‘तांडव’ के इस सीन पर हो सकता था बड़ा बवाल, लेकिन किसी का नहीं गया ध्यान

0
800

तांडव नाम की वेब सीरीज का हंगामा तो आप सब से कहीं छुपा नहीं हैं. इस वेब सीरीज (Webseries) को देखने के बाद एक ही सवाल आता है की आखिर मेकर्स ने क्यों इस वेब सीरीज में शिव का अवतार बनाया और उसके मुंह से अपशब्दों का प्रयोग करवाया. अगर वह ऐसा न भी करते तो वेब सीरीज की स्टोरी लाइन में ज्यादा फर्क नहीं पड़ता.

लेकिन सच तो यह है की तब धार्मिक भावनाओ को लेकर भले ही फर्क न पड़ता लेकिन नारीवादी महिलाओं इस वेब सीरीज को लेकर विवाद खड़ा कर देती. दरअसल अगर आप लड़की हैं तो आपको यह सुनने को जरूर मिला होगा की ज्यादा पढ़ लिखकर क्या करोगी, बाद में खाना ही तो बनाना हैं या फिर ज्यादा सैलरी वाली नौकरी लेकर क्या करोगी तुमको कौनसा घर चलाना हैं.

फिर आते हैं वो लोग जो कहते हैं की अरे लड़की है इसलिए इसकी बॉस ने सैलरी बढ़ा दी या फिर इसलिए इसकी प्रमोशन कर दी. इस वेबसीरीज में भी इसी तरह की सोच रखने वाले लोगों की बातों को सही ठहराया गया हैं, की लड़की होने की वजह से बॉस उनसे ज्यादा प्रभावित होता है और उनकी तरक्की होती जाती हैं.

जैसे सबसे पहले डिंपल कपाड़िया (Dimple Kapadia) के कैरेक्टर अनुराधा किशोर की बात करते हैं जो प्रधानमंत्री देवकी नंदन यानी तिग्मांशु धूलिया (Tigmanshu Dhulia) के कैरेक्टर के साथ लगभग 30 सालों से प्रेम संबंधों में होते हैं. देवकी नंदन, अनुराधा से इतना प्यार करते हैं की वह उसके बेटे को रक्षा मंत्री (Defence Minister) तक बना देना चाहता हैं. देवकी की मौत के बाद अनुराधा इस बात पर प्रधानमंत्री पद की दावेदारी ठोक देती है की मेरे देवकी मेरे पति के सम्मान थे.

अदिति मिश्रा के रोल में शोनाली नागरानी (Shonali Nagrani) आपको दिखेगी जो की देश की पहली एयरफोर्स महिला पायलट होती है और वह रक्षा मंत्री का सपना लिए सैफ अली खान के साथ सेक्सुअल रिलेशनशिप रहती हैं. मतलब एक तरफ प्रधानमंत्री और दूसरी तरफ रक्षा मंत्री बनने के लिए बिना शादी के सब कुछ चला आ रहा है.

फिर आते हैं कृतिका कामरा (Kritika Kamra) पर जो की सना मीर नाम का किरदार निभा रही होती हैं. सना मीर एक तरफ कॉलेज के प्रॉफेसर चिराग (डीनो मोरिया) के साथ रिलेशनशिप में होती हैं वहीं जब वह पुलिस स्टेशन में अपने दोस्त की गिरफ्तारी के कारण पूछने अपने तीन दोस्तों के साथ जाती हैं तो पुलिस के सवाल पूछने पर वह कहती हैं हां मैं तीनो ही गर्लफ्रेंड हूँ. बाद में एक पुलिस वाला उसे और उसकी बहन को परेशान करने लगता है और 10 लाख की मांग करता हैं, सना मीर को जब कोई रास्ता नहीं दीखता तो वह प्रॉफेसर चिराग (डीनो मोरिया) के पास जाती है उसके साथ हमबिस्तर होती है और फिर 10 लाख मांगती हैं.

मतलब साफ़ है की इस वेब-सीरीज में जितनी भी औरतों के किरदार दिखाए गए हैं, वो सब की सब गोल्ड-डिगर टाइप हैं. यानी अपने जिस्म के सहारे अपने सपनों को पूरा करने वाली औरतें, लेकिन हैरानी की बात तो यह है की इस वेब सीरीज पर न तो देश के महिला आयोग (Women’s Commission) ने कोई आपत्ति दर्ज़ करवाई और न ही किसी नारीवादी महिला (Feminist Woman) ने इस वेब सीरीज को लेकर कुछ कहा, तो सवाल यह है की क्या महिला आयोग और नारीवादी महिलाएं, लड़कियों के प्रति इस विचारधारा का समर्थन करते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here