CAA: किसी ने तो बुलाया होगा विरोध के लिए, आया सच सामने

जब से देश में नागरिकता संशोधन बिल एक्ट पास होने की बात सुनाई है तभी से हर एक राजनीतिक नेता इस मुद्दे पर अपनी राजनीति खेलना चाहता है! इन नेताओं के इशारों पर तो मुस्लिम धर्मगुरु भी काम करते हैं! जाहिर है कि कल देश के गृह मंत्री ने बिल्कुल साफ लफ्जों में यह बात कही थी कि यह कानून वापस नहीं होगा किसी भी हालात में इस कानून को वापस नहीं लिया जाएगा! गृहमंत्री कि इस बात से यह बात तो सिद्ध हो गई है कि चाहे विपक्ष पार्टी लोगों को इस बिल के बारे में कितना भी उकसा ले लेकिन यह बिल तो वापस नहीं होगा! आपकी जानकारी के लिए बता दें इस नागरिकता संशोधन बिल पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया था! तो आज सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बिल को रद्द करने से साफ मना कर दिया! सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि यह बिल अंतरराष्ट्रीय नियम, असम समझौते और भारत के संविधान का उल्लंघन नहीं करता है! इसलिए इस कानून को रद्द नहीं किया जा सकता! क्योंकि जवाब सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी आ गया है और सभी पार्टियों ने अपना अपना दमखम भी लगा लिया है! तो अब रहते हैं कुछ मुस्लिम धर्मगुरु, कल हुए दिल्ली में विरोध के उसी क्षेत्र के निवासी ने बताया कि कई दिनों से आसपास की मस्जिदों से ऐलान किया जा रहा था कि कैब और एनआरसी की विरोध के लिए इकट्ठा हो जाए! अब यह बात कितनी सही है या कितनी गलत इसका मालूम तो पुलिस प्रशासन ही लगाएगी! परंतु अगर ऐसा हुआ है तो इस सभी विरोध के पीछे साजिश की बू आती है! [embed]https://www.facebook.com/OurIndiaFirst19/videos/1062498764095238[/embed]
 

CAA: किसी ने तो बुलाया होगा विरोध के लिए, आया सच सामने

जब से देश में नागरिकता संशोधन बिल एक्ट पास होने की बात सुनाई है तभी से हर एक राजनीतिक नेता इस मुद्दे पर अपनी राजनीति खेलना चाहता है! इन नेताओं के इशारों पर तो मुस्लिम धर्मगुरु भी काम करते हैं! जाहिर है कि कल देश के गृह मंत्री ने बिल्कुल साफ लफ्जों में यह बात कही थी कि यह कानून वापस नहीं होगा किसी भी हालात में इस कानून को वापस नहीं लिया जाएगा! गृहमंत्री कि इस बात से यह बात तो सिद्ध हो गई है कि चाहे विपक्ष पार्टी लोगों को इस बिल के बारे में कितना भी उकसा ले लेकिन यह बिल तो वापस नहीं होगा! आपकी जानकारी के लिए बता दें इस नागरिकता संशोधन बिल पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया था! तो आज सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बिल को रद्द करने से साफ मना कर दिया! सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि यह बिल अंतरराष्ट्रीय नियम, असम समझौते और भारत के संविधान का उल्लंघन नहीं करता है! इसलिए इस कानून को रद्द नहीं किया जा सकता! क्योंकि जवाब सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी आ गया है और सभी पार्टियों ने अपना अपना दमखम भी लगा लिया है! तो अब रहते हैं कुछ मुस्लिम धर्मगुरु, कल हुए दिल्ली में विरोध के उसी क्षेत्र के निवासी ने बताया कि कई दिनों से आसपास की मस्जिदों से ऐलान किया जा रहा था कि कैब और एनआरसी की विरोध के लिए इकट्ठा हो जाए! अब यह बात कितनी सही है या कितनी गलत इसका मालूम तो पुलिस प्रशासन ही लगाएगी! परंतु अगर ऐसा हुआ है तो इस सभी विरोध के पीछे साजिश की बू आती है! [embed]https://www.facebook.com/OurIndiaFirst19/videos/1062498764095238[/embed]