बीजेपी के इस सांसद ने शुरू की जन रसोई मिलेगा मात्र 1 रूपए में भरपेट खाना

0
79

भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र पूर्वी दिल्ली में एक जन रसोई खोलने जा रहें हैं. इस रसोई में दुपहर के समय जरूरतमंद लोग महज़ एक रूपया देकर अपने लिए भरपेट खाना ले सकेंगे. इससे पहले भी गौतम गंभीर ने दिल्ली में कचरे का पहाड़ को ख़त्म करने के लिए मशीन और दिल्ली से वायु प्रदुषण ख़त्म करने के लिए फिल्टर्स लगाए थे.

गौतम गंभीर ने मीडिया को संबोधित करते हुए ब्यान दिया की, “हम गुरुवार (24 दिसंबर, 2020) को गाँधी नगर में पहले भोजनालय की शुरुआत करेंगे, जिसके बाद गणतंत्र दिवस के मौके पर ऐसा ही एक भोजनालय अशोक नगर में भी खोला जाएगा. मेरा हमेशा से मानना रहा है कि जाति, पंथ, धर्म और वित्तीय हालात से परे सभी को स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करने का अधिकार है. यह देखकर अफसोस होता है कि बेघर और बेसहारा लोगों को दिन में दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो पाती.”

गौतम गंभीर का कहना है की यह महज़ शुरुआत भर होगा, हम आगे पूर्वी दिल्ली के दस विधानसभा क्षेत्रों के प्रतेयक सीट पर कम से कम एक भोजनालय खोलेंगे और आने वाले समय पर अगर संख्या को बढ़ाना भी पड़ा तो बढ़ाएंगे. गौतम गंभीर के ऑफिस से इस सन्दर्भ में ब्यान आया की, “देश के सबसे बड़े थोक कपड़ा बाजारों में शुमार गाँधी नगर में खोली जाने वाली ‘जन रसोई’ पूरी तरह आधुनिक होगी, जिसमें जररूतमंदों को एक रुपये में भोजन उपलब्ध कराया जाएगा.”

बताया जा रहा है भोजनालय में एक वक़्त में 100 लोगों के बैठने की व्यवस्था की जाएगी, लेकिन क्योंकि अभी महामारी का समय है इसलिए फिलहाल बैठने के लिए उचित दूरी के अनुसार मात्र 50 लोग ही एक बार में बैठ सकेंगे. भोजन में गरीबों को दोपहर के समय चावल, दालें और सब्जी दी जाएगी. इस पूरी परियोजना का खर्च गौतम गंभीर फाउंडेशन तथा सांसद के निजी संसाधनों से की जाएगी. गौतम का कहना है की, हम इसके लिए सरकारी पैसे पर निर्भर नहीं रह सकते.

दिल्ली में अगर सांसदों की बात की जाये तो मोदी के नाम पर भले ही देश भर में कई सांसद जीते हो. लेकिन जमीनी स्तर से जुड़कर काम करने वाले सांसद आज भी चुनिंदा ही हैं और उन चुनिंदा सांसदों में से एक नाम गौतम गंभीर का भी हैं. जो केवल चुनावी वादे या फिर चुनावी प्रचार नहीं करते बल्कि जमीन से जुड़कर ऐसा कार्य करते है जो आज से पहले दिल्ली की जनता के लिए किसी ने न किया हो. फिर चाहे दिल्ली में कचरे के पहाड़ को कम करने के लिए मशीने लगवाना हो या फिर वायु प्रदुषण कम करने के लिए एयर-प्योरिफायर.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here