खास खबर

“डर”: अब तो मैं घर से निकलती नहीं फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

WOMAN'S DAY

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

रोज़ जब स्कूल जाती हूँ
रिक्शे वाले की टच से डरती हूँ मैं माँ
गेट पर गार्ड रोकें मुझे कभी
सहम के बैग छाती से चिपकाती हूँ माँ
कुछ खरीदने भेजती हो जब
दुकानदार के हाथ पकड़ने से डरती हूँ मैं माँ

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

भैया के दोस्त रास्ता रोक बात करते कभी
भैया बोलती जिन्हें उन से भी डरती हूँ माँ
अकेले घर में कोचिंग सर के अचानक आने से
बीमार हूँ, बोल गेट लॉक कर आती हूँ मैं माँ
कामवाली को रोटी देने आए
उसके बेटे से भी डर जाती हूँ मैं माँ

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

दादाजी जब कंधे पर हाथ रखते हैं
अफसोस, डर से सहम जाती हूं मैं माँ
ताऊ जी की चॉकलेट बहुत कड़वी लगे अब
चिकोटी वो काटते हैं पिछवाड़े में माँ

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

अब तो भैया से भी डरती
और पापा से भी डर लगने लगा है

पड़ोस की आंटी को वो स्वीटी बोलते हैं जब
जैसे जुनेजा अंकल रिंकी की मम्मी को
क्या वैसे पापा भी हमको छोड़ जाएंगे माँ

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

स्कूल में कल सबसे प्यारी सखी
छत से कूद मरने चली थी माँ
नीचे उतार, खूब डांटा उसे
हाथ में ब्लेड के निशान खूब लगे थे माँ
सुना कुछ लोगों ने बुरा किया उसके साथ
बहुत मारा मसला कुचला बेचारी का शरीर
आगे कुछ ना समझ पाई सहम गयी मैं माँ

अब तो मैं घर से निकलती नहीं
फिर भी आदमियों से डरती हूँ मैं माँ

जो यह दुनिया है यह ऐसी क्यों है
बलिए बलिए माली काका जब बुलाते हैं मुझे
डर के दूर भाग जाती हूँ अब मैं माँ
क्या मैं भी लोगों की हैवानियत का शिकार बनूँगी
क्या मेरे साथ भी सखी जैसा कुछ होगा
जाने क्यों यह अनजाना डर लगता है
मैं तो ब्लेड से अपनी कलाई काट जान दे दूंगी
जानती हो क्यों?

आदमियों के वहशीपन से डरती हूँ मैं माँ
दुनिया की भीड़ में सहम-सहम जाती हूँ मैं माँ
अंतराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च 2020
एक बार सच में मुझे समर्पित कर दो न माँ
इस डर के डर को मेरे ज़हन के
कण कण से मिटा दो, भुला दो न, मेरी माँ

© डॉ. नीलू नीलपरी
हर बेटी की यही पुकार
आज़ादी है मेरा अधिकार
उन्मुक्त आकाश मेरी दरकार
रुक न पाएगी मेरी ‘उड़ान’
आज महिला दिवस पर माँ भारती की बेटियों के लिए सेफ समाज बनाने की नीलपरी की गुहार और करबद्ध प्रार्थना 🙏

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });