ऐतहासिक पल, पीएम मोदी के फैसलों का आया चौंकाने वाला परिणाम, अमेरिका,ब्रिटेन,चीन,जापान समेत कई देशों को पछाड़ आगे निकला भारत

India Economy Fast Growth: अब जैसे-जैसे मोदी सरकार का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, इन पांच वर्षों में लिए गए निर्णयों के परिणाम सामने आने लगे हैं। दस साल तक, भारत की अर्थव्यवस्था रिवर्स गियर में थी, लेकिन अब एक बार फिर से इसने सही दिशा पकड़ ली है। इस बीच, ऐसी शानदार खबर जिसे सुनकर आपका सीना भी गर्व से चौड़ा हो जाएगा। India Economy Fast Growth - अब उपलब्ध बड़ी खबर के मुताबिक, मोदी के नेतृत्व में देश की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। मोदी राज में, भारतीय शेयर बाजारों ने पिछले वित्त वर्ष में दुनिया के प्रमुख बाजारों जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और चीन को पीछे छोड़ दिया है। मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष 2018-19 में, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 17.3% वापस आ गया है, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 14.9% रिटर्न देता है। यह अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, ब्राजील, जापान, दक्षिण कोरिया और हांगकांग के स्टॉक एक्सचेंजों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन है। इस समय के दौरान अमेरिका 7.6 प्रतिशत, ब्रिटेन 3.2 प्रतिशत, ब्राज़ील 11.8 प्रतिशत, चीन 2.5 प्रतिशत (ऋणात्मक), जापान -1.2 प्रतिशत (ऋणात्मक), दक्षिण कोरिया -12.5 प्रतिशत (ऋणात्मक) और हांगकांग- पर रहा। 3.5 प्रतिशत (नकारात्मक) रिटर्न। नकारात्मक रिटर्न में निवेशकों को नुकसान उठाना पड़ा। याद दिला दें कि कांग्रेस सरकार में शेयर बाजार 23000 के आसपास था और आज मोदी सरकार में यह 39000 तक पहुंच गया है। कई राजनेताओं का मानना है कि यह सिर्फ शुरुआत है, फिर से पीएम मोदी को जीतने के बाद, शेयर बाजार 40000 को पार कर जाएगा। केवल पांच वर्षों में इतनी जबरदस्त प्रगति भारत के इतिहास में पहले कभी नहीं देखी गई थी। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, भारत में पूंजी बाजार का आकार 6% बढ़कर रु। 2018-19 में 151 लाख करोड़ रु। इसके अलावा, म्यूचुअल फंड की प्रबंधन संपत्ति 11.4 प्रतिशत बढ़कर 24 लाख करोड़ रुपये हो गई। दूसरी ओर, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का जोखिम बढ़कर लगभग 30 लाख करोड़ हो गया है। बांड और इक्विटी के जरिए जुटाई गई राशि 5.3 प्रतिशत बढ़कर लगभग 9 लाख करोड़ रुपये हो गई। 20 सितंबर, 2018 को डेट फंड के मोर्चे पर डेट मार्केट में कुछ नकारात्मक गतिविधियों के कारण, कुछ पैसा डेट-ओरिएंटेड फंड्स से बाहर आ गया है। हालांकि, इक्विटी ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स पूरे वित्तीय वर्ष में वित्त जारी रखते हैं। अन्य म्यूचुअल फंडों में, 2018-19 के 12 में से 10 महीनों में सकारात्मक शुद्ध मुद्रास्फीति देखी गई।
 

ऐतहासिक पल, पीएम मोदी के फैसलों का आया चौंकाने वाला परिणाम, अमेरिका,ब्रिटेन,चीन,जापान समेत कई देशों को पछाड़ आगे निकला भारत

India Economy Fast Growth: अब जैसे-जैसे मोदी सरकार का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, इन पांच वर्षों में लिए गए निर्णयों के परिणाम सामने आने लगे हैं। दस साल तक, भारत की अर्थव्यवस्था रिवर्स गियर में थी, लेकिन अब एक बार फिर से इसने सही दिशा पकड़ ली है। इस बीच, ऐसी शानदार खबर जिसे सुनकर आपका सीना भी गर्व से चौड़ा हो जाएगा।

India Economy Fast Growth -

ऐतहासिक पल, पीएम मोदी के फैसलों का आया चौंकाने वाला परिणाम, अमेरिका,ब्रिटेन,चीन,जापान समेत कई देशों को पछाड़ आगे निकला भारत अब उपलब्ध बड़ी खबर के मुताबिक, मोदी के नेतृत्व में देश की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। मोदी राज में, भारतीय शेयर बाजारों ने पिछले वित्त वर्ष में दुनिया के प्रमुख बाजारों जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और चीन को पीछे छोड़ दिया है। मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष 2018-19 में, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 17.3% वापस आ गया है, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 14.9% रिटर्न देता है। यह अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, ब्राजील, जापान, दक्षिण कोरिया और हांगकांग के स्टॉक एक्सचेंजों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन है। ऐतहासिक पल, पीएम मोदी के फैसलों का आया चौंकाने वाला परिणाम, अमेरिका,ब्रिटेन,चीन,जापान समेत कई देशों को पछाड़ आगे निकला भारत इस समय के दौरान अमेरिका 7.6 प्रतिशत, ब्रिटेन 3.2 प्रतिशत, ब्राज़ील 11.8 प्रतिशत, चीन 2.5 प्रतिशत (ऋणात्मक), जापान -1.2 प्रतिशत (ऋणात्मक), दक्षिण कोरिया -12.5 प्रतिशत (ऋणात्मक) और हांगकांग- पर रहा। 3.5 प्रतिशत (नकारात्मक) रिटर्न। नकारात्मक रिटर्न में निवेशकों को नुकसान उठाना पड़ा। याद दिला दें कि कांग्रेस सरकार में शेयर बाजार 23000 के आसपास था और आज मोदी सरकार में यह 39000 तक पहुंच गया है। कई राजनेताओं का मानना ​​है कि यह सिर्फ शुरुआत है, फिर से पीएम मोदी को जीतने के बाद, शेयर बाजार 40000 को पार कर जाएगा। केवल पांच वर्षों में इतनी जबरदस्त प्रगति भारत के इतिहास में पहले कभी नहीं देखी गई थी। ऐतहासिक पल, पीएम मोदी के फैसलों का आया चौंकाने वाला परिणाम, अमेरिका,ब्रिटेन,चीन,जापान समेत कई देशों को पछाड़ आगे निकला भारत मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, भारत में पूंजी बाजार का आकार 6% बढ़कर रु। 2018-19 में 151 लाख करोड़ रु। इसके अलावा, म्यूचुअल फंड की प्रबंधन संपत्ति 11.4 प्रतिशत बढ़कर 24 लाख करोड़ रुपये हो गई। दूसरी ओर, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का जोखिम बढ़कर लगभग 30 लाख करोड़ हो गया है। बांड और इक्विटी के जरिए जुटाई गई राशि 5.3 प्रतिशत बढ़कर लगभग 9 लाख करोड़ रुपये हो गई। 20 सितंबर, 2018 को डेट फंड के मोर्चे पर डेट मार्केट में कुछ नकारात्मक गतिविधियों के कारण, कुछ पैसा डेट-ओरिएंटेड फंड्स से बाहर आ गया है। हालांकि, इक्विटी ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड्स पूरे वित्तीय वर्ष में वित्त जारी रखते हैं। अन्य म्यूचुअल फंडों में, 2018-19 के 12 में से 10 महीनों में सकारात्मक शुद्ध मुद्रास्फीति देखी गई।