दुष्यंत चौटाला से जब पूछा गया कि कांग्रेस की जगह भाजपा को क्यों समर्थन दिया, मिला ये बड़ा जवाब दिया

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 का परिणाम आते ही भारतीय जनता पार्टी में खलबली मच गई थी। वहीं कांग्रेस पार्टी खुशी से झूम रही थी। इसकी वजह थी भाजपा को 40 सीटें मिलना और कांग्रेस 31 सीटों पर जजपा और निर्दलीयों के समर्थन से सरकार बनाने के सपने देखने लगी थी। हालांकि शुक्रवार को भाजपा ने दांव खेला और जजपा को अपने पाले में कर लिया। जजपा प्रमुख दुष्यंत चौटाला से जब पूछा गया कि कांग्रेस की जगह भाजपा को क्यों समर्थन दिया, इस पर उन्होंने ये बड़ा जवाब दिया। भारतीय जनता पार्टी और जजपा के बीच शुक्रवार रात 8 बजे समझौता हो गया। दुष्यंत समझौता फाइनल करने के लिए दिल्ली आए थे। यहां उनकी मुलाकात अमित शाह से हुई और दोनों दलों के बीच गठबंधन हो गया। जो फॉर्मूला तय हुआ है उसके मुताबिक अब दुष्यंत चौटाला हरियाणा सरकार में उप मुख्यमंत्री होंगे जबकि भारतीय जनता पार्टी का मुख्यमंत्री होगा। चुनाव परिणाम आने के बाद से ही सस्पेंस बरकरार था कि आखिर चौटाला किस दल को समर्थन देंगे। अंत में चौटाला ने भारतीय जनता पार्टी के साथ जाने का फैसला किया। जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस की जगह उन्होंने भाजपा को समर्थन क्यों दिया तो वो बोले कि प्रदेश में एक स्थाई सरकार देने के लिए यह करना जरूरी था। इसीलिए वो बीजेपी के साथ आए। इसके साथ ही दुष्यंत बोले कि वो अमित शाह जी और नड्डा जी का धन्यवाद करते हैं।
 

दुष्यंत चौटाला से जब पूछा गया कि कांग्रेस की जगह भाजपा को क्यों समर्थन दिया, मिला ये बड़ा जवाब दिया

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 का परिणाम आते ही भारतीय जनता पार्टी में खलबली मच गई थी। वहीं कांग्रेस पार्टी खुशी से झूम रही थी। इसकी वजह थी भाजपा को 40 सीटें मिलना और कांग्रेस 31 सीटों पर जजपा और निर्दलीयों के समर्थन से सरकार बनाने के सपने देखने लगी थी। हालांकि शुक्रवार को भाजपा ने दांव खेला और जजपा को अपने पाले में कर लिया। जजपा प्रमुख दुष्यंत चौटाला से जब पूछा गया कि कांग्रेस की जगह भाजपा को क्यों समर्थन दिया, इस पर उन्होंने ये बड़ा जवाब दिया। भारतीय जनता पार्टी और जजपा के बीच शुक्रवार रात 8 बजे समझौता हो गया। दुष्यंत समझौता फाइनल करने के लिए दिल्ली आए थे। यहां उनकी मुलाकात अमित शाह से हुई और दोनों दलों के बीच गठबंधन हो गया। जो फॉर्मूला तय हुआ है उसके मुताबिक अब दुष्यंत चौटाला हरियाणा सरकार में उप मुख्यमंत्री होंगे जबकि भारतीय जनता पार्टी का मुख्यमंत्री होगा। चुनाव परिणाम आने के बाद से ही सस्पेंस बरकरार था कि आखिर चौटाला किस दल को समर्थन देंगे। अंत में चौटाला ने भारतीय जनता पार्टी के साथ जाने का फैसला किया। जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस की जगह उन्होंने भाजपा को समर्थन क्यों दिया तो वो बोले कि प्रदेश में एक स्थाई सरकार देने के लिए यह करना जरूरी था। इसीलिए वो बीजेपी के साथ आए। इसके साथ ही दुष्यंत बोले कि वो अमित शाह जी और नड्डा जी का धन्यवाद करते हैं।