दाढ़ी मूंछों वाले हनुमान का भारत में एकमात्र ऐसा सिद्धपीठ जहां पूजे जाते हैं

0
258
Hanuman bearded Mustache Siddha India worship done

Hanuman bearded Mustache Siddha India worship done : सालासर बालाजी – माता सीता के आशीर्वाद से राम भक्त हनुमान कलुग में सबसे प्रतापी देव मने जाने है!

जो कोई भी श्रद्धा और सच्चे मन से पवनपुत्र हनुमान की सेवा करता है, उसके सभी कस्ट दूर हो जाते है ! देश भर में हनुमान जी के आपने कई मंदिर देखे होंगे ,लेकिन राजस्थान के चूरू जिले में हनुमान जी का एक ऐसा सिद्धिपीठ है जहा प्रधु दाढ़ी और मूछ में जाते है !

Hanuman bearded Mustache Siddha India worship done-

हनुमान जी का यह मंदिर भारत में अपनी तरह का इकलौता मंदिर है ,जहा हनुमान जी सिंदूरी मूर्ति पर दाढ़ी और मूछ धारण किये हुए हैं!

जयपुर -बीकानेर राजमार्ग पर स्थित लक्ष्मणगढ़ तहसील से 30 किलोमीटर दूर सालासर कस्बे में यह देवस्थान है। हनुमान जी के इस सिद्ध स्थल को ‘सालासर बालाजी’ के नाम से जाना जाता है।

देश के कोने कोने से यहाँ व्यक्ति अपनी मनोकामना के लिए आते है ! बालाजी के मंदिर से कोई भी व्यक्ति निराश होकर नहीं जाता ! वहा पर आने वाले भक्तो ले लिए कई धर्मशालाए बनाई गयी है ! इस मंदिर में देश भर से श्रद्धालु आते है!

कैसे हुए सालासर बालाजी अवतरित

हनुमान जी के एक भक्त इस क्षेत्र में रहा करते थे जिनका नाम था मोहनदास ! हनुमान जी ने उनको दाढ़ी मूछ वाले रूप में सपने में दर्शन दिए थे ! कुछ समय बाद एक जाट किसान के खेत में हल जोतते समय हल की नोक से कोई कठोर चीज़ टकराई। जब किसान ने उस स्थल पर ख़ुदाई की तो वहां पत्थर की एक मूर्ति दिखाई दी। गौर से देखने पर उस पत्थर में हनुमान जी की छवि किसान को नज़र आई। उसी समय किसान की पत्नी खाना लेकर आई खाने में चूरमा भी था !उसने फॉर बालाजी जी मूर्ति को चूरमे से भोग लगाया तभी से हनुमान जी के इस रूप को चूरमे का भोग लगाने की परंपरा चली आ रही है !

मोहनदास जी को सपने में बालाजी ने कहा था कि मूर्ति के सालासर पहुंचने पर बैलगाड़ी को कोई न चलाये ! बैलगाड़ी जहा भी अपने आप रुक जाये वही मूर्ति की स्थापना कर दी जाये !

आज भी इस मंदिर में मोहनदास जी का धूणा प्रज्वलित है

एक और ख़ास बात यह है कि इस मंदिर का निर्माण मुस्लिम कारीगरों की मदद से किया गया है। सालासर में बालाजी के अलावा, मोहनदास जी और माता अंजनी के भी मंदिर स्थित है।

हनुमान जी लक्खी मेला लगता है यहां

देश विदेश से यहाँ श्रद्धालु अपनी अरदास लेकर आते है ! कुछ भक्त पैदल यात्रा करके भी यहाँ आते है ! श्रद्धालु ‘जय बाबा की’ उदघोष करते हुए चलते आते हैं।

और देखें – ऑटो कंपोनेंट उद्योग की वृद्धि दर 13 फीसदी आईसीआरए..