अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहीं चीन से रिश्ते सुधारने की बात तो भाजपा संसद में मोदी सरकार पर कसा तंज, कहा: वाह! बड़ी कामयाबी है

US President talked about improving relations with China: भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanyam Swami) अक्सर मोदी सरकार की रणनीतियों की आलोचना करने से खुद को रोक नहीं पाते. हमेशा से ही वह मोदी सरकार की विदेश नीति पर भी सवाल उठाते रहे हैं. चीन के साथ संबंध को लेकर कई बार वह सरकार की तुलना पंचतंत्र के चमगादड़ से कर चुके हैं. अभी हाल ही में ट्विटर पर जब एक शख्स ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के यूएन में दिए गए भाषण का जिक्र किया तो एक बार फिर से भाजपा सांसद ने केंद्र सरकार पर तंज कर दिया. यूएन में भाषण के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था,'अमेरिका (America) किसी भी देश के साथ काम करने को तैयार है.' उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि अगर किसी क्षेत्र में असहमति होती है तो वह इस चुनौती को स्वीकार करने को तैयार है. उनके इस बयान को ना सिर्फ चीन बल्कि अफगानिस्तान के साथ भी जोड़कर देखा जा रहा है. इसी पर टिप्पणी करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि,'वाह यह तो बड़ी उपलब्धि है, जो बिडेन को भारत का ध्यान है.' बता दें कि इससे पहले एसडीओ सम्मेलन से इतर चीनी विदेश मंत्री की तरफ से विवादित सीमा को लेकर कही गई बात पर भी स्वामी ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को गिरा था बता दें कि वांग यी ने जयशंकर से कहा था कि भारत और चीन को सिर्फ आपातकालिक प्रतिक्रिया लेने की जगह पर विवादित सीमा पर सामान्य प्रबंधन की ओर ध्यान देना चाहिए. इसे स्वामी ने जयशंकर के लिए तमाचा बताया था. इस पर उन्होंने कहा था कि भारत दुनिया की नजरों में इतना बदनाम कभी नहीं हुआ. एक ट्वीट का रिप्लाई करते हुए स्वामी ने एक बार फिर तंज कसते हुए अपनी प्रतिक्रिया दी थी जिस पर सोशल मीडिया यूजर्स भी प्रतिक्रिया देने लगे थे. वही एक यूजर ने लिखा था कि कल केवल आपने ही कहा था कि अमेरिका में स्वास्थ्य, वैक्सीन और जलवायु को लेकर ही चर्चा होगी. आपने रणनीति और रक्षा समझौतों का कोई जिक्र ही नहीं किया था. आपकी दूरदृष्टि को सलाम है.
 

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहीं चीन से रिश्ते सुधारने की बात तो भाजपा संसद में मोदी सरकार पर कसा तंज, कहा: वाह! बड़ी कामयाबी है

US President talked about improving relations with China: भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ( Subramanyam Swami) अक्सर मोदी सरकार की रणनीतियों की आलोचना करने से खुद को रोक नहीं पाते. हमेशा से ही वह मोदी सरकार की विदेश नीति पर भी सवाल उठाते रहे हैं. चीन के साथ संबंध को लेकर कई बार वह सरकार की तुलना पंचतंत्र के चमगादड़ से कर चुके हैं. अभी हाल ही में ट्विटर पर जब एक शख्स ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के यूएन में दिए गए भाषण का जिक्र किया तो एक बार फिर से भाजपा सांसद ने केंद्र सरकार पर तंज कर दिया. यूएन में भाषण के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था,'अमेरिका ( America) किसी भी देश के साथ काम करने को तैयार है.' उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि अगर किसी क्षेत्र में असहमति होती है तो वह इस चुनौती को स्वीकार करने को तैयार है. उनके इस बयान को ना सिर्फ चीन बल्कि अफगानिस्तान के साथ भी जोड़कर देखा जा रहा है. इसी पर टिप्पणी करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि,'वाह यह तो बड़ी उपलब्धि है, जो बिडेन को भारत का ध्यान है.' बता दें कि इससे पहले एसडीओ सम्मेलन से इतर चीनी विदेश मंत्री की तरफ से विवादित सीमा को लेकर कही गई बात पर भी स्वामी ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को गिरा था बता दें कि वांग यी ने जयशंकर से कहा था कि भारत और चीन को सिर्फ आपातकालिक प्रतिक्रिया लेने की जगह पर विवादित सीमा पर सामान्य प्रबंधन की ओर ध्यान देना चाहिए. इसे स्वामी ने जयशंकर के लिए तमाचा बताया था. इस पर उन्होंने कहा था कि भारत दुनिया की नजरों में इतना बदनाम कभी नहीं हुआ. एक ट्वीट का रिप्लाई करते हुए स्वामी ने एक बार फिर तंज कसते हुए अपनी प्रतिक्रिया दी थी जिस पर सोशल मीडिया यूजर्स भी प्रतिक्रिया देने लगे थे. वही एक यूजर ने लिखा था कि कल केवल आपने ही कहा था कि अमेरिका में स्वास्थ्य, वैक्सीन और जलवायु को लेकर ही चर्चा होगी. आपने रणनीति और रक्षा समझौतों का कोई जिक्र ही नहीं किया था. आपकी दूरदृष्टि को सलाम है.