शर्मनाक: प्रांत के चर्च में बच्चों का होता था यौन शोषण, हजारों पादरियों और स्टाफ का पुराना कच्चा चिट्ठा खुला

Children used to be sexually abused in the church : अभी हाल ही में फ्रांस (France) में एक नई रिपोर्ट का खुलासा हुआ है जिसमें सन 1950 से लेकर अब तक फ्रांस की कैथोलिक चर्चों के अंदर बच्चों के साथ बाल यौन शोषण (Child Abuse) किया जाता था. फ्रांस की चर्चाओं में बाल यौन शोषण के मामलों की जांच में लगे स्वतंत्र कमीशन ने इसकी जानकारी दी है. आपको बता दें कि बच्चों पर गंदी नजर रखने वाले और उनके साथ यौन शोषण करने वालों को पीडोफाइल कहा जाता है. इस कमीशन ने अपनी रिसर्च में पाया कि सन 1950 से लेकर अब तक कम से कम 2900 से 3200 पादरी चर्च के पीडोफाइल पादरी या अन्य सदस्यों का खुलासा हो चुका है. इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यह आंकड़ा कई गुना ज्यादा भी हो सकता है. गौरतलब है कि फ्रांस के चर्चों पर की गई ढाई साल की गहन रिसर्च के बाद कमीशन की यह रिपोर्ट मंगलवार को जारी होने वाली है इस रिसर्च को चर्च, कोर्ट, पुलिस आर्काइव् और गवाहों के साक्षात्कारों के आधार पर तैयार किया गया है. सूत्रों की मानें तो करीब 25 सौ पन्नों की इस रिपोर्ट में ना सिर्फ गुनहगारों की संख्या बताई गई है बल्कि पीड़ितों के आंकड़े भी बताए गए हैं रिपोर्ट में उस व्यवस्था पर भी बात की गई है जिनके कारण यह पीडोफाइल चर्च के अंदर रहकर भी सक्रिय थे. इस स्वतंत्र कमिशन का गठन साल 2018 में फ्रेंच कैथोलिक चर्च द्वारा किया गया था। उस समय कई स्कैंडल के खुलासों ने फ्रांस और दुनियाभर के चर्चों की व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए थे. इस रिपोर्ट को कानूनी विशेषज्ञ, डॉक्टर, इतिहासकार, सोशियोलॉजिस्ट और धर्मशास्त्री को मिलाकर तैयार किया गया था. बता दें कि कमीशन ने जब ढाई साल पहले इसकी शुरुआत की थी उस समय एक टेलीफोन हॉटलाइन जारी की थी. जिसके कुछ ही महीनों में हजारों से मिलने का दावा किया गया.
 

शर्मनाक: प्रांत के चर्च में बच्चों का होता था यौन शोषण, हजारों पादरियों और स्टाफ का पुराना कच्चा चिट्ठा खुला

Children used to be sexually abused in the church : अभी हाल ही में फ्रांस ( France) में एक नई रिपोर्ट का खुलासा हुआ है जिसमें सन 1950 से लेकर अब तक फ्रांस की कैथोलिक चर्चों के अंदर बच्चों के साथ बाल यौन शोषण ( Child Abuse) किया जाता था. फ्रांस की चर्चाओं में बाल यौन शोषण के मामलों की जांच में लगे स्वतंत्र कमीशन ने इसकी जानकारी दी है. आपको बता दें कि बच्चों पर गंदी नजर रखने वाले और उनके साथ यौन शोषण करने वालों को पीडोफाइल कहा जाता है. इस कमीशन ने अपनी रिसर्च में पाया कि सन 1950 से लेकर अब तक कम से कम 2900 से 3200 पादरी चर्च के पीडोफाइल पादरी या अन्य सदस्यों का खुलासा हो चुका है. इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यह आंकड़ा कई गुना ज्यादा भी हो सकता है. गौरतलब है कि फ्रांस के चर्चों पर की गई ढाई साल की गहन रिसर्च के बाद कमीशन की यह रिपोर्ट मंगलवार को जारी होने वाली है इस रिसर्च को चर्च, कोर्ट, पुलिस आर्काइव् और गवाहों के साक्षात्कारों के आधार पर तैयार किया गया है. सूत्रों की मानें तो करीब 25 सौ पन्नों की इस रिपोर्ट में ना सिर्फ गुनहगारों की संख्या बताई गई है बल्कि पीड़ितों के आंकड़े भी बताए गए हैं रिपोर्ट में उस व्यवस्था पर भी बात की गई है जिनके कारण यह पीडोफाइल चर्च के अंदर रहकर भी सक्रिय थे. इस स्वतंत्र कमिशन का गठन साल 2018 में फ्रेंच कैथोलिक चर्च द्वारा किया गया था। उस समय कई स्कैंडल के खुलासों ने फ्रांस और दुनियाभर के चर्चों की व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए थे. इस रिपोर्ट को कानूनी विशेषज्ञ, डॉक्टर, इतिहासकार, सोशियोलॉजिस्ट और धर्मशास्त्री को मिलाकर तैयार किया गया था. बता दें कि कमीशन ने जब ढाई साल पहले इसकी शुरुआत की थी उस समय एक टेलीफोन हॉटलाइन जारी की थी. जिसके कुछ ही महीनों में हजारों से मिलने का दावा किया गया.