11 सीटों में हार से नाराज मायावती ने पहली बार उठाया बड़ा कदम, बसपा नेताओं से बोलीं…

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने हाल ही में हुए यूपी उपचुनाव की हार पर अब तक कोई कदम नहीं उठाया था। उन्होंने अब तक चुप्पी साध रखी थी। हालांकि पहली बार बसपा प्रमुख ने बड़ा कदम उठा लिया है। उन्होंने बड़ा आदेश देते हुए संगठन में बड़ा बदलाव कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने नेताओं को दो टूक चेतावनी भी दे दी है। बसपा ने यूपी उपचुनाव में सभी 11 सीटों पर हार दर्ज की थी। ये हार मायावती के लिए बहुत बड़ा झटका थीं। अब तक उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया था। पहली बार उन्होंने खराब प्रदर्शन पर बड़ी बैठक की और दमदार फैसला ले लिया। बसपा सुप्रीमो ने अब पार्टी में समन्वयक मंडल और जोन व्यवस्था को भंग कर दिया है। अब बसपा में इसकी जगह सेक्टर व्यवस्था लागू होने वाली है। मायावती ने बसपा नेताओं को भी चेतावनी दे दी है। उन्होंने दो टूक कह दिया है कि अगर काम नहीं हो पा रहा है तो दूसरी जगह देख सकते हैं। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कार्यकर्ताओं को भी अभी से साल 2022 में होने जा रहे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियां करने के आदेश दे दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने उपचुनाव में हार क्यों हुई, इस पर रिपोर्ट भी तलब कर ली है।
 

11 सीटों में हार से नाराज मायावती ने पहली बार उठाया बड़ा कदम, बसपा नेताओं से बोलीं…

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने हाल ही में हुए यूपी उपचुनाव की हार पर अब तक कोई कदम नहीं उठाया था। उन्होंने अब तक चुप्पी साध रखी थी। हालांकि पहली बार बसपा प्रमुख ने बड़ा कदम उठा लिया है। उन्होंने बड़ा आदेश देते हुए संगठन में बड़ा बदलाव कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने नेताओं को दो टूक चेतावनी भी दे दी है। बसपा ने यूपी उपचुनाव में सभी 11 सीटों पर हार दर्ज की थी। ये हार मायावती के लिए बहुत बड़ा झटका थीं। अब तक उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया था। पहली बार उन्होंने खराब प्रदर्शन पर बड़ी बैठक की और दमदार फैसला ले लिया। बसपा सुप्रीमो ने अब पार्टी में समन्वयक मंडल और जोन व्यवस्था को भंग कर दिया है। अब बसपा में इसकी जगह सेक्टर व्यवस्था लागू होने वाली है। मायावती ने बसपा नेताओं को भी चेतावनी दे दी है। उन्होंने दो टूक कह दिया है कि अगर काम नहीं हो पा रहा है तो दूसरी जगह देख सकते हैं। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कार्यकर्ताओं को भी अभी से साल 2022 में होने जा रहे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियां करने के आदेश दे दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने उपचुनाव में हार क्यों हुई, इस पर रिपोर्ट भी तलब कर ली है।