योगी सरकार की नई जनसंख्या नीति पर भड़के SP सांसद शफीकुर्रहमान, बोले- कुदरत से टकराना ठीक नहीं

SP MP Shafiqur Rahman furious over Yogi: योगी सरकार ने विश्व जनसंख्या दिवस पर रविवार को नई जन नीति लाया जिस पर सियासी घमासान शुरू हो गया है उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने नई जनसंख्या नीति लाने का ऐलान कर दिया है. इस बीच संभल से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने एक विवादित बयान दे दिया है. बर्क का साफ कहना है कि बीजेपी सरकार (BJP Government) चलाने में फेल हो गई है. वह नए-नए कानून लाकर जनता को उलझाना चाहती है. उन्होंने कुरान का हवाला देते हुए कहा कि दुनिया को रब ने पैदा किया है. पैदाइश अल्लाह का कानून है और कुदरत से टकराना ठीक नहीं है। इससे नुकसान ही होगा. मीडिया से रूबरू होते हुए बर्क ने अपनी एक अजीबोगरीब दलील दे दी है. उन्होंने कहा कि अगर आबादी ज्यादा घट गई है और किसी मुल्क से लड़ाई हो गई तब क्या होगा? कुरान (Quran) का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस दुनिया को रब ने पैदा किया है. पैदाइश अल्लाह का कानून है. कुदरत से टकराना ठीक नहीं इससे नुकसान ही होगा. आगे संसद ने कहा कि जो जनसंख्या कानून लाने की बात हो रही है उससे आवाम का हित नहीं होगा. आगे उन्होंने कहा कि अल्लाह को जिसे पैदा करना है उसे कौन रोक सकता है. वह तो पैदा होगा ही. चाहे गरीब हो या अमीर सभी को खाना अल्लाह के रहमों करम से मिलता है. उन्होंने कहा कि जनसंख्या कानून से कोई लाभ नहीं होने वाला. यूनिफार्म सिविल कोड के सवाल पर उन्होंने कहा कि जब कानून आएगा तो उस पर चर्चा होगी। फिर कुछ कहा जा सकता हैं. इस नई जनसंख्या कानून को आवाम के खिलाफ बताते हुए सपा सांसद ने कहा कि,'आवाम को बीजेपी कुछ दे नहीं सकती. अब कानून के बहाने सहूलियत ना देने, चुनाव ना लड़ने दे कर परेशान किया जाएगा. कोरोना का मामला था सरकार जिसे कंट्रोल नहीं कर पाई. मैंने भी वैक्सीन लगवाई, कोई बुराई नहीं है. हम कानून मानने वाले हैं मगर जनसंख्या अल्लाह का कानून है. अल्लाह ने जितनी रूहे पैदा की हैं, उन्हें आनी है इंसान की शक्ल में तो कौन रोकेगा उन्हें? हम आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब सपा सांसद ने ऐसा बयान दिया है. इससे पहले भी वे अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्ख़ियों में रह चुके हैं. शफीकुर्रहमान ने नमाज़ को लेकर कहा था कि कोरोना कोई बीमारी नहीं बल्कि अल्लाह द्वारा हमारे गुनाहों की सजा है और हुकूमत द्वारा मस्जिद और ईदगाह में नमाज़ करने पर लगी पाबंदी को हटाया जाना चाहिए क्योंकि जब मुल्क के सभी लोग मस्जिदों में नमाज पढ़ेंगे तभी ये मुल्क बचेगा.
 

योगी सरकार की नई जनसंख्या नीति पर भड़के SP सांसद शफीकुर्रहमान, बोले- कुदरत से टकराना ठीक नहीं

SP MP Shafiqur Rahman furious over Yogi: योगी सरकार ने विश्व जनसंख्या दिवस पर रविवार को नई जन नीति लाया जिस पर सियासी घमासान शुरू हो गया है उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( Yogi Adityanath) ने नई जनसंख्या नीति लाने का ऐलान कर दिया है. इस बीच संभल से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने एक विवादित बयान दे दिया है. बर्क का साफ कहना है कि बीजेपी सरकार ( BJP Government) चलाने में फेल हो गई है. वह नए-नए कानून लाकर जनता को उलझाना चाहती है. उन्होंने कुरान का हवाला देते हुए कहा कि दुनिया को रब ने पैदा किया है. पैदाइश अल्लाह का कानून है और कुदरत से टकराना ठीक नहीं है। इससे नुकसान ही होगा. मीडिया से रूबरू होते हुए बर्क ने अपनी एक अजीबोगरीब दलील दे दी है. उन्होंने कहा कि अगर आबादी ज्यादा घट गई है और किसी मुल्क से लड़ाई हो गई तब क्या होगा? कुरान ( Quran) का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस दुनिया को रब ने पैदा किया है. पैदाइश अल्लाह का कानून है. कुदरत से टकराना ठीक नहीं इससे नुकसान ही होगा. आगे संसद ने कहा कि जो जनसंख्या कानून लाने की बात हो रही है उससे आवाम का हित नहीं होगा. आगे उन्होंने कहा कि अल्लाह को जिसे पैदा करना है उसे कौन रोक सकता है. वह तो पैदा होगा ही. चाहे गरीब हो या अमीर सभी को खाना अल्लाह के रहमों करम से मिलता है. उन्होंने कहा कि जनसंख्या कानून से कोई लाभ नहीं होने वाला. यूनिफार्म सिविल कोड के सवाल पर उन्होंने कहा कि जब कानून आएगा तो उस पर चर्चा होगी। फिर कुछ कहा जा सकता हैं. इस नई जनसंख्या कानून को आवाम के खिलाफ बताते हुए सपा सांसद ने कहा कि,'आवाम को बीजेपी कुछ दे नहीं सकती. अब कानून के बहाने सहूलियत ना देने, चुनाव ना लड़ने दे कर परेशान किया जाएगा. कोरोना का मामला था सरकार जिसे कंट्रोल नहीं कर पाई. मैंने भी वैक्सीन लगवाई, कोई बुराई नहीं है. हम कानून मानने वाले हैं मगर जनसंख्या अल्लाह का कानून है. अल्लाह ने जितनी रूहे पैदा की हैं, उन्हें आनी है इंसान की शक्ल में तो कौन रोकेगा उन्हें? हम आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब सपा सांसद ने ऐसा बयान दिया है. इससे पहले भी वे अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्ख़ियों में रह चुके हैं. शफीकुर्रहमान ने नमाज़ को लेकर कहा था कि कोरोना कोई बीमारी नहीं बल्कि अल्लाह द्वारा हमारे गुनाहों की सजा है और हुकूमत द्वारा मस्जिद और ईदगाह में नमाज़ करने पर लगी पाबंदी को हटाया जाना चाहिए क्योंकि जब मुल्क के सभी लोग मस्जिदों में नमाज पढ़ेंगे तभी ये मुल्क बचेगा.