बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की रिलायंस कंपनी ने पहली तिमाही में कितना टैक्स भरा है, जानिये पूरी डिटेल

Mukesh Ambani's Reliance company has paid how much tax: दुनिया के जाने माने उद्योगपति में शामिल रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने ने चालू वित्त वर्ष 2021 22 की पहली तिमाही के नतीजे जारी कर दिया है. पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज ने टैक्स के तौर पर 3,464 करोड़ रुपए दिए हैं.इस दौरान, कंपनी का टैक्स समेत खर्च 50 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 1.31 लाख करोड़ रुपये रहा. ये वो वक्त था जब कोरोना की दूसरी लहर चरम पर थी और रिलायंस ने इस दौरान अपने जामनगर रिफाइनरी से बड़े स्तर पर मुफ्त में ऑक्सीजन की आपूर्ति की . इस वर्ष आई मुनाफे में कमी चालू वित्त वर्ष (Financial Year) 2021-22 की पहली तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा 7 प्रतिशत घटकर 12,273 करोड़ रुपये रहा. गौरतलब है कि तेल से रसायन, दूरसंचार और रिलायंस जियो के अच्छे प्रदर्शन के बावजूद खर्च बढ़ने से कंपनी का लाभ घटा है. कंपनी ने बताया कि इससे पूर्व वित्त वर्ष 2020-21 की इसी तिमाही में मुनाफा 13,233 करोड़ रुपये था. हम आपको बता दें कि वित्त वर्ष 2020-21 में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जीएसटी और वैट का सबसे बड़ा भुगतान किया था. इस दौरान रिलायंस ने 21,044 करोड़ रुपए से ज्यादा कस्टम एंड एक्साइज ड्यूटी का भुगतान किया. वहीं, 3,213 करोड़ रुपए सर्विस टैक्स और 85,306 करोड़ रुपए का जीएसटी और वैट दिया था. आपको बता दें कि कोरोना की वजह से वित्त वर्ष 2020-21 के शुरुआती कुछ महीनों तक सख्त लॉकडाउन था. इस लॉकडाउन में देश की इंडस्ट्री भी ठप थी और चारों ओर हाहाकार मचा था. ज्ञात हो कि मुकेश अंबानी भारत के सबसे अमीर व्यक्ति में शुमार हैं जो एक सफल व्यक्ति होने के साथ-साथ अक्सर दान धर्म का भी काम करते रहते हैं. भारत में उन्होंने ही 4G की नींव रखी और अब 5G को भी लॉन्च करने जा रहे हैं. देश की अर्थव्यवस्था में उनका बहुत बड़ा हाथ माना जाता है.
 

बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की रिलायंस कंपनी ने पहली तिमाही में कितना टैक्स भरा है, जानिये पूरी डिटेल

Mukesh Ambani's Reliance company has paid how much tax: दुनिया के जाने माने उद्योगपति में शामिल रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani) ने ने चालू वित्त वर्ष 2021 22 की पहली तिमाही के नतीजे जारी कर दिया है. पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज ने टैक्स के तौर पर 3,464 करोड़ रुपए दिए हैं.इस दौरान, कंपनी का टैक्स समेत खर्च 50 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 1.31 लाख करोड़ रुपये रहा. ये वो वक्त था जब कोरोना की दूसरी लहर चरम पर थी और रिलायंस ने इस दौरान अपने जामनगर रिफाइनरी से बड़े स्तर पर मुफ्त में ऑक्सीजन की आपूर्ति की .

इस वर्ष आई मुनाफे में कमी

चालू वित्त वर्ष ( Financial Year) 2021-22 की पहली तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का मुनाफा 7 प्रतिशत घटकर 12,273 करोड़ रुपये रहा. गौरतलब है कि तेल से रसायन, दूरसंचार और रिलायंस जियो के अच्छे प्रदर्शन के बावजूद खर्च बढ़ने से कंपनी का लाभ घटा है. कंपनी ने बताया कि इससे पूर्व वित्त वर्ष 2020-21 की इसी तिमाही में मुनाफा 13,233 करोड़ रुपये था. हम आपको बता दें कि वित्त वर्ष 2020-21 में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जीएसटी और वैट का सबसे बड़ा भुगतान किया था. इस दौरान रिलायंस ने 21,044 करोड़ रुपए से ज्यादा कस्टम एंड एक्साइज ड्यूटी का भुगतान किया. वहीं, 3,213 करोड़ रुपए सर्विस टैक्स और 85,306 करोड़ रुपए का जीएसटी और वैट दिया था. आपको बता दें कि कोरोना की वजह से वित्त वर्ष 2020-21 के शुरुआती कुछ महीनों तक सख्त लॉकडाउन था. इस लॉकडाउन में देश की इंडस्ट्री भी ठप थी और चारों ओर हाहाकार मचा था. ज्ञात हो कि मुकेश अंबानी भारत के सबसे अमीर व्यक्ति में शुमार हैं जो एक सफल व्यक्ति होने के साथ-साथ अक्सर दान धर्म का भी काम करते रहते हैं. भारत में उन्होंने ही 4G की नींव रखी और अब 5G को भी लॉन्च करने जा रहे हैं. देश की अर्थव्यवस्था में उनका बहुत बड़ा हाथ माना जाता है.