ममता की पुलिस ने पूर्व सिख सैनिक के पगड़ी खिंच बाल पकड़कर बीच सड़क पर पीटा, देश गुस्से में…

शुक्रवार को भाजपा की रैली के टाइम पश्चिम बंगाल के हावड़ा में पुलिस की तरफ से एक सिख पुरुष के साथ कथित तौर पर मारपीट करने के लिए और उसकी पगड़ी खींचने पर अब एक बहुत बड़ा विवाद छिड़ चूका है। भले ही अब पुलिस ये बोल रही है कि 'सिख अपने साथ एक पिस्टल ले जा रहा था और उसे छीनने के टाइम उनकी पगड़ी अपने आप गिर गई थी।' [embed]https://twitter.com/WBPolice/status/1314599460882636802[/embed] भाजपा ने सीएम ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस की सरकार पर अपने सीखो की भावनाओ को आहत पहुंचाने का आरोप लगाया है। जब ये सब घटना हो रही तब उसका फोटो बनाया गया जो अब वायरल हो रहा है और ये वायरल होने के बाद, पश्चिम बंगाल की पुलिस ने शुक्रवार को ही ट्वीट कर दिया था। इससे संबंधित व्यक्ति कल के इस प्रदर्शन में पिस्टल लेके जा रहे थे। तभी हाथापाई के टाइम पगड़ी अपने आप गिर भी गई तो इसमें हमारी क्या गलती है और इसमें हमारा किसी भी तरह के समुदाय की भावनाओ को ठेस पहुंचाने का बिलकुल भी इरादा नहीं था।' पीटीआई के हिसाब से उस शख्श की पहचान भटिंडा में हुई है और वो 43 वर्ष का बलविंदर सिंह के नाम से जाना जाता है। भारतीय सेना के पूर्व सैनिक सिंह वर्तमान में एक निजी सुरक्षा अधिकारी के रूप में काम करते है। जिन्हे एक भाजपा के नेता की तरफ से काम पर रखा गया है। फ़िलहाल पुलिस के हिसाब से उनके पास में एक पिस्तौल मिली थी और इस पिस्तौल का लाइसेंस अगले साल जनवरी तक वैध है। उसने ये भी बोला है कि इस गिरफ्तारी से पहले जो भी वहा पर जो भी पुलिस वाले थे उन्हें अपनी पगड़ी वापस पहनने के लिए भी उन्होंने बोला था। भाजपा के राष्ट्रिय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ये बोला कि देश की सेवा करने वाले जो बहादुर सेनिको को भी टीएमसी के शासन में बख्शा नहीं जायगा। उसके बाद उन्होंने ट्वीट करके ये भी लिखा ''कि सुरक्षाकर्मी बलविंदर सिंह को पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सड़क पर पीटा और उनकी पगड़ी को अपमानित किया है वो सक्षम जवान है! उन्होंने काफी सारे सैन्य कोर्स भी कर रखे है! ममता बनर्जी के राज में ऐसे जाबाज का अपमान बहुत ही दुःख की बात है ये सब तो इसलिए अब उन सभी पुलिस वालो को सज़ा दी जनि चाहिए! [embed]https://twitter.com/KailashOnline/status/1314531915370696710[/embed] शिरोमणि अकाली दल ने भी इस सब की मांग की है कि ममता बनर्जी बलविंदर सिंह पर जो भी हमले हुए है उन सब को लेकर अब वो पुलिस के खिलाफ करवाई करे। [embed]https://twitter.com/mssirsa/status/1314442337318133761[/embed] लेकिन ये सब देख कर टीएमसी के सबसे वरिष्ठ नेता और मंत्री फिरहाद हकीम ने इन सारे आरोपों को गलत बताया है और ये भी बोला है कि ''कानून अपना रास्ता जरूर अपनाएगा'' जो उनकी नजर में गलत था उस टाइम वो उन्होंने किया लेकिन उसके बाद हाकिम ने भी ये बोला कि 'हम सभी भाजपा की तरह बिलकुल भी नहीं है, हम सारे धर्म, जाति और पंथ का सम्मान करते है।' वीरवार को इस राज्य में भाजपा के कार्यकर्ताओ की हत्याओं का विरोध करने के लिए बिगड़ती कानून व्यवस्था का आरोप लगाकर पार्टी ने सचिवालय तक ''नबन्ना चलो'' का मोर्चा निकाला था। उसके बाद उस टाइम बंगाल की पुलिस ने भाजपा के नेताओ को रोका भी था और फिर 3 घंटो तक इन कार्यकर्ताओ के बिच जमकर बहुत ज्यादा झड़प भी की थी। फिर पुलिस ने इन सब को हटाने के लिए लाठीचार्ज भी किया था। उसके बाद इन सभी कार्यकर्ताओ पर गैस के गोले, वॉटर कैनन और केमिकल वाला पानी ये सब कुछ उन पर फेका गया था।
 

ममता की पुलिस ने पूर्व सिख सैनिक के पगड़ी खिंच बाल पकड़कर बीच सड़क पर पीटा, देश गुस्से में…

शुक्रवार को भाजपा की रैली के टाइम पश्चिम बंगाल के हावड़ा में पुलिस की तरफ से एक सिख पुरुष के साथ कथित तौर पर मारपीट करने के लिए और उसकी पगड़ी खींचने पर अब एक बहुत बड़ा विवाद छिड़ चूका है। भले ही अब पुलिस ये बोल रही है कि 'सिख अपने साथ एक पिस्टल ले जा रहा था और उसे छीनने के टाइम उनकी पगड़ी अपने आप गिर गई थी।' [embed]https://twitter.com/WBPolice/status/1314599460882636802[/embed] भाजपा ने सीएम ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस की सरकार पर अपने सीखो की भावनाओ को आहत पहुंचाने का आरोप लगाया है। जब ये सब घटना हो रही तब उसका फोटो बनाया गया जो अब वायरल हो रहा है और ये वायरल होने के बाद, पश्चिम बंगाल की पुलिस ने शुक्रवार को ही ट्वीट कर दिया था। इससे संबंधित व्यक्ति कल के इस प्रदर्शन में पिस्टल लेके जा रहे थे। तभी हाथापाई के टाइम पगड़ी अपने आप गिर भी गई तो इसमें हमारी क्या गलती है और इसमें हमारा किसी भी तरह के समुदाय की भावनाओ को ठेस पहुंचाने का बिलकुल भी इरादा नहीं था।' पीटीआई के हिसाब से उस शख्श की पहचान भटिंडा में हुई है और वो 43 वर्ष का बलविंदर सिंह के नाम से जाना जाता है। भारतीय सेना के पूर्व सैनिक सिंह वर्तमान में एक निजी सुरक्षा अधिकारी के रूप में काम करते है। जिन्हे एक भाजपा के नेता की तरफ से काम पर रखा गया है। फ़िलहाल पुलिस के हिसाब से उनके पास में एक पिस्तौल मिली थी और इस पिस्तौल का लाइसेंस अगले साल जनवरी तक वैध है। उसने ये भी बोला है कि इस गिरफ्तारी से पहले जो भी वहा पर जो भी पुलिस वाले थे उन्हें अपनी पगड़ी वापस पहनने के लिए भी उन्होंने बोला था। भाजपा के राष्ट्रिय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ये बोला कि देश की सेवा करने वाले जो बहादुर सेनिको को भी टीएमसी के शासन में बख्शा नहीं जायगा। उसके बाद उन्होंने ट्वीट करके ये भी लिखा ''कि सुरक्षाकर्मी बलविंदर सिंह को पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सड़क पर पीटा और उनकी पगड़ी को अपमानित किया है वो सक्षम जवान है! उन्होंने काफी सारे सैन्य कोर्स भी कर रखे है! ममता बनर्जी के राज में ऐसे जाबाज का अपमान बहुत ही दुःख की बात है ये सब तो इसलिए अब उन सभी पुलिस वालो को सज़ा दी जनि चाहिए! [embed]https://twitter.com/KailashOnline/status/1314531915370696710[/embed] शिरोमणि अकाली दल ने भी इस सब की मांग की है कि ममता बनर्जी बलविंदर सिंह पर जो भी हमले हुए है उन सब को लेकर अब वो पुलिस के खिलाफ करवाई करे। [embed]https://twitter.com/mssirsa/status/1314442337318133761[/embed] लेकिन ये सब देख कर टीएमसी के सबसे वरिष्ठ नेता और मंत्री फिरहाद हकीम ने इन सारे आरोपों को गलत बताया है और ये भी बोला है कि ''कानून अपना रास्ता जरूर अपनाएगा'' जो उनकी नजर में गलत था उस टाइम वो उन्होंने किया लेकिन उसके बाद हाकिम ने भी ये बोला कि 'हम सभी भाजपा की तरह बिलकुल भी नहीं है, हम सारे धर्म, जाति और पंथ का सम्मान करते है।' वीरवार को इस राज्य में भाजपा के कार्यकर्ताओ की हत्याओं का विरोध करने के लिए बिगड़ती कानून व्यवस्था का आरोप लगाकर पार्टी ने सचिवालय तक ''नबन्ना चलो'' का मोर्चा निकाला था। उसके बाद उस टाइम बंगाल की पुलिस ने भाजपा के नेताओ को रोका भी था और फिर 3 घंटो तक इन कार्यकर्ताओ के बिच जमकर बहुत ज्यादा झड़प भी की थी। फिर पुलिस ने इन सब को हटाने के लिए लाठीचार्ज भी किया था। उसके बाद इन सभी कार्यकर्ताओ पर गैस के गोले, वॉटर कैनन और केमिकल वाला पानी ये सब कुछ उन पर फेका गया था।