मुंबई पुलिस के साथ मिलकर शिवसेना के नेता ने प्लान किया था ऑपरेशन अर्णब

0
119

‘ऑपरेशन अर्णब’ जी हां मुंबई पुलिस ने अर्णब को पकड़ने के लिए बनाये प्लान को यही नाम दिया था. मुंबई पुलिस ने अर्णब को गिरफ्तार करने के लिए ऐसे प्लान बनाया था, जैसे अर्णब भारत के सबसे चर्चित न्यूज़ चैनल का मालिक नहीं बल्कि कोई आतंकवादी हो. जिसमें छोटी-छोटी बात का ध्यान रखते हुए प्लान बनाया गया था की कौन दरवाज़ा खटखटाएगा, कौन पहले घर के अंदर जाएगा कौन अर्णब के परिवार के सदस्य से बात करेगा.

टाइम ऑफ़ इंडिया में छपी खबर की माने तो यह मामला सीधे तौर पर बदले की भावना का हैं. अर्णब की रिपोर्टिंग से परेशान होकर शिवसेना और एनसीपी के नेताओं ने अर्णब के खिलाफ लगभग दो साल पहले चले एक बंद हो चुके मामले की फ़ाइल को खुलवाया. इससे पहले जिस व्यक्ति ने अपनी माँ के साथ आत्महत्या की थी, उसकी पत्नी और बेटी को NCP प्रमुख शरद पवार से मिलवाकर अपने भरोसे में लिया गया.

इसके बाद महाराष्ट्र के गृह मंत्री और एनसीपी नेता अनिल देशमुख ने कोंकण रेंज के महानिरीक्षक संजय मोहिते के नेतृत्व में 40 सदस्य टीम का गठन किया गया. महानिरीक्षक संजय मोहिते ने अर्णब को गिरफ्तार करने का पूरा मसौदा तैयार किया और इसके लिए फेक एनकाउंटर के आरोपी सचिन वेज को यह जिम्मेदारी सौंप दी गयी.

शिवसेना के एक वरिष्ठ कैबिनेट मेंबर ने टाइम ऑफ़ इंडिया को दिए अपने एक इंटरव्यू में कहा की, “मोहिते के नेतृत्व वाली टीम के लिए यह अर्णब को गिरफ्तार करना एक चुनौतीपूर्ण काम था. हमने बहुत सावधानी से काम किया, टीम के प्रत्येक सदस्य ने उकसावे के बावजूद संयम का पालन किया.”

आपको बता दें की पुलिस ने मंत्रियों के साथ हुई हाई लेवल मीटिंग के बाद अर्णब के घर और ऑफिस के आस पास अपने कुछ जासूस भी खुले छोड़ रखे थे. पुलिस को शक था की अगर जानकारी लीक होती है तो अर्णब शहर छोड़कर भाग सकते हैं. ऐसे में सवाल यह भी उठता है की इतनी मुस्तैदी मुंबई में आतंकी हमलों के दौरान क्यों नहीं दिखाई जाती? अर्णब आम इंसान नहीं हैं यह सब जानते हैं लेकिन वह आतंकवादी भी नहीं हैं, जिसके लिए आपने इतना प्लान किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here