खास खबर

19/1/1990: जब कश्मीरी पंडितो ने किया था पलायन

90 के दशक में कश्मी’री हिं’दुओं की ह’त्या एक कड़वी सच्चाई है जिसे चाहकर भी भुला पाना असंभव है। जो लोग कश्मीर में अपने घर और संपत्ति को रात भर खुद को बचा’ने के लिए छोड़ चुके हैं, उनके मन में आज भी वह रात है, जब उन्होंने अपने लोगों को बर्ब’रता से जिं’दा ज’लते देखा था, इससे पहले कि उनकी आंखें इस्ला’मिक कट्ट’रपंथ की चपेट में आ गईं। और जो 30 साल से न्याय की ल’ड़ाई लड़ रहे हैं। पिछले साल 14 नवंबर, 2019 को, भारतीय स्तंभकार सुनंदा वशिष्ठ अपने दिल में अनगिनत ऐसी कहानियों के साथ, टॉम लैंटोस एचआर द्वारा आयोजित अमेरिकी कांग्रेस की बैठक के लिए वाशिंगटन डीसी पहुंचे। हालांकि, वहां जाने से पहले, उन्होंने ट्वीट करके जानकारी दी थी कि इस आयोजन में वह केवल कश्मीर से जुड़ी कहानियों के बारे में बात करने वाली हैं, जिन्हें लोगों ने कभी नहीं सुना है या जिन्हें हमेशा टाला गया था। लेकिन जब उन्होंने वहां बोलना शुरू किया और कश्मी’री हिं’दुओं पर अत्याचार की आवाज बनी … तो ऐसा लगा जैसे हर कोई कांप गया हो।

कश्मीर की स्थिति पर नज़र के तौर पर, उन्होंने आयोजन में बोलना शुरू किया। इस दौरान उन्होंने घाटी में इस्ला’मिक कट्ट’रवाद के कारण कश्मीर की तुलना सीरिया से की। 30 साल पहले के समय को याद करते हुए, उन्होंने कहा कि उन्होंने कश्मीर में आईएसआईएस के स्तर और आ’तंक के बर्ब’रता का सामना किया है। इसलिए वे खुश हैं कि आज यहां मानवाधिकार बैठकें हो रही हैं, क्योंकि जब मेरे लोगों ने अपने घरों और अपने जीवन को खो दिया, तो पूरी दुनिया शांत थी।

अपने गुस्से को व्यक्त करते हुए, सुनंदा वशिष्ठ ने लोगों से पूछा कि मानवाधिकार वकील तब कहां थे जब हमारे अधिकारों को हमसे छीन लिया गया था। “वे लोग कहाँ थे जब 19 जनवरी 1990 की रात को घाटी की हर मस्जिद से एक ही आवाज़ आ रही थी कि हम कश्मी’र में हिंदू महि’लाओं को छोड़ जाओ लेकिन बिना किसी हिंदू पुरुष के।” उस रात की पीड़ा व्यक्त करते हुए, सुनंदा ने आगे पूछा, “जब मेरे दादाजी रसोई के चा’कू और जंग खाए कु’ल्हाड़ी से हमें मार’ने के लिए हमारे सामने खड़े थे, तो वे मानवता के रखवाले कहां थे, ताकि वह हमें उस बर्ब’रता से बचा सके। ”

बैठक में उन्होंने बताया कि आ’तंकवा’दियों द्वारा उस रात उनके लोगों को केवल 3 विकल्प दिए गए थे। या तो वे कश्मीर छोड़ कर भाग जाते हैं, या वे परिवर्तित हो जाते हैं या वे उसी रात म’र जाते। सुनंदा वशिष्ठ के अनुसार, उस रात लगभग 4 लाख कश्मी’री हिंदू द’हशत में आ गए और अपना घर और संपत्ति छोड़कर खुद को बचाने के लिए भाग गए। उनके अनुसार, आज 30 साल बाद भी वह कश्मीर में अपने घर नहीं जा पा रही हैं। क्योंकि वहां उनका स्वागत नहीं है। उन्हें अब भी वहां अपनी आस्था मानने की आजादी नहीं है। उनके घर को अन्य समुदायों के लोगों ने घेर लिया है और घरों को न केवल कब्जे में ले लिया गया है बल्कि ज’ला भी दिया गया है।

कश्मी’र पर बात करते समय, उन्होंने अमेरि’की पत्रकार डैनियल पर्ल को भी याद किया, जो आईएसआईएस द्वारा इस्ला’म ध’र्म का पालन नहीं करने के लिए सिर पर चढ़ा हुआ था, लेकिन फिर भी उसके अंतिम शब्द थे “मेरे पिता एक यहूदी थे, मेरी माँ एक यहूदी थी और मैं भी हूँ एक यहूदी। “इस बीच, खुद की तुलना डैनियल पर्ल से करते हुए, सुनंदा ने अपनी स्थिति का वर्णन करने के लिए अपने अंतिम शब्दों का इस्तेमाल किया और कहा,” मेरे पिता एक कश्मी’री हैं मेरी मां एक कश्मी’री हिंदू हैं और मैं भी एक कश्मी’री हिंदू हूं। ”

बैठक में बोलते हुए, भारतीय स्तंभकार ने दावा किया कि कश्मीर में उनका और उनका पूरा जीवन कट्टर’पंथी इस्ला’म द्वारा ब’र्बा’द हो गया। उन्हें गिरिजा टिक्कू जैसी महिलाओं का भी जिक्र किया गया था, जिन्हें अप’हरण कर बे’रहमी से मा’र दिया गया था। जिनके साथ सामू’हिक बला’त्का’र किया गया और उन्हें का’ट दिया गया। उन्होंने बीके गंजू जैसे लोगों के बारे में भी बात की। जिन्होंने अपने पड़ोसियों पर भरोसा करने के बदले में विश्वास’घात किया। जिन लोगों को कंटे’नर में ही गो’ली मा’री गई और उनकी पत्नी को खू’न से लथ’पथ चावल खाने के लिए मजबूर किया गया (वह भी पति के ही खू’न में मिलाया गया)। आपको बता दें कि सुनंदा ने अमेरिकी कांग्रेस की बैठक में इन बातों के लिए उनकी काफी सराहना की थी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खुद उनका वीडियो साझा किया और उनकी प्रशंसा की। उन्होंने लिखा कि यह वह आवाज है जिसे सुना जाना चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });