पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के दमाद पर बीजेपी सांसद ने लगाया गंभीर आरोप, क्या है पूरा मामला

BJP MP made serious allegations against son-in-law of former Chief Minister: अभी हाल ही में बीजेपी (BJP) के पूर्व विधायक राजेश वर्मा और पन्ना भाजपा जिलाध्यक्ष ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के दामाद रंजीत सिंह (Ranjeet Singh) पर गंभीर आरोप लगाए हैं. इस प्रेस कांफ्रेंस के दौरान रंजीत सिंह पर कई आरोप प्रत्यारोप का दांव खेला है. उनके आरोप हैं कि पन्ना जिले में गैरकानूनी तरीके से आदिवासियों की जमीन हड़पी गई है. राजेश वर्मा ने कहा कि पन्ना जिले के मंडला में खरीदी गई एक जमीन में दिग्विजय सिंह भी 50% के हिस्सेदार हैं. आगे राजेश ने कहा दिग्विजय ने अपने मुख्यमंत्री काल मे अपने चहेतों को करोड़ो की जमीन कोड़ियों के भाव दिलवा दी थी. गौरतलब है कि बीजेपी ने आरोप लगाया कि जो जमीन सरकार की तरफ से जनता के हित के लिए दी जाती है, उसपर दिग्विजय सिंह के रिश्तेदार और चहेते कब्जा कर के बैठे हैं. इसलिए ऐसी सार्वजनिक हित की जमीनों को खाली करवाया जाना चाहिए और यह जमीन जिनकी है उन्हें वापस कर देना चाहिए. बता दें कि, इस मामले पर पन्ना कलेक्टर ने कार्रवाई भी की थी, जिसे पूर्व विधायक राजेश वर्मा ने सही बताया, लेकिन इसका हल नहीं निकला है. सूत्रों के मुताबिक दरअसल बात यह है कि कांग्रेस की पूर्व जिलाध्यक्ष दिव्यरानी सिंह पर गैरकानूनी ढंग से एक जमीन हड़पने का है. आरोप है कि इस जमीन को 1994 में 2 साल की लीज पर लिया था, जिसे बाद में गैरकानूनी तरीके से अपने कब्जे में ले लिया है. हम आपको बता दें ये जमीन फलदार वृक्ष लगाने के लिए शासन की ओर से दी गई थी, लेकिन यहां यूके लिप्टिस के पेड़ लगाए गए हैं. आरोप है कि जमीन का इस्तेमाल जनता के हित के लिए होना चाहिए, जो नहीं हो रहा है. इसी मुद्दे को लेकर पन्ना जिला प्रशासन दिव्यरानी सिंह के कब्जे से नहर पट्टी की 3 हेक्टेयर जमीन छुड़ाने का लगातार प्रयास कर रहा है. यहां जिला प्रशासन ने अपने अधिपत्य का बोर्ड भी लगा दिया है.
 

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के दमाद पर बीजेपी सांसद ने लगाया गंभीर आरोप, क्या है पूरा मामला

BJP MP made serious allegations against son-in-law of former Chief Minister: अभी हाल ही में बीजेपी ( BJP) के पूर्व विधायक राजेश वर्मा और पन्ना भाजपा जिलाध्यक्ष ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ( Digvijay Singh) के दामाद रंजीत सिंह ( Ranjeet Singh) पर गंभीर आरोप लगाए हैं. इस प्रेस कांफ्रेंस के दौरान रंजीत सिंह पर कई आरोप प्रत्यारोप का दांव खेला है. उनके आरोप हैं कि पन्ना जिले में गैरकानूनी तरीके से आदिवासियों की जमीन हड़पी गई है. राजेश वर्मा ने कहा कि पन्ना जिले के मंडला में खरीदी गई एक जमीन में दिग्विजय सिंह भी 50% के हिस्सेदार हैं. आगे राजेश ने कहा दिग्विजय ने अपने मुख्यमंत्री काल मे अपने चहेतों को करोड़ो की जमीन कोड़ियों के भाव दिलवा दी थी. गौरतलब है कि बीजेपी ने आरोप लगाया कि जो जमीन सरकार की तरफ से जनता के हित के लिए दी जाती है, उसपर दिग्विजय सिंह के रिश्तेदार और चहेते कब्जा कर के बैठे हैं. इसलिए ऐसी सार्वजनिक हित की जमीनों को खाली करवाया जाना चाहिए और यह जमीन जिनकी है उन्हें वापस कर देना चाहिए. बता दें कि, इस मामले पर पन्ना कलेक्टर ने कार्रवाई भी की थी, जिसे पूर्व विधायक राजेश वर्मा ने सही बताया, लेकिन इसका हल नहीं निकला है. सूत्रों के मुताबिक दरअसल बात यह है कि कांग्रेस की पूर्व जिलाध्यक्ष दिव्यरानी सिंह पर गैरकानूनी ढंग से एक जमीन हड़पने का है. आरोप है कि इस जमीन को 1994 में 2 साल की लीज पर लिया था, जिसे बाद में गैरकानूनी तरीके से अपने कब्जे में ले लिया है. हम आपको बता दें ये जमीन फलदार वृक्ष लगाने के लिए शासन की ओर से दी गई थी, लेकिन यहां यूके लिप्टिस के पेड़ लगाए गए हैं. आरोप है कि जमीन का इस्तेमाल जनता के हित के लिए होना चाहिए, जो नहीं हो रहा है. इसी मुद्दे को लेकर पन्ना जिला प्रशासन दिव्यरानी सिंह के कब्जे से नहर पट्टी की 3 हेक्टेयर जमीन छुड़ाने का लगातार प्रयास कर रहा है. यहां जिला प्रशासन ने अपने अधिपत्य का बोर्ड भी लगा दिया है.