पाकिस्तान में भारी बारिश और बाढ़ ने ढाया कहर, मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 1000 के पार, आपातकाल का ऐलान: पाकिस्तान में बाढ़ कहर बरपा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के 135 जिलों में से 110 जिले इसे आपदा से प्रभावित हैं। सोमवार को मरने वालों का आधिकारिक आंकड़ा 1136 पर पहुंच गया है। दूर – दराज के क्षेत्रों का मुख्य इलाकों से संपर्क टूट चुका है। रास्ते और पुल – पुलियों के बह जाने के कारण उनतक राहत सामग्री पहुंचाना भी मुश्किल हो रहा है।पाकिस्तान में भारी बारिश और बाढ़ ने ढाया कहर, मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 1000 के पार, आपातकाल का ऐलान

पाकिस्तान में भारी बारिश और बाढ़ ने ढाया कहर, मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 1000 के पार, आपातकाल का ऐलानआर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने दुनियाभर से मदद की गुहार लगाई है। पाकिस्तानी जलवायू परिवर्तन मंत्री शेरी रहमान ने इसे दशक का सबसे भयावह मानसून बताया है। पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ता इस्माइल ने कहा कि विनाशकारी बाढ़ के कारण पाकिस्तानी इकोनॉमी को करीब 10 लाख डॉलर की चपत लगी है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पड़ोसी देश में बाढ़ से मचे हाहाकार पर दुख प्रकट किया है।

करीब 10 लाख करोड़ घरों को पहुंचा नुकसान

पाकिस्तान में आपदों से निपटने वाली एजेंसी नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के मुताबिक, देश में आई भीषण बाढ़ के कारण अब तक 1136 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि 1634 लोग घायल हुए हैं। बाढ़ के कारण 9,92,871 घर या तो पूरी तरह से तबाह हो चुके हैं या आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

लाखों लोग भोजन और शुद्ध पेयजल से वंचित हैं। भारी बारिश के कारण लाखों एकड़ कृषि योग्य भूमि पानी से भरी हुई है। बाढ़ से सबसे अधिक नुकसान पशुपालकों को हुआ है। करीब 7.19 लाख पशु मारे गए हैं। बाढ़ से मची तबाही में 3,451 किलोमीटर सड़कें, 149 ब्रिज और 170 दुकानें तहस-नहस हो चुकी है।

पाकिस्तान में आई बाढ़ से पीएम मोदी ने प्रभावित लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना जताई है। पीएम ने कहा कि पाकिस्तान में बाढ़ से हुई तबाही को देखकर दुख हुआ। हम पीड़ितों, घायलों और इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित सभी लोगों के परिवारों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना व्यक्त करते हैं और सामान्य स्थिति की शीघ्र बहाली की आशा करते हैं।