चिराग पासवान: राम मंदिर के बाद, अब बनेगा भव्य सीता माता मंदिर, बड़ा ऐलान

0
130

Sita Mata Temple in Bihar on the lines of Ram Temple: बिहार के चुनाव सर पर हैं, ऐसे में बिहार (Bihar Election 2020) की स्थानीय पार्टियां अपनी पूरी जान से लोगों को अपनी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर वोट देने के लिए उन्हें लुभाने की कोशिश कर रही हैं. राजनीती और धर्म का बहुत गहरा रिश्ता हैं, देश और राज्यों में कई बार धर्म के आधार पर ही सरकारें बनी और गिरी हैं. ऐसे में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी अपना धार्मिक कार्ड खेला हैं.

Sita Mata Temple in Bihar on the lines of Ram Temple-

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने सीता माता की जन्मस्थली सीतामढ़ी जाकर वहां के लोगों को अयोध्या राम मंदिर से भव्य सीता मंदिर (Sita Mata Temple in Bihar) बनाने का वादा कर डाला हैं. चिराग पासवान ने कहा हैं की राज्य में जैसे ही LJP और BJP की सरकार बनेगी हम सबसे पहले इसी मंदिर की आधारशीला रखेंगे.

जब एक पत्रकार ने चिराग पासवान से पूछा की, ‘क्या बिहार में आपकी सरकार बनने जा रही हैं?’ तो इसपर जवाब देते हुए चिराग ने कहा की, “बिल्‍कुल, हमारी सरकार बनेगी. कम से कम जो मुख्यमंत्री हैं वो दोबारा मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे और भाजपा के नेतृत्व में हम भाजपा-लोजपा सरकार बनाएंगे.” आपको बता दें की चिराग पासवान ने ‘बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट’ में भी अपने विजन डॉक्यूमेंट में सीतामढ़ी में एक भव्य सीता मंदिर बनाने का वादा किया हुआ हैं.

चिराग पासवान का कहना हैं की इस मंदिर के साथ ही सीतामढ़ी अयोध्या नगरी जितना विकसित हो जाएगा. फिर जैसे-जैसे यहाँ पर धार्मिक पर्यटन बढ़ेगा यहाँ के लोगों का जीवन सुधरने लगेगा. इस इलाके में विकास की गंगा बहने लगेगी और लोग अपना जीवन ख़ुशी ख़ुशी यापन कर सकेंगे.

चिराग पासवान ने कहा की राम बिना सीता अधूरी है और सीता बिना राम इसलिए इस मंदिर के बनने के साथ ही अयोध्या से लेकर सीतामढ़ी तक एक कॉरिडोर का भी निर्माण करवाया जाएगा. चिराफ़ पासवान की इतनी दूर की सोच देखते हुए यह तो तय है की उनका फैसला सिर्फ चुनावी वादा नहीं हैं.

ओपिनियन पोल्स की माने तो LJP अभी भी मात्र 6-10 सीटों पर ही अपनी दावेदारी ठोक सकती हैं. ऐसे में चुनाव के बाद अगर LJP सरकार न भी बना पाए तो क्या विपक्ष में वो अपने इस सपने को पूरा करने के लिए सरकार पर दबाव बनाएंगे या अपनी पार्टी के सत्ता में आने तक केवल इंतजार करेंगे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here