हिंदी दिवस पर क्या खूबसूरत कविता लिखी है इस साहित्यकार ने, सीधा आपके दिल को छू जाएगी !

0
1113
14 September Hindi Diwas 2018 Poem

14 September Hindi Diwas 2018 Poem: आज 14 सितम्बर है आज के दिन पुरे हिंदुस्तान में हिंदी दिवस मनाया जाता है! तमाम स्कूलों, ऑफिस या अनेक संस्थानों में इस शुभ अवशर को बड़ी मात्रा आयोजित पर हिंदी को पूरा प्रोत्शाहन दिया जाता है! आप तो जानते ही है ऐसे अवसरों पर अनेक कविताये, छंद-विछंद किये बिना आज का दिन अधूरा रहता है! इसलिए अनेक महान कलाकार अपने शब्दों में आज के इस अवसर पर अपनी कोई न कोई कविता लिख कर लोगो तक हिंदी को बढ़ावा देने के लिए अपनी अपनी कविताये लिखते है! राजभाषा हिंदी को बढ़ावा देने कई जगहों पर बड़ी उत्साह से प्रतियोगिता भी की जाती है!

14 September Hindi Diwas 2018 Poem-

बहुत से साहित्यकारों ने हिंदी भाषा के प्रति अपना प्रेम उजागर किया है! इतिहास के पन्नो में भी अनेक साहित्यकारों ने हिंदी को प्रोत्शाहन देते हुए अपने दिल की बाते कही है! तो कुछ ही इस बार भी हुआ एक लेकीखा ने क्या खुबशुरत अंदाज में आज के इस अवसर पर खूबसूरत लाइन कही! तो आइये आपको बता देते है हिंदी के प्रति इनका कितना प्यार है!

14 September Hindi Diwas 2018 Poem

राष्ट्र की पहचान है हिंदी
हिन्द का अभिमान है हिंदी,
शब्दों का भंडार हिंदी
भावों की खान है हिंदी,
निजता का एहसास दिलाती है
हिंदी हर मन में स्नेह उपजाती,
सब मिलकर हिंदी अपनाये
विदेशी त्याग हिंदी बन जाये,
राज भाषा अब तक हिंदी
प्रण ले राष्ट्रभाषा हो हिंदी,
एक लौ हिंदी की आज जलाये
भ्र्म-अज्ञान का तिमिर मिटाये,
हिंदी में कर हस्ताक्षर अपने
हिंदुस्तानी की पहचान पाए,
माँ भारती के भाल पर चमकती हिंदी
हिंदुस्तानी भाषाओ की सहोदरी है हिंदी,
हिंदी मेरे लफ्ज़ो में, रूह में हिंदी बसती है,
हिंदी पर गर्व नीलपरी, हिंदी से मुझे प्यार है!!

जय हिंदी !! जय हिंदी भाषा !! जय हिंदी !!
@नीलू नीलपरी

और देखें – “आत्महत्या विकल्प नहीं” परंतु गलत सिस्टम (चाहे पारिवारिक, सामाजिक, राजनैतिक या जीविका से जुड़े मुद्दों) के खिलाफ घोर हताशा की स्थिति को दर्शाता है!