बॉलीवुड की ‘ड्रीम गर्ल’ कही जाने वाली हेमा मालिनी ने अपने समय से लेकर अब तक इंडस्ट्री को कई हिट फिल्में दी हैं। उनका सिनेमा से राजनीति तक का सफर बेहद दिलचस्प रहा है। हेमा एक जानी-मानी अभिनेत्री होने के साथ-साथ राजनीति की दुनिया की जानी-मानी राजनेता भी हैं, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि हेमा कभी राजनीति में नहीं आना चाहती थीं। वह राजनीति में जरूर आईं, लेकिन उनके परिवार वालों या उनके पति धर्मेंद्र ने इसके लिए कुछ नहीं कहा।

गौरतलब है कि जिसके कहने पर हेमा ने राजनीति का रास्ता चुना और आज तक उसी पर आगे बढ़ रही हैं. यह बात आपको हैरान कर सकती है कि वह शख्स थे विनोद खन्ना. विनोद खन्ना ने हेमा को राजनीति में आने की सलाह दी थी। साल 2017 में जब विनोद खन्ना का निधन हुआ था तो हेमा मालिनी ने उनका जिक्र करते हुए इस किस्से का जिक्र किया था। इस दौरान उन्होंने बताया था कि ‘वो इस बड़े कदम के लिए विनोद खन्ना के कर्जदार हैं।’ 1998 में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पंजाब के गुरदासपुर सीट से अभिनेता विनोद खन्ना को मैदान में उतारा।

उस वक्त वह एक साल पहले ही बीजेपी में शामिल हुए थे. पहले वे सिनेमा में सक्रिय थे, फिर उन्होंने अध्यात्म का रास्ता अपनाया। वहां से लौटने पर उन्होंने राजनीति की ओर रुख किया। यह उनके जीवन का तीसरा मार्ग था जिसे उन्होंने चुना था। विनोद खन्ना और हेमा मालिनी ने कई हिट फिल्मों में साथ काम किया था, जिसके चलते दोनों काफी अच्छे दोस्त बन गए। चुनाव की घोषणा होते ही विपक्ष ने गुरदासपुर में विनोद खन्ना के खिलाफ ‘बॉम्बे का बाबू’ कहकर माहौल बनाना शुरू कर दिया। इस दौरान विनोद ने हेमा मालिनी को याद किया।

ऐसा कहा जाता है कि विनोद खन्ना के मना करने के बाद हेमा सीधे अपनी मां के पास गई और उन्हें विनोद से फोन पर हुई बातचीत के बारे में बताया। इसके बाद उनकी मां ने कहा कि ‘विनोद खन्ना उनके अच्छे दोस्त हैं। यह नेता, उन्हें चुनाव प्रचार में जरूर जाना चाहिए। हेमा मालिनी के मुताबिक, यही वह समय था जब उनके राजनीतिक करियर की शुरुआत हुई थी। इसलिए वह हमेशा इसका श्रेय विनोद खन्ना को देती हैं। बता दें कि हेमा मालिनी उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से सांसद हैं। उन्होंने 2019 के चुनाव में लगातार दूसरी बार यह सीट जीती थी।

By Admin

You missed