सैनिटाइजर से लाख गुना अच्छा हैं साबुन से हाथ धोना

दुनिया भर में फैली महामारी के बाद इंसानों को दो आदतें पड़ चुकी हैं, पहली बाहर निकलते हुए मास्क पहनना और दूसरी बाहर से आने के बाद हाथ धोना. लेकिन ऐसा भी नहीं हैं की लोग हाथों को साफ़ करने के लिए केवल साबुन का उपयोग करते हैं. दरअसल महामारी के बाद बड़ी-बड़ी कंपनी और डॉक्टर्स के शुरूआती दावों के चलते लोगों ने अपने जीवन में सैनिटाइजर का उपयोग करना बहुत ज्यादा बढ़ा दिया हैं. जबकि अब डॉक्टर्स की एक स्टडी के बाद पता चला है की सैनिटाइजर से ज्यादा अच्छा साबुन से हाथ धोना बेहतर हैं. इसी को लेकर सीमन्स यूनिवर्सिटी, अमेरिका के होम एंड कम्युनिटी हाइजीन प्रोफेसर एलिजाबेथ स्कॉट ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा की. "साबुन और पानी से हाथ धोने के बाद एक साफ तौलिये से सुखाना ही गोल्ड स्टैंडर्ड माना जाता है. साबुन हाथ से बैक्टीरिया और वायरस को नष्ट करता है." साबुत हाथों को रखा कर देता हैं, जिस वजह से हाथों में मजूद लगभग सभी प्रकार के कीटाणु मर जाते हैं. इसमें भी अगर आप तरल साबुन यानी "Liquid Hand Wash" का इस्तेमाल कर रहें हैं तो वो और भी ज्यादा असरदार होता हैं. दरअसल साबुन में एम्फीफाइल्स नाम का पदार्थ मजूद होता है जो की वायरस को निष्क्रिय कर देने में शक्षम होता हैं. ऐसे में डॉक्टर्स का कहना हैं की सैनिटाइजर का इस्तेमाल आप उन हालातों में कर सकते हैं जिन हालातों में आपके पास साबुन जैसी सुविधा मजूद न हो. क्यूंकि 62% अल्कोहल वाला सैनिटाइजर भी लिपिड मेम्ब्रेन को तो नष्ट कर सकता है लेकिन नोरोवायरस और राइनोवायरस जैसे नॉन एनडेवलप्ड वायरस के लिए कारगर साबित नहीं होता. इसके इलावा अगर आपके हाथ पर पहले से किसी तरह की Infection हैं या फिर आपकी Skin Sensitive है तो इस केस में भी आप सैनिटाइजर का उपयोग न करें. यह आपके हाथों में जलन पैदा करेगा जो आपको बहुत ज्यादा तकलीफ दे सकती हैं. डॉक्टर्स का कहना हैं की आप अगर साबुन से ठन्डे या गर्म अपनी सुविधा अनुसार जैसे भी पानी से 20 सेकंड तक हाथों को मलते हुए धोते हैं तो वह सैनिटाइजर के मुकाबले कई गुना अधिक फायदेमंद साबित होगा.
 

सैनिटाइजर से लाख गुना अच्छा हैं साबुन से हाथ धोना

दुनिया भर में फैली महामारी के बाद इंसानों को दो आदतें पड़ चुकी हैं, पहली बाहर निकलते हुए मास्क पहनना और दूसरी बाहर से आने के बाद हाथ धोना. लेकिन ऐसा भी नहीं हैं की लोग हाथों को साफ़ करने के लिए केवल साबुन का उपयोग करते हैं. दरअसल महामारी के बाद बड़ी-बड़ी कंपनी और डॉक्टर्स के शुरूआती दावों के चलते लोगों ने अपने जीवन में सैनिटाइजर का उपयोग करना बहुत ज्यादा बढ़ा दिया हैं. जबकि अब डॉक्टर्स की एक स्टडी के बाद पता चला है की सैनिटाइजर से ज्यादा अच्छा साबुन से हाथ धोना बेहतर हैं. इसी को लेकर सीमन्स यूनिवर्सिटी, अमेरिका के होम एंड कम्युनिटी हाइजीन प्रोफेसर एलिजाबेथ स्कॉट ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा की. "साबुन और पानी से हाथ धोने के बाद एक साफ तौलिये से सुखाना ही गोल्ड स्टैंडर्ड माना जाता है. साबुन हाथ से बैक्टीरिया और वायरस को नष्ट करता है." सैनिटाइजर से लाख गुना अच्छा हैं साबुन से हाथ धोना साबुत हाथों को रखा कर देता हैं, जिस वजह से हाथों में मजूद लगभग सभी प्रकार के कीटाणु मर जाते हैं. इसमें भी अगर आप तरल साबुन यानी "Liquid Hand Wash" का इस्तेमाल कर रहें हैं तो वो और भी ज्यादा असरदार होता हैं. दरअसल साबुन में एम्फीफाइल्स नाम का पदार्थ मजूद होता है जो की वायरस को निष्क्रिय कर देने में शक्षम होता हैं. ऐसे में डॉक्टर्स का कहना हैं की सैनिटाइजर का इस्तेमाल आप उन हालातों में कर सकते हैं जिन हालातों में आपके पास साबुन जैसी सुविधा मजूद न हो. क्यूंकि 62% अल्कोहल वाला सैनिटाइजर भी लिपिड मेम्ब्रेन को तो नष्ट कर सकता है लेकिन नोरोवायरस और राइनोवायरस जैसे नॉन एनडेवलप्ड वायरस के लिए कारगर साबित नहीं होता. इसके इलावा अगर आपके हाथ पर पहले से किसी तरह की Infection हैं या फिर आपकी Skin Sensitive है तो इस केस में भी आप सैनिटाइजर का उपयोग न करें. यह आपके हाथों में जलन पैदा करेगा जो आपको बहुत ज्यादा तकलीफ दे सकती हैं. डॉक्टर्स का कहना हैं की आप अगर साबुन से ठन्डे या गर्म अपनी सुविधा अनुसार जैसे भी पानी से 20 सेकंड तक हाथों को मलते हुए धोते हैं तो वह सैनिटाइजर के मुकाबले कई गुना अधिक फायदेमंद साबित होगा.