उत्तर प्रदेश की राजनीति में बड़ी हलचल, प्रधानमंत्री मोदी के करीबी नेता की हो सकती है राज्य में एंट्री

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम नरेंद्र मोदी के करीबी और नए चेहरे अरविंद कुमार शर्मा की राज्य सरकार में एंट्री हो सकती है. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी ने 2022 का विधानसभा चुनाव सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के नेतृत्व में लड़ने का फैसला किया है. लेकिन कैबिनेट में बड़ा फेरबदल होना तय है. बीते दिनों भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष उत्तर प्रदेश पहुंचे थे और राज्य के कई मंत्रियों और विधायकों से अलग-अलग मुलाकात की थी. इसके अलावा यूपी को लेकर दिल्ली में शीर्ष नेतृत्व की बैठक भी हुई। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि यूपी सरकार में 'ऑल इज वेल' नहीं है। भले ही बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ और स्वतंत्र देव सिंह को बनाए रखने का संकेत देकर अटकलों पर विराम लगा दिया है, फिर भी सब कुछ सामान्य नहीं दिख रहा है। हालांकि ये भी साफ है कि बीजेपी योगी आदित्यनाथ को लेकर कोई फैसला नहीं लेगी. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि इस महीने योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट में बड़े बदलाव हो सकते हैं. इसमें सरकार द्वारा जाति और क्षेत्रीय समीकरणों को हल करने का प्रयास किया जा सकता है। हाल ही में यूपी आए संगठन महासचिव बीएल संतोष और यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह के मंत्रियों और विधायकों के साथ एक के बाद एक बैठक में लिए गए फीडबैक के बाद यह फैसला लिया गया है. बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह की टीम ने सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के अलावा कई मंत्रियों और विधायकों के साथ बैठक की. इसके बाद उनसे मिली प्रतिक्रिया से केंद्रीय नेतृत्व को अवगत करा दिया गया है. कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं को आरएसएस के इशारे पर बीजेपी ने भेजा था. मई के आखिरी दिनों में आरएसएस के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले भी दोनों दिन लखनऊ आए थे. माना जा रहा था कि वह भी यूपी में सरकार के कामकाज और विधानसभा चुनाव से जुड़ी तैयारियों पर फीडबैक लेने के लिए रुके हुए थे. इतना ही नहीं अगले साल यूपी समेत कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा 5 और 6 जून को दिल्ली में बैठक करने वाले हैं. इसके अलावा वह अगले महीने यूपी का भी दौरा करेंगे, जिसमें वह पार्टी संगठन में फेरबदल पर चर्चा कर सकते हैं। भले ही योगी आदित्यनाथ को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हों, लेकिन बीजेपी नेताओं ने रिकॉर्ड स्तर पर योगी आदित्यनाथ की तारीफ की है. बीएल संतोष ने बीते दिनों भी ट्वीट कर कोरोना से निपटने के लिए योगी सरकार की तारीफ की थी.
 

उत्तर प्रदेश की राजनीति में बड़ी हलचल, प्रधानमंत्री मोदी के करीबी नेता की हो सकती है राज्य में एंट्री

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम नरेंद्र मोदी के करीबी और नए चेहरे अरविंद कुमार शर्मा की राज्य सरकार में एंट्री हो सकती है. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी ने 2022 का विधानसभा चुनाव सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के नेतृत्व में लड़ने का फैसला किया है. लेकिन कैबिनेट में बड़ा फेरबदल होना तय है. बीते दिनों भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष उत्तर प्रदेश पहुंचे थे और राज्य के कई मंत्रियों और विधायकों से अलग-अलग मुलाकात की थी. इसके अलावा यूपी को लेकर दिल्ली में शीर्ष नेतृत्व की बैठक भी हुई। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि यूपी सरकार में 'ऑल इज वेल' नहीं है। भले ही बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ और स्वतंत्र देव सिंह को बनाए रखने का संकेत देकर अटकलों पर विराम लगा दिया है, फिर भी सब कुछ सामान्य नहीं दिख रहा है। हालांकि ये भी साफ है कि बीजेपी योगी आदित्यनाथ को लेकर कोई फैसला नहीं लेगी. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि इस महीने योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट में बड़े बदलाव हो सकते हैं. इसमें सरकार द्वारा जाति और क्षेत्रीय समीकरणों को हल करने का प्रयास किया जा सकता है। हाल ही में यूपी आए संगठन महासचिव बीएल संतोष और यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह के मंत्रियों और विधायकों के साथ एक के बाद एक बैठक में लिए गए फीडबैक के बाद यह फैसला लिया गया है. बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह की टीम ने सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के अलावा कई मंत्रियों और विधायकों के साथ बैठक की. इसके बाद उनसे मिली प्रतिक्रिया से केंद्रीय नेतृत्व को अवगत करा दिया गया है. कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं को आरएसएस के इशारे पर बीजेपी ने भेजा था. मई के आखिरी दिनों में आरएसएस के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले भी दोनों दिन लखनऊ आए थे. माना जा रहा था कि वह भी यूपी में सरकार के कामकाज और विधानसभा चुनाव से जुड़ी तैयारियों पर फीडबैक लेने के लिए रुके हुए थे. इतना ही नहीं अगले साल यूपी समेत कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा 5 और 6 जून को दिल्ली में बैठक करने वाले हैं. इसके अलावा वह अगले महीने यूपी का भी दौरा करेंगे, जिसमें वह पार्टी संगठन में फेरबदल पर चर्चा कर सकते हैं। भले ही योगी आदित्यनाथ को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हों, लेकिन बीजेपी नेताओं ने रिकॉर्ड स्तर पर योगी आदित्यनाथ की तारीफ की है. बीएल संतोष ने बीते दिनों भी ट्वीट कर कोरोना से निपटने के लिए योगी सरकार की तारीफ की थी.