अखिल गोगोई को लेकर असम के मुख्यमंत्री बोले- इनका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है, विधानसभा में बिल्कुल भी एंट्री ना हो

असम राज्य की नई मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने आज ही में कहा कि जेल के अंदर कार्यकर्ता और विधायक अखिल गोगोई मानसिक समस्याओं से पीड़ित यानी कि उनका कहने का अर्थ है कि उनकी मानसिक कंडीशन ठीक नहीं है! मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि अखिल गोगोई का भावनात्मक संतुलन और मानसिक बीमारी का इलाज चल रहा !है उन्होंने गोगोई को विधानसभा सत्र में हिस्सा लेने की इजाजत देने की कांग्रेस की मांग को भी खारिज कर दिया! उनका कहना है कि सरकार ने किसी के खिलाफ कोई नकारात्मक नजरिया नहीं रखा है! मुख्यमंत्री का कहना है कि गोगोई को बताया गया है कि उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है वह मानसिक समस्याओं का इलाज करा रहे हैं उनका भावनात्मक असंतुलन और मानसिक बीमारी के लिए इलाज भी चल रहा है! तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन 21 मई को आरटीआई कार्यकर्ता से नेता बने गोगोई विशेष एनआईए अदालत से मंजूरी लेने के बाद विधायक के तौर पर शपथ लेने के लिए विधानसभा में आए थे! वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है! वहीं मुख्यमंत्री का कहना है कि वह उस दिन विधानसभा में आए थे कोविड-19 नियमों को भूलकर वह सदन में हर किसी सदस्य से मिलने के लिए पहुंच गए! वह बीमारी की पूर्व चेतावनी हैं! जीएमसीएच के डॉक्टरों ने मुझे बताया है कि उनको भी बीमारी हैं उन्होंने यह भी कहा है कि मैंने डॉक्टर से पूछा कि वह स्वस्थ दिख रहे थे तो आपने उन्हें हॉस्पिटल में क्यों रखा है? क्या यह उन्हें किसी तरीके से मदद पहुंचाने की कोशिश है? तो उन्होंने कहा नहीं सर यह उनकी बीमारी है!
 

अखिल गोगोई को लेकर असम के मुख्यमंत्री बोले- इनका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है, विधानसभा में बिल्कुल भी एंट्री ना हो

असम राज्य की नई मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने आज ही में कहा कि जेल के अंदर कार्यकर्ता और विधायक अखिल गोगोई मानसिक समस्याओं से पीड़ित यानी कि उनका कहने का अर्थ है कि उनकी मानसिक कंडीशन ठीक नहीं है! मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि अखिल गोगोई का भावनात्मक संतुलन और मानसिक बीमारी का इलाज चल रहा !है उन्होंने गोगोई को विधानसभा सत्र में हिस्सा लेने की इजाजत देने की कांग्रेस की मांग को भी खारिज कर दिया! उनका कहना है कि सरकार ने किसी के खिलाफ कोई नकारात्मक नजरिया नहीं रखा है! मुख्यमंत्री का कहना है कि गोगोई को बताया गया है कि उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है वह मानसिक समस्याओं का इलाज करा रहे हैं उनका भावनात्मक असंतुलन और मानसिक बीमारी के लिए इलाज भी चल रहा है! तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन 21 मई को आरटीआई कार्यकर्ता से नेता बने गोगोई विशेष एनआईए अदालत से मंजूरी लेने के बाद विधायक के तौर पर शपथ लेने के लिए विधानसभा में आए थे! वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है! वहीं मुख्यमंत्री का कहना है कि वह उस दिन विधानसभा में आए थे कोविड-19 नियमों को भूलकर वह सदन में हर किसी सदस्य से मिलने के लिए पहुंच गए! वह बीमारी की पूर्व चेतावनी हैं! जीएमसीएच के डॉक्टरों ने मुझे बताया है कि उनको भी बीमारी हैं उन्होंने यह भी कहा है कि मैंने डॉक्टर से पूछा कि वह स्वस्थ दिख रहे थे तो आपने उन्हें हॉस्पिटल में क्यों रखा है? क्या यह उन्हें किसी तरीके से मदद पहुंचाने की कोशिश है? तो उन्होंने कहा नहीं सर यह उनकी बीमारी है!