चुनाव जीतने से पहले ही कांग्रेस पार्टी को बिहार में सताने लगा यह डर, कहीं इस बार भी बीजेपी ना खेल दे एमपी वाला गेम

जैसा कि हम सभी जानते है कि बिहार (Bihar) में जल्द ही सरकार बनने वाली है। जिसके एग्जिट पोल के नतीजे सामने आए हैं। ऐसे में सभी पार्टी यह समीकरण बना रही है कि केसे अपनी सत्ता बनाई जाए। 10 नवम्बर को बीहार में हुए चुनाव क् नतीजे सामने आने वाले हैं। इसके बाद यह तय हो जायेगा की कौनसी पार्टी सत्ता पर् बैठेगी लेकिन उससे पहले कांग्रेस को अपने विधायक टूटने की उम्मीद है। जिसके चलते सियासत तेज है। कहा यह भी जा रहा है की सोनिया गांधी ने कुछ कार्यकारी नियुक्त किये है जो की इस बात को ऑब्जेर्व करेंगे और वह लगातार बिहार में केम्प करेंगे जिसमे आधिकारिक तौर पर कांग्रेस ने सुरजेवाला और अविनाश पांडेय को ऑब्जर्वर नियुक्त किया गया है. दोनों पटना भी पहुंच गए. दोनों महागठबंधन की सरकार बनाने तक बिहार में ही कैंप करेंगे। कांग्रेस पार्टी बिहार विधानसभा का चुनाव 70 सीटों के लिए लड़ी है. इसके साथ ही वाल्मीकिनगर लोकसभा उप चुनाव में भी अपना उम्मीदवार उतारा है. 10 नवंबर को रिजल्ट आ जायेगा जिससे यह स्पष्ट होगा की कांग्रेस के कितने विधायक चुनाव जीत रहे हैं. न्यूज़ के एग्जिट पोल में महागठबंधन के खाते में 118 से 138 सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं. एनडीए के खाते में कुल 91 से 117 सीटें मिल रही हैं. यानी कि इसबार चुनाव में सीएम नीतीश की सत्ता जाती हुई दिख रही है. चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को 5 से 8 सीट मिल रही है जबकि अन्य के खाते में 3 से 8 सीटें जाती हुई दिख रही हैं. उधर एबीपी न्यूज़ के सी-वोटर सर्वे के मुताबिक महागठबंधन को 108 से लेकर 131 सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं. वहीं दूसरी ओर एनडीए के खाते में 104 से 128 सीटें आती हुई दिख रही हैं. लोक जनशक्ति पार्टी को इस चुनाव में सिर्फ 1 से 3 सीट आने की उम्मीद है. जिसके बाद आरजेडी और अलर्ट हो गई है.
 

चुनाव जीतने से पहले ही कांग्रेस पार्टी को बिहार में सताने लगा यह डर, कहीं इस बार भी बीजेपी ना खेल दे एमपी वाला गेम

जैसा कि हम सभी जानते है कि बिहार (Bihar) में जल्द ही सरकार बनने वाली है। जिसके एग्जिट पोल के नतीजे सामने आए हैं। ऐसे में सभी पार्टी यह समीकरण बना रही है कि केसे अपनी सत्ता बनाई जाए। 10 नवम्बर को बीहार में हुए चुनाव क् नतीजे सामने आने वाले हैं। इसके बाद यह तय हो जायेगा की कौनसी पार्टी सत्ता पर् बैठेगी लेकिन उससे पहले कांग्रेस को अपने विधायक टूटने की उम्मीद है। जिसके चलते सियासत तेज है। कहा यह भी जा रहा है की सोनिया गांधी ने कुछ कार्यकारी नियुक्त किये है जो की इस बात को ऑब्जेर्व करेंगे और वह लगातार बिहार में केम्प करेंगे जिसमे आधिकारिक तौर पर कांग्रेस ने  सुरजेवाला और अविनाश पांडेय को ऑब्जर्वर नियुक्त किया गया है. दोनों पटना भी पहुंच गए. दोनों महागठबंधन की सरकार बनाने तक बिहार में ही कैंप करेंगे। कांग्रेस पार्टी बिहार विधानसभा का चुनाव 70 सीटों के लिए लड़ी है. इसके साथ ही वाल्मीकिनगर लोकसभा उप चुनाव में भी अपना उम्मीदवार उतारा है. 10 नवंबर को रिजल्ट आ जायेगा जिससे यह स्पष्ट होगा की कांग्रेस के कितने विधायक चुनाव जीत रहे हैं. न्यूज़ के एग्जिट पोल में महागठबंधन के खाते में 118 से 138 सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं. एनडीए के खाते में कुल 91 से 117 सीटें मिल रही हैं. यानी कि इसबार चुनाव में सीएम नीतीश की सत्ता जाती हुई दिख रही है. चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को 5 से 8 सीट मिल रही है जबकि अन्य के खाते में 3 से 8 सीटें जाती हुई दिख रही हैं. उधर एबीपी न्यूज़ के सी-वोटर सर्वे के मुताबिक महागठबंधन को 108 से लेकर 131 सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं. वहीं दूसरी ओर एनडीए के खाते में 104 से 128  सीटें आती हुई दिख रही हैं. लोक जनशक्ति पार्टी को इस चुनाव में सिर्फ 1 से 3 सीट आने की उम्मीद है. जिसके बाद आरजेडी और अलर्ट हो गई है.