड़ दी. इसका कोई पुख्ता साबुत नहीं लेकिन मायावति और मुलायम यादव की नोटबंदी को लेकर उनकी हरकते इस बात की ओर इशारा कर रही थी. यूपी में BJP की जीत में लोग अंदर ही अंदर ये भी कहते हैं कि इसका सीधा कारण नोटबंदी थी. 4. भारत की GDP नोटबंदी के बाद GDP ग्रोथ किस हद तक बदली है वो देखने वाली बात हैं. वैसे तो हाल ही में लागू हुआ जीएसटी भी मौजूदा जीडीपी के लिए जिम्मेदार है. लेकिन अगर नोटबंदी के बाद वाले क्वार्टर की बात की जाए. तो 2016-17 की आखिरी तिमाही में एक्सपर्ट्स ने 7.1% जीडीपी होने की बात कही थी. लेकिन असल में ये 6.1% पर सिमट कर रह गई. ये मिनिमम एक्सपेक्टेशन जो 6.5% थी उससे भी कम थी. शायद असलियत इससे भी बुरी हो. लेकिन ये आधिकारिक आंकड़े हैं. दिसंबर और जनवरी में पिछले साल कई सर्वे किए गए थे. और उनके बाद ये सच्चाई सामने आई थी कि 2016-17 में नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था काफी चरमरा गई थी. 7 things Demonetization changed - Indiavirals.com 5. लोगों की BJP को लेकर सोच नोटबंदी के दौर में किसी ने भी BJP की नियत पर शक नहीं किया था. और लोग इसी उम्मीद में लाइन में लग गए थे कि देश का कुछ भला होगा. लेकिन एक साल बाद बिना खास नतीजे के लोगों को BJP के फैसले पर शक होने लगा है. गुजरात के चुनाव में BJP की बढ़ती मुश्किलें देखकर यही लग रहा है. अब लोग BJP को लेकर थोड़ा सा बदलने लगे है. हाल ही में Economist, Journalist और नेता अरुण शौरी ने NDTV को दिए गए अपने एक इंटरव्यू में कहा. "BJP ने ही देश की अब तक सबसे बड़ी काले धन को निकालने की स्कीम निकाली है. उन्होंने ये भी कहा कि ये पूरी तरह से बेकार स्कीम थी जिसने लोगों को वो नहीं दिया. जो उनसे वादा किया गया था. Read also : अपनी गाड़ी या OLA/UBER कैब, किस में होगा ज्यादा फायदा ! 6. घरेलू सामान का Online बिकना. घरेलू सामान का भी demonetization हो गया. Groffers, Big Basket जैसी कंपनियों के बिजनेस बढ़ गए. पिछले साल नोटबंदी के बाद online grocery delivery startup कंपनी Groffers ने Yes Bank के साथ हाथ मिला लोगों को घर में POS मशीन के साथ delivery boys के साथ cash on delivery सर्विस शुरू की थी. इस सर्विस का इस्तेमाल करने के लिए लोगों को 2000 रुपए का घर का सामान खरीदने की जरूरत थी. यानि पत्ता गोभी के साथ घर बैठे कैश भी लाकर दे रहे थे delivery boys. 7 things Demonetization changed - Indiavirals.com 7. भारत के नोट. नोटबंदी के बाद जो चीज सबसे पहले बदली थी वो थे प्यारे नोट. इसे लिस्ट में नहीं जोड़ा जाए ऐसा तो हो ही नहीं सकता है. आखिर इसे बदलने के लिए ही तो नोटबंदी की गई थी ना. Read also : Ban होने चाहिए शादियों से ये 13 Sexist रिवाज ! Follow @Indiavirals
 

7 चीजें ! जो नोटबंदी के बाद देश में बदल गई !

7 चीजें ! जो नोटबंदी के बाद देश में बदल गई ! 7 Things Demonetization Changed : तो मोदी जी की नोटबंदी की anniversary भी चली गयी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 8 नवबंर वाले मास्टर स्ट्रोक से अंजान हर भारतीय की एकदम रात 8 बजे आंखें फट गई थीं. इस बात को भला कौन भूल सकता हैं. इस दांव की खूब तारीफें भी हुई. और हफ्ते भर में ही लोग Facebook twitter पर मोदी जी और BJP को गालियां दे रहे थे क्युकी अब उन्हें लाइन में लगना पड़ रहा है. अब इस मास्टर स्ट्रोक को एक साल हो चूका है. और कांग्रेस ने तो नोटबंदी की जयंती को काले दिन यानि Black Day के रूप में मनाया भी था.

7 Things Demonetization Changed - Indiavirals.com

8 नवंबर के बाद भारत की economy और भारत में लोगों की जिंदगी में काफी कुछ बदल गया.

1. लाइन में लगने की practice

कुछ दिन पहले Starbucks ने अपनी aniversay sale में 100 रुपए की coffee दी. और उसके लिए इतने लोग लाइन में लगे थे जितने नोटबंदी के टाइम ATM की लाइन में ही दिखते थे. नोटबंदी के बाद से एक बात पक्की हो गयी कि लाइन में लगने की प्रैक्टिस है अब लोगों को. वैसे तो भारतीय किसी भी Free या सस्ती चीज के लिए लाइन लगा ही लेते हैं, लेकिन नोटबंदी के बाद से घंटों लाइन में इंतजार करने से capacity बढ़ गई है.

2. Paytm के ग्राहक

7 things Demonetization changed नोटबंदी होते ही देश के तमाम Mobile wallet तेजी से तरक्की करने लगे. इसमें Paytm सबसे ऊपर था. नोटबंदी होने के बाद Paytm के 300 मिलियन से भी ज़ादा users हो गए. नोटबंदी के महज 12 दिन बाद ही Paytm के 70 लाख से ज्यादा transaction और 120 करोड़ से ज्यादा रुपए का लेनदेन हर दिन होने लगा. पूरे साल का target Paytm ने दो महीने के अंदर अंदर पूरा कर लिया. नोटबंदी के बाद से Digital Transaction में बढ़त तो हुई.

3. बीजेपी की UP में सरकार

उत्तरप्रदेश में चुनाव के पहले नोटबंदी ने UP में बाकि दलों की हड्डी तोड़ दी. इसका कोई पुख्ता साबुत नहीं लेकिन मायावति और मुलायम यादव की नोटबंदी को लेकर उनकी हरकते इस बात की ओर इशारा कर रही थी. यूपी में BJP की जीत में लोग अंदर ही अंदर ये भी कहते हैं कि इसका सीधा कारण नोटबंदी थी.

4. भारत की GDP

7 things Demonetization changed नोटबंदी के बाद GDP ग्रोथ किस हद तक बदली है वो देखने वाली बात हैं. वैसे तो हाल ही में लागू हुआ जीएसटी भी मौजूदा जीडीपी के लिए जिम्मेदार है. लेकिन अगर नोटबंदी के बाद वाले क्वार्टर की बात की जाए. तो 2016-17 की आखिरी तिमाही में एक्सपर्ट्स ने 7.1% जीडीपी होने की बात कही थी. लेकिन असल में ये 6.1% पर सिमट कर रह गई. ये मिनिमम एक्सपेक्टेशन जो 6.5% थी उससे भी कम थी. शायद असलियत इससे भी बुरी हो. लेकिन ये आधिकारिक आंकड़े हैं. दिसंबर और जनवरी में पिछले साल कई सर्वे किए गए थे. और उनके बाद ये सच्चाई सामने आई थी कि 2016-17 में नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था काफी चरमरा गई थी.

7 things Demonetization changed - Indiavirals.com

5. लोगों की BJP को लेकर सोच

नोटबंदी के दौर में किसी ने भी BJP की नियत पर शक नहीं किया था. और लोग इसी उम्मीद में लाइन में लग गए थे कि देश का कुछ भला होगा. लेकिन एक साल बाद बिना खास नतीजे के लोगों को BJP के फैसले पर शक होने लगा है. गुजरात के चुनाव में BJP की बढ़ती मुश्किलें देखकर यही लग रहा है. अब लोग BJP को लेकर थोड़ा सा बदलने लगे है. हाल ही में Economist, Journalist और नेता अरुण शौरी ने NDTV को दिए गए अपने एक इंटरव्यू में कहा. "BJP ने ही देश की अब तक सबसे बड़ी काले धन को निकालने की स्कीम निकाली है. उन्होंने ये भी कहा कि ये पूरी तरह से बेकार स्कीम थी जिसने लोगों को वो नहीं दिया. जो उनसे वादा किया गया था. Read also : अपनी गाड़ी या OLA/UBER कैब, किस में होगा ज्यादा फायदा !

6. घरेलू सामान का Online बिकना.

घरेलू सामान का भी demonetization हो गया. Groffers, Big Basket जैसी कंपनियों के बिजनेस बढ़ गए. पिछले साल नोटबंदी के बाद online grocery delivery startup कंपनी Groffers ने Yes Bank के साथ हाथ मिला लोगों को घर में POS मशीन के साथ delivery boys के साथ cash on delivery सर्विस शुरू की थी. इस सर्विस का इस्तेमाल करने के लिए लोगों को 2000 रुपए का घर का सामान खरीदने की जरूरत थी. यानि पत्ता गोभी के साथ घर बैठे कैश भी लाकर दे रहे थे delivery boys.

7 things Demonetization changed - Indiavirals.com

7. भारत के नोट.

नोटबंदी के बाद जो चीज सबसे पहले बदली थी वो थे प्यारे नोट. इसे लिस्ट में नहीं जोड़ा जाए ऐसा तो हो ही नहीं सकता है. आखिर इसे बदलने के लिए ही तो नोटबंदी की गई थी ना. Read also : Ban होने चाहिए शादियों से ये 13 Sexist रिवाज !