शिल्पा शेट्टी ने अपने पति की बदनामी देख खटखटाया कोर्ट का दरवाजा, उल्टा जज ने ही निकाल दी सारी हेकड़ी

0
89
shilpa-shetty-knocked-on-the-courts-door-after-seeing-her-husbands-slander-on-the-contrary-the-judge-removed-all-the-hypocrisy

Shilpa Shetty knocked on the court’s door: बॉम्बे हाईकोर्ट ने शुक्रवार, 30 जुलाई को शिल्पा शेट्टी (Shilpa Shetty) द्वारा कई मीडिया हाउस के खिलाफ किए गए मानहानि के दावे की सुनवाई की. हाईकोर्ट (High Court) ने शिल्पा शट्टी के वकील से पूछा कि मीडिया अगर पुलिस सूत्रों के हवाले से कोई खबर चला रहा है तो वो गलत कैसे है?

मुंबई हाईकोर्ट ने शिल्पा शेट्टी के वकील से कहा कि आपके क्लाइंट के पति के खिलाफ एक गंभीर केस है. इस केस को मीडिया कवर कर रहा है. भारत में मीडिया को खबर प्रकाशित करने और दिखाने की पूरी आजादी है. हाईकोर्ट मीडिया की स्वतंत्रता को प्रभावित करने का कोई काम नहीं करेगा. यानी हाईकोर्ट इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगा. आपका क्लाइंट कोई भी हो. मानहानि को लेकर एक निश्चित कानून है. अदालत उसी के तहत काम करती है.

हाईकोर्ट ने कहा कि हम यह नहीं जानते कि केस में वे दोषी हैं या नहीं हैं लेकिन पुलिस सूत्रों के आधार पर मीडिया अगर किसी खबर को सामने ला रही है तो वो मानहानि के तहत कैसे आ सकता है. शिल्पा शेट्टी के वकील ने कोर्ट से कहा कि मीडिया में कुछ लोग राज कुंद्रा के अलावा उनकी बेटे, मां यानी पूरे परिवार का नाम इस मामले में घसीट रहे हैं. इस पर कोर्ट ने कहा कि एक व्यक्ति द्वारा ऐसा किए जाने से बाकी लोगों को अपना काम करने से रोका नहीं जा सकता.

कोर्ट ने कहा ऐसे व्यक्तिगत उदाहरण को कोर्ट के सामने लाइए, आप जिसका उदाहरण दे रहे हैं उस यू ट्यूब चैनल ने सूचना दी है कि वे अपने चैनल से वह कंटेंट हटा चुके हैं और दोबारा वह कंटेंट नहीं अपलोड करेंगे. कोई और ऐसा उदाहरण है तो बताएं. उस पर जरूर गौर किया जाएगा. लेकिन पुलिस सूत्रों के हवाले से खबर देने को मानहानि नहीं समझा जा सकता.

शिल्पा के वकील ने कोर्ट में कहा था कि मीडिया को दूसरा पक्ष यानी शिल्पा के साइड का मत जानकर लिखा जाना चाहिए. इस पर हाईकोर्ट ने कहा कि ऐसा लिखा जाना अपमानजनक क्यों समझा जाए कि शिल्पा शेट्टी को रोना आया और उनका अपने पति से झगड़ा हुआ?

इस पर कोर्ट ने यह जरूर कहा कि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए, लेकिन कोर्ट उन्हें बाध्य नहीं कर सकता. मीडिया अपना मानक खुद तय करे. प्रेस की आजादी जरूरी है लेकिन शिल्पा शेट्टी के निजता के अधिकार का सम्मान भी जरूरी है. शिल्पा शेट्टी पब्लिक फीगर हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि उन्हें प्राइवेसी का अधिकार नहीं है.

बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति एवं उद्योगपति राज कुंद्रा पोर्नोग्राफी केस में बुरी तरह फंसे हुए हैं. राज इन दिनों 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं. इस केस में राज की मुश्किलें लगातार बढ़ती नजर आ रही हैं. इसी बीच अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने गुरुवार को 29 मीडिया कर्मियों और मीडिया हाउस के खिलाफ एक पोर्नोग्राफी मामले में ‘झूठी रिपोर्टिंग करने और उनकी छवि खराब करने’ के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का मुकदमा दायर किया. जिन मीडिया के खिलाफ शिल्पा ने शिकायत की है उनमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यू ट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स भी हैं. बॉम्बे हाईकोर्ट में आज (शुक्रवार) इसी मामले की सुनवाई हुई.

दरअसल राज के जेल में जाने के बाद से लगातार मीडिया में उनको लेकर अलग अलग तरह की खबरें चल रही हैं, जिनके खिलाफ एक्ट्रेस ने एक्शन लिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here