कालेधन पर वार, भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट, ज्यादातर खाते कार्रवाई के डर से हुए बंद

India got list of Swiss bank account holders: स्विट्जरलैंड सरकार ने भारत सरकार (Government of India) को स्विस बैंक (Swiss bank) के खाताधारकों (Account holder) की जानकारी देना शुरू कर दिया है! स्विस बैंक (Swiss bank) के भारतीय खाताधारकों की पहली सूची केंद्र सरकार को सौंप दी गई है! बैंकर्स और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अधिकारियों का कहना है कि सूचनाओं का विश्लेषण किया जा रहा है! इस लिस्ट में ज्यादातर खाते ऐसे हैं, जो कार्रवाई के डर से बंद कर दिए गए थे! सीबीडीटी के अधिकारियों का कहना है कि ऐसे खातों की गहनता से पड़ताल की जा रही है! भारत और स्विट्जरलैंड के बीच बैंकिंग सूचनाओं के आदान-प्रदान के समझौते के तहत 1 सितंबर से भारतीयों के स्विस बैंक खातों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है! इसमें उन सभी खातों के लेन-देन का विवरण शामिल है! जो 2018 के बाद से एक दिन के लिए भी सक्रिय रहे हों! इन सूचनाओं से स्विस बैंकों के खातों में अघोषित संपत्ति रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई में मदद मिलेगी! इसमें जमा, हस्तांतरण और अन्य संपत्ति में निवेश से जुड़ी जानकारी दी गई है! बैंकर्स और नियामक अधिकारियों ने कहा है कि खाताधारकों की लिस्ट में ज्यादतर दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों, अमेरिका, ब्रिटेन, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिकी देशों में रहने वाले भारतीय और बिजनेसमैन हैं! गोपनीयता की शर्त पर बैंक अधिकारियों और उससे जुड़े संस्थानों ने बताया कि हम किसी का नाम तो उजागर नहीं कर सकते हैं! लेकिन इन खाताधारकों में ज्यादातर बिजनेसमैन और एनआरआई शामिल हैं! बैंकरों ने स्वीकार किया कि कभी पूरी तरह से गोपनीय रहे स्विस बैंकों के खातों के खिलाफ वैश्विक स्तर पर शुरू हुई मुहिम के बाद इन खातों से काफी पैसे निकाले गए! इनमें से कई खाते बंद भी हो गए! 2018 में बंद कराए गए खातों की जानकारी भी मिली है! सरकार के पास जो जानकारी उपलब्ध है उसके मुताबिक 100 ऐसे खाते हैं जिन्हें साल 2018 से पहले ही बंद कर दिया गया था! ये खाते ऑटो पार्ट्स, केमिकल, टेक्सटाइल, रियल एस्टेट, हीरा और स्टील प्रोडक्ट से जुड़े कारोबारियों के हैं! राजनीति से जुड़े लोगों के खातों की जानकारियों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है!
 

कालेधन पर वार, भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट, ज्यादातर खाते कार्रवाई के डर से हुए बंद

India got list of Swiss bank account holders: स्विट्जरलैंड सरकार ने भारत सरकार (Government of India) को स्विस बैंक (Swiss bank) के खाताधारकों (Account holder) की जानकारी देना शुरू कर दिया है! स्विस बैंक (Swiss bank) के भारतीय खाताधारकों की पहली सूची केंद्र सरकार को सौंप दी गई है! बैंकर्स और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अधिकारियों का कहना है कि सूचनाओं का विश्लेषण किया जा रहा है! इस लिस्ट में ज्यादातर खाते ऐसे हैं, जो कार्रवाई के डर से बंद कर दिए गए थे! सीबीडीटी के अधिकारियों का कहना है कि ऐसे खातों की गहनता से पड़ताल की जा रही है! भारत और स्विट्जरलैंड के बीच बैंकिंग सूचनाओं के आदान-प्रदान के समझौते के तहत 1 सितंबर से भारतीयों के स्विस बैंक खातों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है! इसमें उन सभी खातों के लेन-देन का विवरण शामिल है! जो 2018 के बाद से एक दिन के लिए भी सक्रिय रहे हों! इन सूचनाओं से स्विस बैंकों के खातों में अघोषित संपत्ति रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई में मदद मिलेगी! इसमें जमा, हस्तांतरण और अन्य संपत्ति में निवेश से जुड़ी जानकारी दी गई है! बैंकर्स और नियामक अधिकारियों ने कहा है कि खाताधारकों की लिस्ट में ज्यादतर दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों, अमेरिका, ब्रिटेन, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिकी देशों में रहने वाले भारतीय और बिजनेसमैन हैं! गोपनीयता की शर्त पर बैंक अधिकारियों और उससे जुड़े संस्थानों ने बताया कि हम किसी का नाम तो उजागर नहीं कर सकते हैं! लेकिन इन खाताधारकों में ज्यादातर बिजनेसमैन और एनआरआई शामिल हैं! बैंकरों ने स्वीकार किया कि कभी पूरी तरह से गोपनीय रहे स्विस बैंकों के खातों के खिलाफ वैश्विक स्तर पर शुरू हुई मुहिम के बाद इन खातों से काफी पैसे निकाले गए! इनमें से कई खाते बंद भी हो गए! 2018 में बंद कराए गए खातों की जानकारी भी मिली है! सरकार के पास जो जानकारी उपलब्ध है उसके मुताबिक 100 ऐसे खाते हैं जिन्हें साल 2018 से पहले ही बंद कर दिया गया था! ये खाते ऑटो पार्ट्स, केमिकल, टेक्सटाइल, रियल एस्टेट, हीरा और स्टील प्रोडक्ट से जुड़े कारोबारियों के हैं! राजनीति से जुड़े लोगों के खातों की जानकारियों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है!