यूपी के चुनाव से पहले बीजेपी का किसान मिशन पटरी पर, पराली जलाने पर दर्ज हजारों केस वापस लेगी योगी सरकार, जुर्माने को भी किया गया रद्द

BJP's farmer mission on track before UP elections: 2022 में होने वाले यूपी चुनाव से पहले जहां एक तरफ किसान नेता राकेश टिकैट (Rakesh Tikait) भाजपा के खिलाफ ताबड़तोड़ यात्राएं कर रहे हैं तो दूसरी ओर भाजपा किसानों को मनाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रही. अभी हाल ही में सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने किसानों से मिलकर उनकी परेशानियां सुनी थी. इसके बाद अब खबर है कि योगी सरकार यूपी में जिन हजारों किसानों पर पराली जलाने को लेकर केस दर्ज किए गए थे, उन सभी केस को वापस लेने की तैयारी कर रही है. साथ ही साहब इस वजह से लगे जुर्माने को भी खत्म करने का फैसला लिया जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक, सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पराली जलाने के दौरान किसानों पर दर्ज हुए मुकदमों को वापस लेने और किसानों पर लगे आर्थिक दंड को खत्म करने को लेकर राज्य सरकार विचार कर रही है कि कार्यवाही को कैसे आगे बढ़ाया जाए. बता दें कि वायु प्रदूषण के कारण खेतों में पराली जलाना सख्त मना है. इसे रोकने के लिए आरोपी पर मुकदमा और आर्थिक दंड का प्रवधान है. इस क्रम में पराली अपने खेतों में जलाने के कारण उत्तर प्रदेश के हजारों किसानों के खिलाफ केस दर्ज किए गए थे. इसके साथ साथ जुर्माने का भी प्रावधान है इसी कड़ी में राज्य के किसानों से संवाद के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकार किसानों के कल्याण और आय दोगुनी करने को लेकर लगातार कार्य कर रही है. इसके लिए कई कल्याणकारी योजना भी चलाई जा रही है. वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना , मृदा स्वास्थ कार्ड और जन धन योजना का लाभ लोगों को मिल रहा है. इन योजनाओ के तहत किसानों को सीधे बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ दिया गया है. इन योजना के तहत मिलने वाली सहयोग धनराशि सीधे किसानों के खातों में डाली जा रही है. सरकार ने किसानों से सीधे खरीद की है उसका भुगतान भी सीधे किसानों के खाते में किया है. साथ ही कहा की 2010 से लंबित पड़े गन्ने के भुगतान के लिए हमारी सरकार ने बेहतर रणनीति के तहत काम करते हुए एक लाख 42 हजार करोड़ रुपये का भुगतान कराया है.
 

यूपी के चुनाव से पहले बीजेपी का किसान मिशन पटरी पर, पराली जलाने पर दर्ज हजारों केस वापस लेगी योगी सरकार, जुर्माने को भी किया गया रद्द

BJP's farmer mission on track before UP elections: 2022 में होने वाले यूपी चुनाव से पहले जहां एक तरफ किसान नेता राकेश टिकैट ( Rakesh Tikait) भाजपा के खिलाफ ताबड़तोड़ यात्राएं कर रहे हैं तो दूसरी ओर भाजपा किसानों को मनाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रही. अभी हाल ही में सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi Adityanath) ने किसानों से मिलकर उनकी परेशानियां सुनी थी. इसके बाद अब खबर है कि योगी सरकार यूपी में जिन हजारों किसानों पर पराली जलाने को लेकर केस दर्ज किए गए थे, उन सभी केस को वापस लेने की तैयारी कर रही है. साथ ही साहब इस वजह से लगे जुर्माने को भी खत्म करने का फैसला लिया जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक, सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पराली जलाने के दौरान किसानों पर दर्ज हुए मुकदमों को वापस लेने और किसानों पर लगे आर्थिक दंड को खत्म करने को लेकर राज्य सरकार विचार कर रही है कि कार्यवाही को कैसे आगे बढ़ाया जाए. बता दें कि वायु प्रदूषण के कारण खेतों में पराली जलाना सख्त मना है. इसे रोकने के लिए आरोपी पर मुकदमा और आर्थिक दंड का प्रवधान है. इस क्रम में पराली अपने खेतों में जलाने के कारण उत्तर प्रदेश के हजारों किसानों के खिलाफ केस दर्ज किए गए थे. इसके साथ साथ जुर्माने का भी प्रावधान है इसी कड़ी में राज्य के किसानों से संवाद के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकार किसानों के कल्याण और आय दोगुनी करने को लेकर लगातार कार्य कर रही है. इसके लिए कई कल्याणकारी योजना भी चलाई जा रही है. वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना , मृदा स्वास्थ कार्ड और जन धन योजना का लाभ लोगों को मिल रहा है. इन योजनाओ के तहत किसानों को सीधे बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ दिया गया है. इन योजना के तहत मिलने वाली सहयोग धनराशि सीधे किसानों के खातों में डाली जा रही है. सरकार ने किसानों से सीधे खरीद की है उसका भुगतान भी सीधे किसानों के खाते में किया है. साथ ही कहा की 2010 से लंबित पड़े गन्ने के भुगतान के लिए हमारी सरकार ने बेहतर रणनीति के तहत काम करते हुए एक लाख 42 हजार करोड़ रुपये का भुगतान कराया है.