Chandrayaan-2: चाँद से 2.1 किमी दूर रह गया भारत, जानें क्यों हुआ नाकाम

0
166

Chandrayaan-2 India remains 2.1 km away from the moon why: जैसा कि आपको पता है की चंद्रयान-2 का संपर्क टूट चुका है! अब कहां गायब हो गया इसका कोई पता नहीं है वह तो इसरो अपनी छानबीन कर ही रहा है! जब उसे वापस संपर्क होगा तब पता चलेगा कि उसकी स्थिति क्या है! बात करते हैं चंद्रमा पर चंद्रयान की लैंडिंग एक मुश्किल ऑपरेशन था! बताते हैं चंद्रमा पर लैंडिंग के बारे में?

जैसा कि हमने अपने किताबों में पढ़ते हैं चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह है! चन्द्रमा के पास वातावरण भी नहीं है! जिसका मतलब ये हुआ कि अगर हम किसी पैरासूट से भी किसी वस्तु की गति को धीमा करना चाहे तो भी नहीं कर पाएंगे! इसलिए सिर्फ एक मात्र विकल्प बचता है जिसे कहते है संचालित अवतरण! जिसका मतलब यह होता है कि लेंडर का वेग (वेग: displacement/time, मतलब कि किसी वस्तु के विस्थापन की दर को या एक निश्चित दिशा में प्रति सेकंड वस्तु द्वारा तय की दूरी को वेग कहते हैं) अपने खुद के रॉकेट इंजन के साथ लगातार काम होता जाता है!

सॉफ्ट लैंडिंग था मुद्दा

लैंडर, विक्रम को चंद्रमा की सतह पर क्षैतिज रूप से उतारा गया क्योंकि यह नीचे उतरा था! रॉकेट इंजनों ने उस क्षैतिज गति को रोक दिया! जबकि उसी समय टचडाउन के क्षण से पहले अवतरण की दर को शून्य के करीब नियंत्रित किया! इसे “सॉफ्ट लैंडिंग” के रूप में जाना जाता है!

इस समय, हम स्पष्ट नहीं हैं कि विक्रम प्रभाव पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया या उसके संचार प्रणाली में कुछ गड़बड़ हो गई! पूर्व स्पष्टीकरण अधिक संभावना प्रतीत होता है! क्योंकि स्क्रीन पर प्रक्षेपवक्र संपर्क के नुकसान से पहले नियोजित पथ मिनटों से भटकता हुआ दिखाई देता है!

अंतिम दृष्टिकोण से पहले, ऑर्बिटर और लैंडर दोनों ने एक क्रेटर और बोल्डर (गड्ढा और पत्थर) के साथ “स्वीट स्पॉट” का पता लगाने के लिए चंद्रमा का सर्वेक्षण किया होगा, जहां विक्रम लैंड कर सकते हैं!

यदि लैंडर ने ठीक से काम नहीं किया है, तो यह चंद्र सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हो सकता है! जैसे कि इसके पूर्ववर्ती चंद्रयान -1 – हालांकि यह एक जानबूझकर दुर्घटना लैंडिंग था! क्योंकि भारत में 2008 तक सॉफ्ट लैंडिंग करना मुश्किल था क्योकि उस समय भारत को सॉफ्ट लैंडिंग की महारत हासिल नहीं थी!

इजराइल भी रहा था विफल

आपको जरूरत है याद दिला दे कि अभी कुछ महीने पहले इसी साल अप्रैल में इजराइल ने भी सॉफ्ट लैंडिंग करने की कोशिश की थी! जिसमें वह पूरी तरह से विफल रहा था! इजराइल का अंतरिक्ष यान था वह अपनी गति को धीमा ही नहीं कर पाया! और जिसके चलते वह दुर्घटना का शिकार हो गया था! विक्रम भी कुछ इसी तरह की का शिकार हुआ होगा! चंद्रयान -2 से पहले चंद्रमा पर कुल 109 मिशनों में से – फ्लाईबी, ऑर्बिटर्स, लैंडर्स, रोवर्स और मानव लैंडिंग-41 असफल रहे थे!

कुछ बयान

के.सिवन: मिशन में आखिरी अवतरण सबसे भयानक समय था क्योंकि इसरो पहली बार इस ऑपरेशन को अंजाम दे रहा था! “अगर 10 सेमी / सेकेंड का फैलाव होता है … हम चंद्र दक्षिण ध्रुव पर आसान लैंडिंग की आवश्यकता को पूरा नहीं कर पाएंगे!”

नासा के अंतरिक्ष यात्री जेरी लिनगर: चंद्रमा के इस मामले में, कोई वातावरण नहीं है! तो, रोवर और लैंडर मॉड्यूल को उस गति से हटाना पड़ता है जो जमीन पर सबसे तेज विमान के 25-30 बार होता है!