370 हटने के बाद, बीजेपी ने लद्दाख में लहराया अपनी जीत का परचम, कांग्रेस के खाते में आई इतनी सीट

BJP WIN 15 CONGRESS WIN 9 SEAT IN LADAKH: धारा 370 और 35ए हटने के बाद लोगों का जम्मू कश्मीर में लोगों का विश्वास बीजेपी की तरफ बढ़ा हैं. यही कारण हैं की लेह लद्दाख में हुए स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद के चुनाव में बीजेपी को 26 में से 15 सीटों में जीत हासिल हुई हैं. कांग्रेस की बात करें जो धारा 370 और 35ए वापिस लाने का समर्थन करती हैं, उसे भी लेह लद्दाख में 9 सीटें हासिल हुई हैं. बीजेपी की इस जीत पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्वीटर पर ट्वीट करते हुए कहा की, "लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद में भाजपा की जीत, लेह चुनाव ऐतिहासिक है, 26 में से 15 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की है. मैं जाम्यांग शेरिंग नामग्याल और बीजेपी की लद्दाख इकाई के सभी कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं. भाजपा में विश्वास के लिए लद्दाख के लोगों का आभार." इन चुनावों के लेकर एक अधिकारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया की, छठा लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद-लेह चुनाव 370 हटने के बाद पहली बार पूरे जिले में हुआ. उन्होंने कहा की, इस चुनाव में आम आदमी पार्टी सहित देश के अलग अलग पार्टियों और कुछ आज़ाद उम्मीदवारों को मिलाकर 94 उम्मीदवार इस चुनाव मैदान में उतरे थे. 65.07% पड़े वोटों के आधार पर 26 उम्मीदवारों को विजयी घोसित किया गया. अधिकारी ने बताया की इस चुनाव में 45,025 महिलाओं सहित 89,776 मतदाता 26 निर्वाचन क्षेत्रों मे फैले 294 मतदान केंद्रों में अपना वोट देने अधिकार प्राप्त था. इसके साथ ही महामारी के चलते नियमित दूरी पर खड़े रहना, मास्क लगाना और सेनिटाइज़र का इस्तेमाल करना जरूरी कर दिया गया था. उम्मीदवारों की बात करें तो इस चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस ने अपने 26-26 उम्मीदवार चुनाव के लिए मैदान में उतारे थे. आम आदमी पार्टी ने भी इस चुनाव में 19 उम्मीदवार मैदान में उतारे थे. एक तरफ जहां स्थानीय पार्टियां जैसे की नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) जैसी पार्टियों ने इस चुनाव से दूर रहने का फैसला किया वहीं इस चुनाव में आज़ाद उम्मीदवारों की संख्या 23 रही. स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद में वैसे तो 30 सीटें थी, लेकिन 4 सीटों पर केंद्र सरकार द्वारा अपना पार्षद नामित करती हैं.
 

370 हटने के बाद, बीजेपी ने लद्दाख में लहराया अपनी जीत का परचम, कांग्रेस के खाते में आई इतनी सीट

BJP WIN 15 CONGRESS WIN 9 SEAT IN LADAKH: धारा 370 और 35ए हटने के बाद लोगों का जम्मू कश्मीर में लोगों का विश्वास बीजेपी की तरफ बढ़ा हैं. यही कारण हैं की लेह लद्दाख में हुए स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद के चुनाव में बीजेपी को 26 में से 15 सीटों में जीत हासिल हुई हैं. कांग्रेस की बात करें जो धारा 370 और 35ए वापिस लाने का समर्थन करती हैं, उसे भी लेह लद्दाख में 9 सीटें हासिल हुई हैं. 370 हटने के बाद, बीजेपी ने लद्दाख में लहराया अपनी जीत का परचम, कांग्रेस के खाते में आई इतनी सीट बीजेपी की इस जीत पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्वीटर पर ट्वीट करते हुए कहा की, "लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद में भाजपा की जीत, लेह चुनाव ऐतिहासिक है, 26 में से 15 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की है. मैं जाम्यांग शेरिंग नामग्याल और बीजेपी की लद्दाख इकाई के सभी कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं. भाजपा में विश्वास के लिए लद्दाख के लोगों का आभार." इन चुनावों के लेकर एक अधिकारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया की, छठा लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद-लेह चुनाव 370 हटने के बाद पहली बार पूरे जिले में हुआ. उन्होंने कहा की, इस चुनाव में आम आदमी पार्टी सहित देश के अलग अलग पार्टियों और कुछ आज़ाद उम्मीदवारों को मिलाकर 94 उम्मीदवार इस चुनाव मैदान में उतरे थे. 65.07% पड़े वोटों के आधार पर 26 उम्मीदवारों को विजयी घोसित किया गया. अधिकारी ने बताया की इस चुनाव में 45,025 महिलाओं सहित 89,776 मतदाता 26 निर्वाचन क्षेत्रों मे फैले 294 मतदान केंद्रों में अपना वोट देने अधिकार प्राप्त था. इसके साथ ही महामारी के चलते नियमित दूरी पर खड़े रहना, मास्क लगाना और सेनिटाइज़र का इस्तेमाल करना जरूरी कर दिया गया था. 370 हटने के बाद, बीजेपी ने लद्दाख में लहराया अपनी जीत का परचम, कांग्रेस के खाते में आई इतनी सीट उम्मीदवारों की बात करें तो इस चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस ने अपने 26-26 उम्मीदवार चुनाव के लिए मैदान में उतारे थे. आम आदमी पार्टी ने भी इस चुनाव में 19 उम्मीदवार मैदान में उतारे थे. एक तरफ जहां स्थानीय पार्टियां जैसे की नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) जैसी पार्टियों ने इस चुनाव से दूर रहने का फैसला किया वहीं इस चुनाव में आज़ाद उम्मीदवारों की संख्या 23 रही. स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद में वैसे तो 30 सीटें थी, लेकिन 4 सीटों पर केंद्र सरकार द्वारा अपना पार्षद नामित करती हैं.