फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने लगाई अमेरिका और यूएन से गुहार, तो यूएन बोला ….

फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने गाजा पट्टी, वेस्ट बैंक और यरुशलम में जारी हिंसा की निंदा की और फिलिस्तीनी नागरिकों की हत्या को प्रायोजित करने के लिए इजरायल को दोषी ठहराया। आरोप लगाया। राष्ट्रपति अब्बास ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से अपील की है कि इससे पहले कि स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाए, इस मामले में हस्तक्षेप करें। फिलिस्तीनी राष्ट्रपति कार्यालय ने शुक्रवार को कहा कि महमूद अब्बास ने इस हिंसा (इजरायल फिलिस्तीन संघर्ष) के लिए पूरी तरह से इजरायल सरकार को जिम्मेदार ठहराया। शुक्रवार को इजरायली सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष में कम से कम 10 फिलिस्तीनी नागरिकों की मौत हो गई। राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अन्य दलों से भी कहा कि ऐसे समय में सभी को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार प्रभावित क्षेत्र में शांति स्थापित करने के प्रयास किए जाने चाहिए। संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव ने क्या कहा? इस बीच संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने इस्राइल और गाजा से हिंसा को तत्काल प्रभाव से रोकने की अपील की है। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। गुटेरेस ने चेतावनी दी कि अगर मौजूदा संघर्ष को नहीं रोका गया, तो यह न केवल फिलिस्तीनी क्षेत्र और इज़राइल में, बल्कि आसपास के क्षेत्र में भी सुरक्षा और मानवीय दृष्टि से एक असाधारण संकट पैदा करेगा, जो उग्रवाद को और बढ़ावा देगा। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने इससे जुड़े विभिन्न हितधारकों से हिंसा को समाप्त करने के लिए मध्यस्थता के प्रयास को तेज करने का आग्रह किया है। दुजारिक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र मध्यस्थता के प्रयास में पूरी तरह से सक्रिय है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने अमेरिका, यूरोपीय संघ और रूस से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है, संघर्ष में शामिल फिलीस्तीनी और इजरायली नागरिकों के लिए समर्थन व्यक्त किया है।
 

फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने लगाई अमेरिका और यूएन से गुहार, तो यूएन बोला ….

फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने गाजा पट्टी, वेस्ट बैंक और यरुशलम में जारी हिंसा की निंदा की और फिलिस्तीनी नागरिकों की हत्या को प्रायोजित करने के लिए इजरायल को दोषी ठहराया। आरोप लगाया। राष्ट्रपति अब्बास ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से अपील की है कि इससे पहले कि स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाए, इस मामले में हस्तक्षेप करें। फिलिस्तीनी राष्ट्रपति कार्यालय ने शुक्रवार को कहा कि महमूद अब्बास ने इस हिंसा (इजरायल फिलिस्तीन संघर्ष) के लिए पूरी तरह से इजरायल सरकार को जिम्मेदार ठहराया। शुक्रवार को इजरायली सुरक्षा बलों के साथ संघर्ष में कम से कम 10 फिलिस्तीनी नागरिकों की मौत हो गई। फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने लगाई अमेरिका और यूएन से गुहार, तो यूएन बोला …. राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अन्य दलों से भी कहा कि ऐसे समय में सभी को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार प्रभावित क्षेत्र में शांति स्थापित करने के प्रयास किए जाने चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव ने क्या कहा?

इस बीच संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने इस्राइल और गाजा से हिंसा को तत्काल प्रभाव से रोकने की अपील की है। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। गुटेरेस ने चेतावनी दी कि अगर मौजूदा संघर्ष को नहीं रोका गया, तो यह न केवल फिलिस्तीनी क्षेत्र और इज़राइल में, बल्कि आसपास के क्षेत्र में भी सुरक्षा और मानवीय दृष्टि से एक असाधारण संकट पैदा करेगा, जो उग्रवाद को और बढ़ावा देगा। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने इससे जुड़े विभिन्न हितधारकों से हिंसा को समाप्त करने के लिए मध्यस्थता के प्रयास को तेज करने का आग्रह किया है। दुजारिक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र मध्यस्थता के प्रयास में पूरी तरह से सक्रिय है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने अमेरिका, यूरोपीय संघ और रूस से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है, संघर्ष में शामिल फिलीस्तीनी और इजरायली नागरिकों के लिए समर्थन व्यक्त किया है।