17 C
Delhi
Wednesday, October 28, 2020

फिंगर एरिया में बंकर बना रहा चीन ताकि भारत को बाकी इलाकों तक न हो पहुंच, चीन-पाक मिलकर …

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत-चीनी सैनिकों के बीच चल रहा गतिरोध गहरा रहा है। चीन पैंगोंग सौ झील से सटे फिंगर एरिया में एक बंकर का निर्माण कर रहा है (चीन लद्दाख में फिंगर एरिया में बंकर का निर्माण कर रहा है) और गैलवन क्षेत्र में 3 स्थानों पर। चीन सीमा पर इस आक्रामकता को उस समय दिखा रहा है जब एलओसी पर पाकिस्तान की ओर से लगातार गोलीबारी हो रही है, घाटी में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकी हमले बढ़ गए हैं और इस्लामाबाद पीओके में चुनाव कराने जा रहा है। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एलओसी और एलएसी पर पाकिस्तान और चीन का एक साथ सक्रिय होना एक संयोग नहीं है, बल्कि यह एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। क्या यह भारत के खिलाफ गहरी साजिश नहीं है? अतीत में चीन की दुर्भावना को देखते हुए, साजिश की संभावना अधिक है।

पहले फिंगर एरिया को समझते हैं

सबसे पहले, आइए समझते हैं कि उंगली क्षेत्र क्या है। पैंगॉन्ग सो लेक से सटे पहाड़ की पगडंडियों से बने क्षेत्रों को अंगुली क्षेत्र कहा जाता है। दोनों पक्ष इन पर अपना दावा करते हैं और यही कारण है कि हर बार उनके बारे में विवाद होता है।

पाकिस्तान और चीन की गतिविधियों में एक तालमेल है

एलओसी और एलएसी की गतिविधियों पर नजर रखने वालों के अनुसार, पाकिस्तान और चीन की कार्रवाइयों के बीच तालमेल है और इसे एक संयोग के रूप में खारिज नहीं किया जा सकता है। यही वजह है कि सुरक्षा एजेंसियां ​​इन गतिविधियों पर कड़ी नजर रख रही हैं। सभी सीमाओं पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है, ताकि अगर दोनों पड़ोसी एक साथ आए, तो उनका मुकाबला किया जा सके। रक्षा प्रतिष्ठानों से जुड़े सूत्रों ने कहा कि लद्दाख के गैलवन क्षेत्र में भारी सैन्य वाहनों के आने के बाद से तनाव मौजूद है।

चीनी सैनिक 3 पॉइंट्स में घुस आए हैं चीनी सैनिक

माना जाता है कि चीनी सैनिकों ने लद्दाख में कम से कम 3 बिंदुओं पर भारतीय क्षेत्र का उल्लंघन किया है। इसमें पेट्रोल प्वाइंट 14 और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण गोगरा पोस्ट स्थान शामिल है। रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि इनमें से प्रत्येक स्थान पर 500 से अधिक चीनी सैनिक मौजूद हैं, वह भी भारतीय क्षेत्र के भीतर।

चीन फिंगर एरिया क्षेत्र में बंकर बना हुआ है ताकि भारत की अन्य क्षेत्रों में पहुंच न हो

चीनी सैनिकों की तैनाती के बाद, भारतीय सेना ने क्षेत्र में अतिरिक्त सैनिकों को भी तैनात किया है। यह भी माना जाता है कि चीन पैंगोंग सो झील से सटे फिंगर एरिया में बंकर बना रहा है। भारतीय सैनिक कई सालों से 5 से 8 तक फिंगर गश्त कर रहे हैं, जबकि चीनी सैनिक फिंगर 3 से क्षेत्रों की पहरेदारी करते हैं। अब चीन फिंगर 3 और 4 के बीच एक बंकर बना रहा है, जिसका उद्देश्य भारतीय सैनिकों को बाकी क्षेत्र में पहुंचने से रोकना है। चीनी सैनिकों ने पहाड़ी मार्गों पर भी मोर्चा संभाल लिया है। यह सब तब हो रहा है जब चीन ने पैंगोंग झील में सशस्त्र नावों की संख्या बढ़ा दी है, जो कि वह गश्त कर रही है।

कारगिल के दौरान चीन की विकटता की याद ताजा करती है

LOC और LAC की घटनाएं कारगिल जंग की याद दिलाती हैं। जब भारत कारगिल में पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को ध्वस्त करने में लगा हुआ था, शातिर चीन ने पैंगोंग के किनारे 5 किलोमीटर लंबी सड़क बनानी शुरू कर दी। यहां भारतीय सैनिकों का ध्यान पाकिस्तानी हिमकूट पर जवाबी हमला करने पर था और दूसरी ओर, चीन ने इस मौके का फायदा उठाते हुए रिकॉर्ड समय में झील के किनारे गश्त करने का एक मौका बनाया।

यह सब धारा 370 के खत्म किए जाने के बाद पहली ही गर्मी में हो रहा

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एलओसी पर सीमा पार से गोलीबारी में वृद्धि, घाटी में बढ़ते आ’तंक’वादी हमले और एलएसी में भारतीय क्षेत्रों में चीनी प्रवेश की घटनाएं जुड़ी हुई हैं। ये सभी घटनाएं पहली गर्मी में जम्मू और कश्मीर की विशेष स्थिति को समाप्त करने और इसे 2 केंद्र शासित प्रदेशों के रूप में विभाजित करने के लिए हो रही हैं।

चीन और पाकिस्तान साजिश रच रहे हैं?

पूर्व उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एस। डी। प्रधान ने हमारे सहयोगी अखबार द इकोनॉमिक टाइम्स को बताया, “पीओके और अक्साई चिन को फिर से हासिल करने के भारतीय प्रयासों से चीन-पाकिस्तान गठबंधन चिढ़ गया है। ये दोनों क्षेत्र CPEC (चीन-पाक आर्थिक गलियारे) के लिए महत्वपूर्ण हैं, लेकिन ‘अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव को सीमित करने’ के लिए भी। इसलिए चीन और पाकिस्तान इन (पीओके और अक्साई चिन) पर अपने नियंत्रण को और मजबूत करने की योजना बना रहे हैं। यह अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव को भी सीमित करेगा।

नेपाल ने चीन-पाक गठबंधन के इशारे पर नक्शा भी जारी किया?

उन्होंने कहा कि चीन और पाकिस्तान अब भारत पर दबाव बढ़ाने के लिए नेपाल का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने बताया, ‘भारत को दबाव में लाने के लिए नेपाल का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। नेपाल ने हाल ही में एक नया नक्शा जारी करके भारतीय क्षेत्रों को शामिल किया है और कालापानी क्षेत्र को अपने कब्जे में लेने पर गर्व कर रहा है। ऐसा लगता है कि यह भी चीन-पाक गठबंधन के इशारे पर हुआ है।

Latest news

DDLJ के लिए शाहरुख़ खान नहीं बल्कि हॉलीवुड का यह जाना-माना अभिनेता था पहली पसंद

काफी सारी फिल्मे जैसे चांदनी, लम्हे और डर इन जैसी फिल्मो में आदित्य चोपड़ा अपने पिता यश चोपड़ा के सहायक निर्देशक थे और इसी...

जेडीयू नेता भड़क उठे चिराग पासवान के ऊपर, एक पैसे की औकात नही, चले कलयुग के हनुमान बनने …

Ajay Alok Said About LJP Chirag Paswan: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान लगातार जेडीयू और सीएम नितीश कुमार पर हमला...

मिर्ज़ापुर 2: जानिए गुड्डू पंडित के दूसरे प्यार शबनम के बारे में यह ख़ास बात

अगर अपने मिर्ज़ापुर का पहला सीजन देखा है तो आपको याद होगा. रेशम के व्यापारी लाला को एपिसोड 4 में दिखाया गया था, उस...

गूगल ने दी लोगों को चेतावनी बिना देर किए तुरंत हटा दें यह 36 ऐप्स

Google Removes 36 Apps from play store: गूगल के प्ले-स्टोर में मजूद ऐप्स अगर आप डाउनलोड करते हैं तो गूगल समय-समय पर आपको कुछ...

Related news

DDLJ के लिए शाहरुख़ खान नहीं बल्कि हॉलीवुड का यह जाना-माना अभिनेता था पहली पसंद

काफी सारी फिल्मे जैसे चांदनी, लम्हे और डर इन जैसी फिल्मो में आदित्य चोपड़ा अपने पिता यश चोपड़ा के सहायक निर्देशक थे और इसी...

जेडीयू नेता भड़क उठे चिराग पासवान के ऊपर, एक पैसे की औकात नही, चले कलयुग के हनुमान बनने …

Ajay Alok Said About LJP Chirag Paswan: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान लगातार जेडीयू और सीएम नितीश कुमार पर हमला...

मिर्ज़ापुर 2: जानिए गुड्डू पंडित के दूसरे प्यार शबनम के बारे में यह ख़ास बात

अगर अपने मिर्ज़ापुर का पहला सीजन देखा है तो आपको याद होगा. रेशम के व्यापारी लाला को एपिसोड 4 में दिखाया गया था, उस...

गूगल ने दी लोगों को चेतावनी बिना देर किए तुरंत हटा दें यह 36 ऐप्स

Google Removes 36 Apps from play store: गूगल के प्ले-स्टोर में मजूद ऐप्स अगर आप डाउनलोड करते हैं तो गूगल समय-समय पर आपको कुछ...
- Advertisement -