दिग्विजय सिंह दे रहे हैं 18 साल से हिंदू विरोधी बयान, जानिए पूरा मामला

0
279
Digvijay-Singh-has-been-giving-anti-Hindu-statements-for-18-years,-know-the-whole-matter

भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस (Congress) आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है. कांग्रेस के अंदर नेताओं की गुटबाजी को लेकर नेताओं के बागी तेवर तक देखने को मिल रहे हैं. ऐसी स्थिति में महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता ने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र लिखकर अपने ही खेमे के नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज की है. महाराष्ट्र के नेता विश्व बंधु ने कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से अपील की है कि वह दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को हिंदू विरोधी बयानबाजी करने से रोक दें वरना कांग्रेस खतरे में पड़ सकती है.

ध्यान देने वाली बात यह है कि विश्व बंधु ने अपने इस पत्र में सोनिया गांधी से कहा है कि दिग्विजय सिंह पिछले 18 सालों से हिंदू विरोधी पक्ष रखते हुए आ रहे हैं और इसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ता है. विश्वबंधु ने पार्टी आलाकमान से दिग्विजय सिंह को चुप कराने की मांग की है और यह भी कहा है कि अगर पार्टी ऐसा नहीं करती है तो उसको आगे आने वाले चुनावों में भी नुकसान उठाना पड़ सकता है,

महाराष्ट्र के कांग्रेसी के कद्दावर नेता विश्व बंधुओं ने अपने पत्र में दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा की 2003 – जब से सिंह मध्यप्रदेश की सत्ता से बेदखल हुए है, तब से वो हिंदू विरोधी भाषा बोल रहे हैं और पार्टी को लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं.

अपने पत्र में उन्होंने आगे लिखा की,‘दिग्विजय सिंह एक विशेष वर्ग के वोटरों को खुश करने के लिए लगातार हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने में लगे हैं. पिछले दिनों कश्मीर में धारा 370 को लेकर बात करके उन्होंने पार्टी के बचे खुचे हिंदू वोटरों को भी नाराज़ कर दिया है.’

गौरतलब है कि विश्वबंधु ने पत्र में कांग्रेस को मिल रही विधानसभा चुनाव में हार का ठीकरा भी दिग्विजय सिंह के सिर पर फोड़ते हुए लिखा,‘कांग्रेस पार्टी ने उन्हें गोवा का प्रभारी बनाया जहां विधानसभा चुनावों में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद भी हम सरकार बनाने में नाकाम रहे.’

ध्यान देने वाली बात यह है कि विश्वबंधु ने अपने पत्र पर तवज्जो देने के लिए दिग्विजय सिंह का कार्टून बनाकर आगे लिखा,“इन सबके बावजूद भी उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां, पद और राज्यसभा की सदस्यता दिया जाना वोटरों की मानसिकता पर गलत असर डाल रहा है। कृपया मेरी बातों को गंभीरता से लेते हुए उनके खिलाफ तुरंत कार्रवाई करें.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here