Happy Promise Day (11 Feb)

Neeloo Neelpari Promise Day Poem
Neeloo Neelpari Promise Day Poem

कहते हैं….
टूट जाते हैं सब वादे
वादा न कोई तुम करना
गम के अंधेरों में खो गर जाऊं
समुन्दर में लैम्पपोस्ट से खड़े मिलना
निराशा-हताशा तोड़ने जो आये
पाषाण की चट्टान सा मुझे बनाना
डिगने लगूँ जब लक्ष्यों से अपने
आशा की किरण, सूरज तुम मेरे होना
शक की गाँठ जो पड़ने लगे रिश्ते में
प्रेम-मनुहार से मुझे समझना-समझाना
प्रेमी, दोस्त,भाई, पिता का रिश्ता
हो सके फ़र्ज़ समझ तुम निभाना
रिश्तों की भीड़ में तनहा खुद को पाऊं
थाम हाथ, लगा सीने से, खुशियाँ बांटना
सप्तपदी के वचनों सा ये वादा निभाना
खुद को स्वस्थ और खुश मेरे लिए रखना
अंतिम यात्रा जब जाऊँ, आँख नम न करना
और कुछ न मांगती हूँ तुमसे, सनम
गर प्रेम है सच्चा मुझसे…..
तो दिल तोड़ने का इरादा कभी न करना

कहो……
मानोगे न
आज ‘प्रॉमिस डे’ पर
ये मनुहार…? ?

© नीलू ‘नीलपरी’

Read Also : Happy Chocolate Day 2018, A Poem on Chocolate Day by Neeloo Neelpari

By dp

You missed