ज्ञान

भरें बेटी के नाम से ये फार्म..21 साल की होने पर बेटी को मिलेंगे 77 लाख 99 हजार रुपए

sukanya samrddhi yojana

Sukanya Samrddhi Yojana: आप अपनी बेटी की शादी से पहले करोडपति बन सकते हैं। यानी जब तक आपकी बेटी की शादी नहीं होगी। उस समय तक आप कार और बंगले की व्यवस्था कर सकते हैं।

Sukanya Samrddhi Yojana:-

बता दें कि इसके लिए आपको अपनी बेटी के नाम के साथ सुकन्या समृद्धि खाता खोलना होगा। आप अपने नजदीकी डाकघर या बैंक में सुकन्या समृद्धि खाता खोल सकते हैं। अगर आप इस स्कीम में निवेश करते हैं तो आपको टैक्स में छूट भी मिलेगी।

आपको बता दें कि आप अपनी बेटी के सुकन्या समृद्धि खाते में 14 साल तक निवेश कर सकते हैं। बेटी के 21 साल का होने पर यह उम्र परिपक्व हो रही है। हालांकि, इस खाते में शेष राशि बेटी की बेटी की शादी करवाती रहती है।

उदाहरण के लिए, यदि आप अपनी 1 वर्ष की बेटी के नाम से सुकन्या समृद्धि खाता खोलते हैं। और हर 14 साल के लिए, आप हर महीने 12,500 रुपये का निवेश करते हैं, मौजूदा ब्याज दर के अनुसार, जब आपकी बेटी 21 साल की होगी, तो उसके खाते में कुल 77,99,280 रुपये होंगे।

अगर आपकी बेटी की शादी 25 साल की उम्र तक नहीं होती है तो इस राशि पर ब्याज मिलेगा। 25 साल की उम्र में, वह अपने खाते में 1 करोड़ रुपये से अधिक होगा।

आप 14 साल में सुकन्या समृद्धि खाते में 21 लाख रुपये का निवेश करेंगे और आपकी बेटी को 1 करोड़ रुपये से अधिक नकद मिलेगा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, बता दें कि वर्तमान में, सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना 8.5 प्रतिशत ब्याज मिल रहा है। केंद्र सरकार हर तीन महीने में इस योजना पर मिलने वाले ब्याज की समीक्षा करती रहती है।

सुकन्या समृद्धि खाते में कोई भी व्यक्ति एक वर्ष में 1.5 लाख रुपये तक निवेश कर सकता है। सुकन्या समृद्धि खाता 1 वर्ष से 10 वर्ष की आयु की बेटी के नाम पर खोला जा सकता है।

1 Comment

1 Comment

  1. protosmasher

    August 8, 2019 at 7:11 PM

    I really enjoy examining on this blog , it has got fine content .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });