Apache helicopter deployed Pathankot airbase VIDEO: दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर पठानकोट एयरबेस पर तैनात हुआ

Apache helicopter deployed Pathankot airbase: पाकिस्तानी सीमा के पास पठानकोट एयरबेस पर अमेरिका के आठ आधुनिक अपाचे हेलीकॉप्टर तैनात किए गए हैं! अपाचे हेलीकॉप्टरों को तैनाती से पहले वाटर कैनन के साथ सलामी दी गई थी

0
412
Apache helicopter deployed Pathankot airbase, pache attack helicopters, Apache helicopters, Pathankot airbase, Apache helicopters inducted at Pathankot airbase,water cannon salute to Apache attack helicopters, पठानकोट एयरबेस, अपाचे हेलिकॉप्टर apache chopper, President Boeing India, Salil Gupte, handed over the ceremonial key of Apache attack helicopter to Air Chief Marshal BS ,News,National News national news hindi news

Apache helicopter deployed Pathankot airbase: भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ समय से तनाव जारी है! इस बीच, पाकिस्तानी सीमा के पास पठानकोट एयरबेस पर अमेरिका के आठ आधुनिक अपाचे हेलीकॉप्टर (Apache helicopter) तैनात किए गए हैं! अपाचे हेलीकॉप्टरों को तैनाती से पहले वाटर कैनन के साथ सलामी दी गई थी!

पठानकोट एयर बेस पर तैनाती से पहले एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ और वेस्टर्न एयर कमांडर एयर मार्शल आर नांबियार द्वारा अपाचे हेलीकॉप्टरों की पूजा की गई! बोइंग इंडिया के अध्यक्ष सलिल गुप्ते ने अपाचे हमले के हेलीकॉप्टर के एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ को चाबी सौंपी! इस एयरबेस पर अपाचे की तैनाती भारतीय एयरफोर्स की ताकत को और बढ़ाएगी!

अपाचे हेलीकॉप्टरों की नवीनतम तकनीक

बोइंग इंडिया के अध्यक्ष सलिल गुप्ते ने कहा कि यह भारतीय वायु सेना के 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों (Apache helicopter) में से आठ मिला है! यह अपाचे एएच -64 ई वर्जन है! इसका उपयोग अमेरिकी सेना द्वारा भी किया जाता है! यह अपाचे हेलीकॉप्टरों की नवीनतम तकनीक है!

अमेरिकी सेना भी इस्तेमाल करती है

भारतीय वायु सेना पठानकोट और चीन सीमा की सुरक्षा के लिए असम के जोरहाट में अमेरिका से आने वाले 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों (Apache helicopter) को तैनात करेगी! एएच -64 ई अपाचे दुनिया के सबसे उन्नत बहु-भूमिका वाले लड़ाकू हेलीकाप्टरों में से एक है! इसका उपयोग अमेरिकी सेना द्वारा भी किया जाता है! इससे वायु सेना की युद्धक क्षमता में वृद्धि होगी!

दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर

एयर चीफ बीएस धनोआ ने कहा कि यह दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर है! इसमें कई मिशनों को पूरा करने की क्षमता है! अपनी तैनाती के साथ, वायु सेना हमले हेलीकाप्टरों के एक आधुनिक संस्करण से सुसज्जित हो गई है! ये हेलीकॉप्टर Mi-35 हेलीकॉप्टर की जगह लेंगे! यह दुनिया भर के कई देशों द्वारा संचालित एक उन्नत बहु-मिशन हेलिकॉप्टर है! मार्च 2020 तक वायु सेना को पूर्ण हेलीकॉप्टर मिल जाएंगे! इन हेलीकॉप्टरों को भारत के पश्चिमी क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा!

अनुबंध पर 2015 में हस्ताक्षर किए गए थे

सितंबर 2015 में, वायु सेना ने अमेरिकी सरकार और बोइंग लिमिटेड के साथ 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों पर हस्ताक्षर किए! बोईंग द्वारा 27 जुलाई को 22 हेलीकॉप्टरों में से पहले चार को वायु सेना को सौंप दिया गया था! इस सौदे के लगभग चार साल बाद, हिंडन एयर बेस पर भारतीय वायु सेना के अपाचे हेलीकॉप्टरों का पहला जत्था पहुंचाया गया! इसके अलावा, रक्षा मंत्रालय ने वर्ष 2017 में 4,168 करोड़ रुपये की लागत से सेना के लिए बोइंग से छह अपाचे हेलीकॉप्टरों की खरीद को मंजूरी दी थी!

शेड्यूल से पहले, पहली डिलीवरी

यह हेलीकॉप्टरों का पहला बेड़ा है! हेलिकॉप्टर पहली डिलीवरी अनुसूची से आगे है! भारतीय वायु सेना वर्ष 2020 तक 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों के बेड़े का संचालन करेगी! AH-64E अपाचे ने वायु सेना के लिए जुलाई 2018 में पहली सफल उड़ान पूरी की! वायु सेना के पहले बैच ने वर्ष 2018 में अमेरिका में अपाचे को उड़ाने के लिए अपना प्रशिक्षण शुरू किया!

यह हेलीकॉप्टर सटीकता के साथ घातक

वायु सेना के पीआरओ अनुपम बनर्जी ने कहा कि अपाचे हेलीकॉप्टरों को औपचारिक रूप से वायु सेना में शामिल किया जा रहा है! वर्तमान में हमारे पास 8 विमान हैं! 22 विमान चरणबद्ध तरीके से पहुंचेंगे और इन सभी को भारतीय वायु सेना में शामिल किया जाएगा! हमने पहले भी हेलीकॉप्टर हमलों को अंजाम दिया है, लेकिन यह हेलीकॉप्टर बड़ी सटीकता के साथ गोलीबारी करता है!

भारत इसका उपयोग करने वाला 14 वाँ देश है

अपाचे हेलीकॉप्टरों को भारतीय वायु सेना की भविष्य की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया गया है! बोइंग ने दुनिया भर में 2,200 से अधिक अपाचे हेलीकॉप्टरों पर हस्ताक्षर किए हैं! भारत इसका इस्तेमाल करने वाला 14 वां देश होगा!

पठानकोट पर क्यों तैनात

पठानकोट एयरबेस रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है! एयरबेस पाकिस्तानी सीमा से लगभग 150 किलोमीटर दूर है! दिल्ली से इसकी दूरी लगभग 450 किमी है! इतना ही नहीं, पठानकोट एयरबेस में घुसकर 5 जनवरी 2016 को पाकिस्तान के 5 आतंकियों पर हमला किया गया था! उन्हें खत्म करने के लिए एनएसजी कमांडो को दिल्ली से बुलाना पड़ा! यही नहीं, 1965 और 1971 की लड़ाई में पठानकोट एयरबेस पर भी हमला हुआ था! पाकिस्तान ने इस एयरबेस के कारण सियालकोट में भी टैंक तैनात किए हैं! ऐसे में इन हेलीकॉप्टरों को तैनात करके इस स्थिति में तुरंत बड़ी कार्रवाई की जा सकती है!