चंद्रयान 2 से संपर्क बनाने के लिए अब नासा ने भी उठाया बड़ा कदम

Chandrayaan 2 Ke liye nasa ne uthaya kadam: मिशन चंद्रयान 90 से 95 प्रतिशत सफल रहा। पूर्ण सफलता नहीं मिली, लेकिन चंद्रयान की परिक्रमा अभी भी काम कर रही है। आपको बता दें कि जब चंद्रयान चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला था, तभी अचानक विक्रम लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया। जिसके बाद खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने इसरो प्रमुख के सीवान को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि हमें अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। Chandrayaan 2 Ke liye nasa ne uthaya kadam भारतीय वैज्ञानिकों की प्रशंसा राहुल गांधी, अमित शाह, प्रियंका गांधी जैसे दिग्गजों ने भारतीय वैज्ञानिकों की प्रशंसा की। इस कठिन मिशन के लिए दुनिया भर के देशों ने इसरो की सराहना की। हाल ही में खगोलशास्त्री स्कॉट टैली ने भी विक्रम से संपर्क करने की प्रबल संभावना जताई। आपको बता दें कि 2018 में टायली ने अमेरिकी मौसम उपग्रह की खोज की थी, जिसे 2000 में लॉन्च किया गया था और फिर 5 साल बाद संपर्क खो दिया था। अब नासा ने यह बड़ा कदम उठाया है इसरो लगातार चंद्रयान के विक्रम लैंडर से संपर्क करने की कोशिश कर रहा है। अब नासा ने भी इसरो की मदद के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। इसरो के एक अधिकारी के अनुसार, नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी भी विक्रम को रेडियो सिग्नल भेज रही है।
 

चंद्रयान 2 से संपर्क बनाने के लिए अब नासा ने भी उठाया बड़ा कदम

Chandrayaan 2 Ke liye nasa ne uthaya kadam: मिशन चंद्रयान 90 से 95 प्रतिशत सफल रहा। पूर्ण सफलता नहीं मिली, लेकिन चंद्रयान की परिक्रमा अभी भी काम कर रही है। आपको बता दें कि जब चंद्रयान चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला था, तभी अचानक विक्रम लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया। जिसके बाद खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने इसरो प्रमुख के सीवान को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि हमें अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है।  Chandrayaan 2 Ke liye nasa ne uthaya kadam

भारतीय वैज्ञानिकों की प्रशंसा

राहुल गांधी, अमित शाह, प्रियंका गांधी जैसे दिग्गजों ने भारतीय वैज्ञानिकों की प्रशंसा की। इस कठिन मिशन के लिए दुनिया भर के देशों ने इसरो की सराहना की। हाल ही में खगोलशास्त्री स्कॉट टैली ने भी विक्रम से संपर्क करने की प्रबल संभावना जताई। आपको बता दें कि 2018 में टायली ने अमेरिकी मौसम उपग्रह की खोज की थी, जिसे 2000 में लॉन्च किया गया था और फिर 5 साल बाद संपर्क खो दिया था।

अब नासा ने यह बड़ा कदम उठाया है

इसरो लगातार चंद्रयान के विक्रम लैंडर से संपर्क करने की कोशिश कर रहा है। अब नासा ने भी इसरो की मदद के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। इसरो के एक अधिकारी के अनुसार, नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी भी विक्रम को रेडियो सिग्नल भेज रही है।