अखिलेश यादव मायावती के ये 3 बड़े दांव नहीं समझ पाए, दूसरा दांव खेला सबसे बड़ा

SP-BSP Mystery: बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने सोमवार को एक बड़ी घोषणा की। उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को व्यर्थ बताया और अकेले लड़ने के लिए यूपी उपचुनाव की घोषणा की। उनके बयान से अखिलेश जरूर हैरान हैं लेकिन वे मायावती के तीन दांवों को समझ नहीं पाए। हम कहते हैं कि आखिर बसपा सुप्रीमो मायावती के सपा के गठबंधन के पीछे तीन दांव थे। इनमें से तीसरा सबसे मजबूत दांव था। SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 1 बसपा प्रमुख मायावती का पहला दांव केंद्र की राजनीति में आगे बढ़ना था, जिसके लिए उन्हें समर्थकों की जरूरत थी। इसी कारण से, उन्होंने समाजवादी पार्टी के गठबंधन के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया था। मायावती का दांव था कि अखिलेश और अन्य दलों की मदद से वह पीएम पद तक पहुंचेंगी। अगर वह प्रधानमंत्री पद नहीं चाहते थे तो किसी भी कीमत पर सपा से गठबंधन नहीं कर सकते थे। SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 2 मायावती का दूसरा दांव सबसे मजबूत था। 2014 के लोकसभा चुनावों में, मायावती के खाते में एक भी सीट नहीं थी। यह उनके लिए बड़ा झटका था। हालांकि समीक्षा में उन्होंने पाया था कि दलित वोट उनके साथ थे लेकिन मुस्लिम वोट को सपा ने काट दिया। मायावती ने बसपा को खुश करने के लिए सपा के साथ गठबंधन किया, जिसमें वह सफल भी रही और 10 सीटें जीतीं। SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 3 मायावती का तीसरा रुख सपा को भाजपा को रोकने के लिए करना था। बसपा अच्छी तरह जानती थी कि वह एक मोर्चे पर भाजपा को टक्कर नहीं दे सकती। इसीलिए उन्होंने सपा को समर्थन दिया। हालांकि न तो वह सपा के साथ थे, न ही उनके कार्यकर्ता सपा के साथ थे। इस वजह से बसपा का वोट सपा को हस्तांतरित नहीं हुआ।
 

अखिलेश यादव मायावती के ये 3 बड़े दांव नहीं समझ पाए, दूसरा दांव खेला सबसे बड़ा

SP-BSP Mystery: बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने सोमवार को एक बड़ी घोषणा की। उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को व्यर्थ बताया और अकेले लड़ने के लिए यूपी उपचुनाव की घोषणा की। उनके बयान से अखिलेश जरूर हैरान हैं लेकिन वे मायावती के तीन दांवों को समझ नहीं पाए। हम कहते हैं कि आखिर बसपा सुप्रीमो मायावती के सपा के गठबंधन के पीछे तीन दांव थे। इनमें से तीसरा सबसे मजबूत दांव था।

SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 1

बसपा प्रमुख मायावती का पहला दांव केंद्र की राजनीति में आगे बढ़ना था, जिसके लिए उन्हें समर्थकों की जरूरत थी। इसी कारण से, उन्होंने समाजवादी पार्टी के गठबंधन के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया था। मायावती का दांव था कि अखिलेश और अन्य दलों की मदद से वह पीएम पद तक पहुंचेंगी। अगर वह प्रधानमंत्री पद नहीं चाहते थे तो किसी भी कीमत पर सपा से गठबंधन नहीं कर सकते थे।

SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 2

अखिलेश यादव मायावती के ये 3 बड़े दांव नहीं समझ पाए, दूसरा दांव खेला सबसे बड़ा मायावती का दूसरा दांव सबसे मजबूत था। 2014 के लोकसभा चुनावों में, मायावती के खाते में एक भी सीट नहीं थी। यह उनके लिए बड़ा झटका था। हालांकि समीक्षा में उन्होंने पाया था कि दलित वोट उनके साथ थे लेकिन मुस्लिम वोट को सपा ने काट दिया। मायावती ने बसपा को खुश करने के लिए सपा के साथ गठबंधन किया, जिसमें वह सफल भी रही और 10 सीटें जीतीं।

SP-BSP Mystery - मायावती का दांव नंबर 3

अखिलेश यादव मायावती के ये 3 बड़े दांव नहीं समझ पाए, दूसरा दांव खेला सबसे बड़ा मायावती का तीसरा रुख सपा को भाजपा को रोकने के लिए करना था। बसपा अच्छी तरह जानती थी कि वह एक मोर्चे पर भाजपा को टक्कर नहीं दे सकती। इसीलिए उन्होंने सपा को समर्थन दिया। हालांकि न तो वह सपा के साथ थे, न ही उनके कार्यकर्ता सपा के साथ थे। इस वजह से बसपा का वोट सपा को हस्तांतरित नहीं हुआ।