पंजाब सरकार में घमासान के बीच आया नवजोत सिंह सिद्धू का बयान, कही यह बात

पंजाब कांग्रेस में जारी हंगामे में हाईकमान के दखल के बाद नवजोत सिद्धू ने एक और ट्वीट किया है. इस बार सिद्धू ने कहा है कि अगर मेरी किसी और पार्टी के किसी नेता से मुलाकात है तो उसे साबित करके दिखाओ? सिद्धू ने यह भी कहा है कि मैंने आज तक किसी से कोई पद नहीं मांगा... मेरी एक ही मांग है "पंजाब की खुशी... मुझे कई बार बुलाया गया और कैबिनेट में शामिल होने की पेशकश की गई लेकिन मैंने जमीर के खिलाफ कुछ भी कबूल नहीं किया।" अब हमारे माननीय आलाकमान ने दखल दिया है.... हम इंतजार करेंगे। [embed]https://twitter.com/sherryontopp/status/1395990308438036480[/embed] पंजाब कांग्रेस में अंदरूनी कलह पर आलाकमान की पैनी नजर है। कांग्रेस आलाकमान अब इस अहंकार को जल्द से जल्द निपटाने की तैयारी कर रहा है. कांग्रेस महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने शुक्रवार को यह भी स्पष्ट किया कि यह पार्टी का आंतरिक मामला है। पार्टी सभी घटनाक्रमों पर कड़ी नजर रखे हुए है और इसे जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस आलाकमान के सीधे हस्तक्षेप को देखते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने भी फिलहाल चुप्पी साध रखी है. हर दिन तो कभी सीधे मुख्यमंत्री को घेरने वाले नवजोत सिद्धू ने शुक्रवार को सोशल मीडिया से दूरी बनाकर कोई सार्वजनिक बयान नहीं दिया. इस खामोशी से एक दिन पहले सिद्धू ने विधायकों और पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने दिल्ली दस्तक देने का नारा लगाया था. सिद्धू ने सोशल मीडिया पर लिखा कि अब विधायक और पार्टी कार्यकर्ता दिल्ली जाकर आलाकमान को सच बताएं, जो वह लगातार कह रहे हैं.
 

पंजाब सरकार में घमासान के बीच आया नवजोत सिंह सिद्धू का बयान, कही यह बात

पंजाब कांग्रेस में जारी हंगामे में हाईकमान के दखल के बाद नवजोत सिद्धू ने एक और ट्वीट किया है. इस बार सिद्धू ने कहा है कि अगर मेरी किसी और पार्टी के किसी नेता से मुलाकात है तो उसे साबित करके दिखाओ? सिद्धू ने यह भी कहा है कि मैंने आज तक किसी से कोई पद नहीं मांगा... मेरी एक ही मांग है "पंजाब की खुशी... मुझे कई बार बुलाया गया और कैबिनेट में शामिल होने की पेशकश की गई लेकिन मैंने जमीर के खिलाफ कुछ भी कबूल नहीं किया।" अब हमारे माननीय आलाकमान ने दखल दिया है.... हम इंतजार करेंगे। [embed]https://twitter.com/sherryontopp/status/1395990308438036480[/embed] पंजाब कांग्रेस में अंदरूनी कलह पर आलाकमान की पैनी नजर है। कांग्रेस आलाकमान अब इस अहंकार को जल्द से जल्द निपटाने की तैयारी कर रहा है. कांग्रेस महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने शुक्रवार को यह भी स्पष्ट किया कि यह पार्टी का आंतरिक मामला है। पार्टी सभी घटनाक्रमों पर कड़ी नजर रखे हुए है और इसे जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस आलाकमान के सीधे हस्तक्षेप को देखते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने भी फिलहाल चुप्पी साध रखी है. हर दिन तो कभी सीधे मुख्यमंत्री को घेरने वाले नवजोत सिद्धू ने शुक्रवार को सोशल मीडिया से दूरी बनाकर कोई सार्वजनिक बयान नहीं दिया. इस खामोशी से एक दिन पहले सिद्धू ने विधायकों और पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने दिल्ली दस्तक देने का नारा लगाया था. सिद्धू ने सोशल मीडिया पर लिखा कि अब विधायक और पार्टी कार्यकर्ता दिल्ली जाकर आलाकमान को सच बताएं, जो वह लगातार कह रहे हैं.