इंतजार हुआ खत्म- अभ केवल 2 दिन बाकी है कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर

पूरी दुनिया के लिए एक अच्छी खबर है। विश्व का पहला कोरोना वैक्सीन बनाया गया है। हां, आपने इसे सही सुना। बताया गया है कि वैक्सीन 12 अगस्त को पंजीकृत होगी। अगर आप रूस के दावों पर गौर करें तो यह टीका दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन होगा। इस वैक्सीन को गामल रिसर्च इंस्टीट्यूट ने विकसित किया है, जो रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय से संबद्ध संगठन है। रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको के अनुसार, अंतिम परीक्षण पारित होने पर वे अक्टूबर से बड़े पैमाने पर आपूर्ति शुरू कर देंगे। रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि टीकाकरण अभियान की लागत सरकार वहन करेगी। अब तक वैक्सीन ने अच्छे परिणाम दिए हैं लेकिन हम जानते हैं कि अंतिम चरण बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस वैक्सीन की ताकत का अंदाजा तभी लगाया जा सकता है, जब लोगों के बीच बड़े पैमाने पर प्रतिरोधक क्षमता विकसित की जाए। रूसी वैज्ञानिकों का दावा है कि नैदानिक परीक्षण के दौरान जिन लोगों को टीका लगाया गया था, उन्हें कोरोना वायरस से लड़ने की ताकत दी गई थी।
 

इंतजार हुआ खत्म- अभ केवल 2 दिन बाकी है कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर

पूरी दुनिया के लिए एक अच्छी खबर है। विश्व का पहला कोरोना वैक्सीन बनाया गया है। हां, आपने इसे सही सुना। बताया गया है कि वैक्सीन 12 अगस्त को पंजीकृत होगी। अगर आप रूस के दावों पर गौर करें तो यह टीका दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन होगा। इस वैक्सीन को गामल रिसर्च इंस्टीट्यूट ने विकसित किया है, जो रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय से संबद्ध संगठन है। रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको के अनुसार, अंतिम परीक्षण पारित होने पर वे अक्टूबर से बड़े पैमाने पर आपूर्ति शुरू कर देंगे। इंतजार हुआ खत्म- अभ केवल 2 दिन बाकी है कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि टीकाकरण अभियान की लागत सरकार वहन करेगी। अब तक वैक्सीन ने अच्छे परिणाम दिए हैं लेकिन हम जानते हैं कि अंतिम चरण बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस वैक्सीन की ताकत का अंदाजा तभी लगाया जा सकता है, जब लोगों के बीच बड़े पैमाने पर प्रतिरोधक क्षमता विकसित की जाए। रूसी वैज्ञानिकों का दावा है कि नैदानिक ​​परीक्षण के दौरान जिन लोगों को टीका लगाया गया था, उन्हें कोरोना वायरस से लड़ने की ताकत दी गई थी।