Neeloo Neelpari Teddy Day Poem

Neeloo Neelpari Teddy Day Poem

Teddy Day (10 Feb)

वल्लाह!
कैसी है यह
इश्क़ की खुमारी
पात-पात डोल रही
‘नीलपरी’ बन तिलती
उड़ने लगी क्यारी क्यारी
विसाल-ऐ-इश्क़ की मारी
दरवाज़े की सांकल जो खोली
तर्ज़ पर जन्मदिन यादगार बनाने की
कल रोपे थे जो ग्लैडूलाई
उन दो गमलों के बीच
पड़े दिखे,
सुनहरी किरणों में मुस्काते
तेरा अक्स खुद में छिपाते
तेरी ही तरह मासूम से
तेरी तरह चंचल-शरीर से
एक दूजे को बाँहों में समेटे
एक जोड़ी अनोखे से
“दो टेडी”
ख़त जो था साथ,
पढ़ी हिदायत….
हैंडल विद केअर
इटस नॉट अ टॉय
इट्स माई हार्ट
सेयिंग टू यू स्वीटहार्ट
आई वुड बी योर्स
टिल माय लास्ट सांस?,
टिल माय लास्ट ब्रेथ परी
….
उफ़्फ़्फ़ उफ्फ्फ्फ़ हाआआ
बाँवरों सी झूमने लगी
चिल्ला-चिल्ला लगी गाने
आज में ऊपर आसमान नीचे
आई एम् योर्स…
ओ माई स्वीटू ?

© नीलू ‘नीलपरी’

Read also : Propose Day Poem by Neeloo Neelpari

By dp

You missed