सऊदी ने पाकिस्तान के नक़्शे से हटाए कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान

सऊदी अरब ने पाकिस्तान को बड़ा झटका देते हुए अगले महीने होने वाले G-20 समेल्लन को लेकर अपना एक नया नोट जारी कर दिया हैं. इस नोट की ख़ास बात यह है की इसपर दुनिया के सभी देशों के नक़्शे मजूद हैं. ऐसे में सऊदी अरब ने अपने द्वारा जारी किये गए नए 20 रियाल के नोट पर कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान को एक आज़ाद देश के रूप में दिखा दिया हैं. G-20 शिखर सम्मेलन 21 और 22 को रियाद में आयोजित होने वाला हैं और इस नए नोट पर पाकिस्तान सरकार फिलहाल चुप हैं. सऊदी सरकार द्वारा जारी किये गए इस नोट में सामने की तरफ सऊदी किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज का फोटो और उनका एक स्लोगन मजूद हैं. इस नोट के पीछे बने दुनिया के सभी देशों के नक्शों को अलग अलग रंग से दिखाया गया हैं. ‘यूरेशियन टाइम्स’ की रिपोर्ट की माने तो सितंबर में इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद के चीफ योसी कोहेन ने कहा था की अमेरिका में चुनाव होने के बाद इजराइल के सऊदी अरब और बाकी अरब देशों के साथ कूटनीतिक संबंध पूरी तरह से सामान्य हो जायेंगे. ऐसे में पाकितान पूरी तरह से बौखला गया और उसने अपना पुराना राग अलापते हुए कहा की उसने आज तक इजराइल को न तो एक देश की मान्यता दी है और न ही उसके साथ डिप्लोमैटिक रिलेशन बनाने का विचार करेगा. बात करें पाकिस्तान की तो इसकी फिलिस्तीन और कश्मीर पर अरब देशों से अलग राय हैं. सऊदी अरब और इजराइल दोनों के ही भारत के साथ बहुत अच्छे रिश्ते हैं. यही कारण है की सऊदी अरब, पाकिस्तान को महज़ एक दोहम दर्ज़े का देश समझता हैं. इजराइल के साथ अच्छे रिश्ते कायम करने पर पकिस्तान के भारी विरोध करने के बाद सऊदी सरकार ने पाकिस्तान को अगस्त में फौरन कर्ज वापिस करने का आर्डर पास कर दिया था. जबकि पाकिस्तान अभी क़र्ज़ देने के हालात में नहीं बल्कि क़र्ज़ लेने के हालात में था है, नहीं तो उसे खुद को दिवालिया घोसित करना पड़ जाएगा. पकिस्तान को अब अरब देशों और अमेरिका से कोई उम्मीद नहीं हैं. इसलिए वह चीन और तुर्की के साथ मिलकर एक नया गुट बनाने की तैयारी कर रहा हैं. उधर सऊदी अरब बदलते वक़्त के साथ अपनी विदेश नीतियों में बदलाव करते हुए इजराइल जैसे देश से अच्छे राजनितिक संबंध कायम करने की कोशिश कर रहा हैं.
 

सऊदी ने पाकिस्तान के नक़्शे से हटाए कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान

सऊदी अरब ने पाकिस्तान को बड़ा झटका देते हुए अगले महीने होने वाले G-20 समेल्लन को लेकर अपना एक नया नोट जारी कर दिया हैं. इस नोट की ख़ास बात यह है की इसपर दुनिया के सभी देशों के नक़्शे मजूद हैं. ऐसे में सऊदी अरब ने अपने द्वारा जारी किये गए नए 20 रियाल के नोट पर कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान को एक आज़ाद देश के रूप में दिखा दिया हैं. सऊदी ने पाकिस्तान के नक़्शे से हटाए कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान G-20 शिखर सम्मेलन 21 और 22 को रियाद में आयोजित होने वाला हैं और इस नए नोट पर पाकिस्तान सरकार फिलहाल चुप हैं. सऊदी सरकार द्वारा जारी किये गए इस नोट में सामने की तरफ सऊदी किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज का फोटो और उनका एक स्लोगन मजूद हैं. इस नोट के पीछे बने दुनिया के सभी देशों के नक्शों को अलग अलग रंग से दिखाया गया हैं. ‘यूरेशियन टाइम्स’ की रिपोर्ट की माने तो सितंबर में इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद के चीफ योसी कोहेन ने कहा था की अमेरिका में चुनाव होने के बाद इजराइल के सऊदी अरब और बाकी अरब देशों के साथ कूटनीतिक संबंध पूरी तरह से सामान्य हो जायेंगे. ऐसे में पाकितान पूरी तरह से बौखला गया और उसने अपना पुराना राग अलापते हुए कहा की उसने आज तक इजराइल को न तो एक देश की मान्यता दी है और न ही उसके साथ डिप्लोमैटिक रिलेशन बनाने का विचार करेगा. बात करें पाकिस्तान की तो इसकी फिलिस्तीन और कश्मीर पर अरब देशों से अलग राय हैं. सऊदी अरब और इजराइल दोनों के ही भारत के साथ बहुत अच्छे रिश्ते हैं. यही कारण है की सऊदी अरब, पाकिस्तान को महज़ एक दोहम दर्ज़े का देश समझता हैं. इजराइल के साथ अच्छे रिश्ते कायम करने पर पकिस्तान के भारी विरोध करने के बाद सऊदी सरकार ने पाकिस्तान को अगस्त में फौरन कर्ज वापिस करने का आर्डर पास कर दिया था. सऊदी ने पाकिस्तान के नक़्शे से हटाए कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान जबकि पाकिस्तान अभी क़र्ज़ देने के हालात में नहीं बल्कि क़र्ज़ लेने के हालात में था है, नहीं तो उसे खुद को दिवालिया घोसित करना पड़ जाएगा. पकिस्तान को अब अरब देशों और अमेरिका से कोई उम्मीद नहीं हैं. इसलिए वह चीन और तुर्की के साथ मिलकर एक नया गुट बनाने की तैयारी कर रहा हैं. उधर सऊदी अरब बदलते वक़्त के साथ अपनी विदेश नीतियों में बदलाव करते हुए इजराइल जैसे देश से अच्छे राजनितिक संबंध कायम करने की कोशिश कर रहा हैं.