मिश्राजी बनेगे मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री? शिवराज सिंह की कुर्सी खतरे में

0
144
will-mishraji-be-the-new-chief-minister-of-madhya-pradesh-shivraj-singhs-chair-in-danger

Will Mishraji be the new Chief Minister of Madhya Pradesh? :दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य में बीजेपी ने जिस तरह से बीएस येदियुरप्पा को लंबे कार्यकाल के बाद नेतृत्व परिवर्तन करते हुए उन्हें किनारे किया है, वो इस बात का पर्याय है कि पार्टी अब बड़ा राजनीतिक कद होने के बावजूद नेतृत्व परिवर्तन से पीछे नहीं हटेगी. यही बात बीजेपी को अन्य पार्टियों से अलग बनाती है.

वर्तमान समय मे देखे तो बीजेपी (BJP) शासित राज्यों में राज्य का नेतृत्व राजस्थान और मध्य प्रदेश को छोड़कर लगभग सभी जगह पर युवा एवं नई पीढ़ी के नेताओं के हाथों में है. ऐसे में कर्नाटक के प्रकरण के बाद ये तय माना जा रहा है कि राजस्थान और मध्यप्रदेश में भी नेतृत्व परिवर्तन अवश्य होगा, लेकिन सवाल यह है की मामा के बाद मध्य प्रदेश का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा?

राजस्थान में बीजेपी की हार के बाद वसुंधरा पहले ही किनारे की जा चुकी हैं, और अब ये माना जा रहा है कि मध्य प्रदेश में मामा शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh chauhan) को भी केंद्र की राजनीति में लाकर राज्य में नेतृत्व बदलाव किया जा सकता है, और मध्य प्रदेश का अगले मुख्यमंत्री , वर्तमान गृहमंत्री का पद संभाल रहे नरोत्तम मिश्रा हो सकते है.

गौरतलब है की अगले मुख्यमंत्री के तौर पर जो नाम सबसे अधिक चर्चा का विषय है, वो है राज्य के वर्तमान गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा का. कट्टर हिन्दूवादी छवि वाले मिश्रा को गृहमंत्रालय मिलना ही यह स्पष्ट करता है कि वो सरकार में कितने अधिक महत्वपूर्ण हैं. 2020 में भी उन्हें मुख्यमंत्री बनाने की चर्चाएं थीं, लेकिन मामा के कद के आगे बीजेपी बीच विधानसभा कार्यकाल के दौरान कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी.

नरोत्तम मिश्रा के राजनीतिक कुशलता की बात करें तो वह मध्यप्रदेश प्रदेश की दतिया विधानसभा से चुनकर आते हैं , वो लगातार 6 बार से पार्टी के लिए विधानसभा चुनाव जीतकर आ रहे हैं. सरकार से लेकर संगठनात्मक कार्यों में मिश्रा की भूमिका अहम रहती है.

बीजेपी उनके राजनीतिक कौशल को अच्छे से जानती है, यही कारण है कि पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनावों में पार्टी ने उन्हें अहम जिम्मेदारियां दीं थीं. हिंदूवादी चेहरा माने जाने वाले नरोत्तम की छवि त्वरित फैसले लेने की है, जो कि बीजेपी के फायरब्रांड नेताओं की कार्यशैली भी है.

केवल राजनीतिक ही नहीं प्रशासनिक स्तर पर भी नरोत्तम का अनुभव प्रशंसनीय है.राज्य में लव जिहाद के मुद्दे पर आक्रामक रवैया अपनाने से लेकर उसके लिए कानूनी प्रावधान तैयार करने में नरोत्तम मिश्रा की मुख्य भूमिका है.

इन्ही सब कुशलताओं और जनता प्रेम होने के कारण नरोत्तम मिश्रा , मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार बन गये है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here