राहुल गांधी ने किया वंदे मातरम का अपमान और साथ में सिद्धारमैया भी थे..

0
345
cm siddaramaiah dozing off rally

cm siddaramaiah dozing off rally: भारतीय जनता पार्टी ने कर्नाटक में एक रैली के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम का अपमान करने का आरोप लगाया है। भाजपा का आरोप है कि कर्नाटक में एक रैली के दौरान उन्होंने राष्ट्रगीत ‘वंदे मातरम’ का अपमान किया। भाजपा आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ने टीवी 9 का एक वीडियो शेयर किया है। साथ ही मालवीय ने ट्वीट कर लिखा है, ‘वेल डन राहुल गांधी।’ कर्नाटक के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के.सी वेणुगोपाल उनसे वंदे मातरम के लिए खड़े होने के लिए कहते हैं, इस पर राहुल गांधी कहते हैं कि प्लीज इसे जल्दी कराइए। इसके बाद वेणुगोपाल ने वंदे मातरम गाने वाले व्यक्ति के पास जाकर कहा कि सिर्फ एक लाइन ही गाइए।

cm siddaramaiah dozing off rally

cm siddaramaiah dozing off rally

हैरान रह जाएंगे आप सिद्धारमैया सरकार की ऐसी हरकत देखकर…

पहले से ही विवादों में रही सिद्धारमैया सरकार के साथ एक और विवाद जुड़ गया है। राज्य में एक तरफ सूखा पड़ने से फसल बर्बाद होने पर जब किसान आत्महत्या कर रहे थे, तब कर्नाटक की कांग्रेस सरकार शाही उत्सव मना रही थी। सरकार का यह जलसा बेहद खास था क्योंकि इसमें सरकार के नेताओं के साथ आम आदमियों के लिए जो यहां पधारे थे काफी महंगे खाने की थाली का इंतजाम किया गया था। इस सरकारी जलसे में पहुंचे नेताओं को 1700 सौ रुपये थाली के लंच की व्यवस्था थी। यह आयोजन हुआ था 25 अक्टूबर 2017 को। मौका था.

cm siddaramaiah dozing off rally

राज्य सचिवालय भवन यानी ‘विधान सौध’ के 60 साल पूरे होने डायमंड जुबली सेरेमनी (हीरक जयंती) का। सूखे से पैदा हुए संकट के बावजूद सूबे में पिछले साल हुआ यह खर्चीला आयोजन मौजूदा समय चुनावी मुद्दा बनता दिख रहा है। विपक्ष इसके जरिए कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार पर जनहितों को लेकर उदासीन होने का आरोप लगा रही है।

सरकार ने लिया सूखे से निपटने का प्रयास

cm siddaramaiah dozing off rally

सरकार ने विधानसभा भवन में उत्सव का आयोजन तब किया, जब कि सूखे से राज्य की अर्थव्यवस्था संकट के दौर से गुजर रही थी। फसल बर्बाद होने पर लगातार किसानों के आत्महत्या करने की खबरों के बाद केंद्र सरकार ने 29 जून 2017 को सूखाग्रस्त कर्नाटक को 795 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी थी।इससे पिछले साल राज्य में सूखे के हालात का अंदाजा लगाया जा सकता है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने खुद बयान जारी कर कहा था कि राज्य में सूखे के कारण 25 हजार करोड़ रुपये की फसल बर्बाद हुई। तब कर्नाटक सरकार ने 4702.54 करोड़ का पैकेज मांगा था। एकआंकड़े के मुताबिक सूखे के चलते कर्नाटक में करीब एक हजार किसानों के आत्महत्या की थी।

और पढ़े: मुझे तो Rahul Gandhi के हिन्दू होने पर भी संदेह है !

——