कांग्रेस नेता: जब सभी ने अच्छा काम किया तो सबको हटा क्यों दिया? तो ऐसे दिया बीजेपी नेता ने जवाब

0
370
Congress-leader:-When-everyone-did-a-good-job,-why-was-everyone-fired?-So-this-is-how-the-BJP-leader-replied

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के मंत्रिमंडल का बीते 7 जुलाई को विस्तार हुआ जिसमें कई नए चेहरों को देखा गया तो वही कुछ दिग्गज लोगों की छुट्टी कर दी गई. मोदी कैबिनेट के विस्तार के बाद डॉक्टर हर्षवर्धन, रवीशंकर प्रसाद, प्रकाश जावेडकर जैसे कई दिग्गज नेताओं को इस्तीफा देना पड़ा.

मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद से ही सियासत एक बार फिर से तेज हो गई इस मामले को लेकर आज तक के हल्ला बोल में भी चर्चा की गई जहां कांग्रेस (Congress) नेता सुप्रिया श्रीनेत ने भाजपा (BJP) नेता गौरव भाटिया से सवाल किया कि अगर सब ने अच्छा काम किया तो फिर उन्हें हटाया क्यों गया?

अंजना ओम कश्यप के शो में सुप्रिया श्रीनेत ने मोदी कैबिनेट में शामिल हुए नए लोगों को शुभकामनाएं दीं. इसके साथ ही उन्होंने भाजपा पर भी तंज कसने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी. सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, ‘मैं पूरी बधाइयां और पूरी शुभकामनाएं देना चाहती हूं, लेकिन दर्शकों के सामने कुछ बातें भी रखना चाहती हूं.’

इस मामले को लेकर सुप्रिया श्रीनेत ने आगे कहा कि,’पहली बात तो यह है कि इन्होंने कहा कि सबने बहुत ही बढ़िया काम किया है। मैं पूछती हूं कि अगर सबने इतना ही बढ़िया काम किया तो पुरस्कृत करने की जगह हटा क्यों दिये गए? इन्होंने कहा कि योग्य लोग लाए गए तो पहले क्या अयोग्य लोग इसमें थे.”

आगे उन्होंने कहा कि,’इन्होंने पत्रकारों की भी बात की. इस देश में शिक्षा, स्वास्थ्य, आईएमपी, लॉ और टेलीकॉम सरकार की नींव होती है. लेकिन इन सब में परिवर्तन आ गया. हर्षवर्धन जी को हटाया, क्योंकि आपने माना कि कुप्रबंधन है. शिक्षा में दिक्कतें आईं वहां भी आपने माना.’

फिर सुप्रिया ने अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र करते हुए कहा,“ठीकरा फोड़ने का काम तो आप कर रहे हैं. नई पॉलिसी आई तो धन्यवाद मोदी जी, वैक्सीन लगी तो धन्यवाद मोदी जी और नहीं लगी तो हर्षवर्धन जी.” सुप्रिया श्रीनेत की इन बातों का जवाब देने से गौरव भाटिया भी पीछे नहीं हटे.

इसके जवाब में गौरव भाटिया ने कहा कि,’यूपीए वन में 26/11 के वक्त शिवराज पाटिल गृह मंत्री थे, वहां पी चिदंबरम को लाया गया। यूपीए 2 में उन्हें बदलकर सुशील कुमार शिंदे आए. वित्त मंत्रालय में पी चिदंबरम आए, उन्हें बदलकर प्रणव मुखर्जी (Pranav Mukhargee) आ गए। लेकिन उन्हें बदलकर फिर से पी चिदंबरम आ गए.’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here