FBI ने जारी किया 9/11 पर दस्तावेज, हमले में था सऊदी अरब का हाथ? इस देश की खैर नहीं

Saudi Arabia involved in the attack?: अमेरिका (America) पर 9/11 आतंकी हमले में क्या सऊदी अरब सरकार का भी हाथ है, क्या सऊदी सरकार ने आतंकियों को फंड किया था? अब इन सवालों पर से आज पर्दा उठ गया है. गौरतलब है कि अमेरिका के संघीय जांच ब्यूरो (FBI) ने 11 सितंबर 2001 में आतंकवादी हमलों के लिए विमान अपहरण करने वाले सऊदी अरब के दो लोगों को मिले साजोसामान संबंधी सहयोग से जुड़े 16 पृष्ठों का नया दस्तावेज जारी किया है. दस्तावेजों में बताया गया है कि अपहरणकर्ता अमेरिका में सऊदी अरब के अपने साथियों के साथ संपर्क में थे लेकिन इसका कोई सबूत नहीं है कि इस साजिश में सऊदी अरब सरकार शामिल थी. बता दे की, राष्ट्रपति जो बाइडन के इन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने के आदेश के बाद हमले की 20वीं बरसी पर शनिवार को ये दस्तावेज जारी किए गए. गौरतलब है कि वर्षों तक इन्हें गोपनीय रखा गया. हाल के हफ्तों में पीड़ितों के परिवारों ने बाइडन पर दस्तावेज जारी करने का दबाव डाला है. पीड़ित के परिवार वाले लंबे समय से उन रिकॉर्ड्स को जारी करने की मांग कर रहे हैं जो न्यूयॉर्क में चल रहे उनके मुकदमे में मददगार साबित हो सकते हैं. उनका आरोप है कि सऊदी अरब के वरिष्ठ अधिकारियों की हमलों में मिलीभगत थी. गौरतलब है कि, सऊदी अरब सरकार किसी भी संलिप्तता से इनकार करती रही है. बता दें कि वाशिंगटन में सऊदी दूतावास ने बुधवार को कहा कि वह सभी दस्तावेज जारी करने का समर्थन करता है ताकि ''हमेशा के लिए उसकी सरकार के खिलाफ निराधार आरोप खत्म हो जाए. शनिवार को जारी दस्तावेज में 2015 में एक ऐसे व्यक्ति के साक्षात्कार की जानकारी दी गयी है जिसने अमेरिकी नागरिकता के लिए आवेदन दिया था और कई साल पहले सऊदी अरब के उन नागरिकों से बार-बार संपर्क किया था. जांचकर्ताओं का कहना है कि इन्हीं नागरिकों ने अपहरणकर्ताओं को ''अहम साजोसामान संबंधी सहयोग दिया था.
 

FBI ने जारी किया 9/11 पर दस्तावेज, हमले में था सऊदी अरब का हाथ? इस देश की खैर नहीं

Saudi Arabia involved in the attack?: अमेरिका ( America) पर 9/11 आतंकी हमले में क्या सऊदी अरब सरकार का भी हाथ है, क्या सऊदी सरकार ने आतंकियों को फंड किया था? अब इन सवालों पर से आज पर्दा उठ गया है. गौरतलब है कि अमेरिका के संघीय जांच ब्यूरो ( FBI) ने 11 सितंबर 2001 में आतंकवादी हमलों के लिए विमान अपहरण करने वाले सऊदी अरब के दो लोगों को मिले साजोसामान संबंधी सहयोग से जुड़े 16 पृष्ठों का नया दस्तावेज जारी किया है. दस्तावेजों में बताया गया है कि अपहरणकर्ता अमेरिका में सऊदी अरब के अपने साथियों के साथ संपर्क में थे लेकिन इसका कोई सबूत नहीं है कि इस साजिश में सऊदी अरब सरकार शामिल थी. बता दे की, राष्ट्रपति जो बाइडन के इन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने के आदेश के बाद हमले की 20वीं बरसी पर शनिवार को ये दस्तावेज जारी किए गए. गौरतलब है कि वर्षों तक इन्हें गोपनीय रखा गया. हाल के हफ्तों में पीड़ितों के परिवारों ने बाइडन पर दस्तावेज जारी करने का दबाव डाला है. पीड़ित के परिवार वाले लंबे समय से उन रिकॉर्ड्स को जारी करने की मांग कर रहे हैं जो न्यूयॉर्क में चल रहे उनके मुकदमे में मददगार साबित हो सकते हैं. उनका आरोप है कि सऊदी अरब के वरिष्ठ अधिकारियों की हमलों में मिलीभगत थी. गौरतलब है कि, सऊदी अरब सरकार किसी भी संलिप्तता से इनकार करती रही है. बता दें कि वाशिंगटन में सऊदी दूतावास ने बुधवार को कहा कि वह सभी दस्तावेज जारी करने का समर्थन करता है ताकि ''हमेशा के लिए उसकी सरकार के खिलाफ निराधार आरोप खत्म हो जाए. शनिवार को जारी दस्तावेज में 2015 में एक ऐसे व्यक्ति के साक्षात्कार की जानकारी दी गयी है जिसने अमेरिकी नागरिकता के लिए आवेदन दिया था और कई साल पहले सऊदी अरब के उन नागरिकों से बार-बार संपर्क किया था. जांचकर्ताओं का कहना है कि इन्हीं नागरिकों ने अपहरणकर्ताओं को ''अहम साजोसामान संबंधी सहयोग दिया था.