किसान आंदोलन को लेकर संजय राउत का आया बयान, आतंकवादियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है किसानों के साथ और…

कृषि कानून को लेकर देश में बवाल चल रहा है इस नए कानून को लेकर किसान दिल्ली कूच करने के लिए राजधानी के बॉर्डर्स पर डेरा जमाए बैठे हुए हैं! एक और दिल्ली के सिंधु और टिकरी सीमा पर हरियाणा और पंजाब के किसान डटे हुए हैं तो वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश सीमा पर भी भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसान हजारों की संख्या में डेरा डाल रखा है! मिली जानकारी के अनुसार अभी तक बताया जा रहा है कि आंदोलनकारी किसान शांति से बैठे हुए हैं और अब तक सहयोग कर रहे हैं! पुलिस ने बताया है कि इससे पहले दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा जमाए बैठे किसानों से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपील की है कि वह आंदोलन को खत्म करें सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है! लेकिन अब वही किसान आंदोलन को लेकर शिवसेना के नेता संजय रावत का बड़ा बयान सामने आया है! शिवसेना सांसद का कहना है कि जिस तरीके से किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोका गया है ऐसा लग रहा है कि जैसे वह इस देश के है ही नहीं! उनके साथ आतंकवादियों के जैसा व्यवहार किया गया है क्योंकि वह सीखे और हरियाणा पंजाब से आए हैं इसलिए उन्हें खालिस्तानी कहा जा रहा है यह तो किसानों का अपमान है! [embed]https://twitter.com/ANI/status/1332912995723198464[/embed]
 

किसान आंदोलन को लेकर संजय राउत का आया बयान, आतंकवादियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है किसानों के साथ और…

कृषि कानून को लेकर देश में बवाल चल रहा है इस नए कानून को लेकर किसान दिल्ली कूच करने के लिए राजधानी के बॉर्डर्स पर डेरा जमाए बैठे हुए हैं! एक और दिल्ली के सिंधु और टिकरी सीमा पर हरियाणा और पंजाब के किसान डटे हुए हैं तो वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश सीमा पर भी भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसान हजारों की संख्या में डेरा डाल रखा है! मिली जानकारी के अनुसार अभी तक बताया जा रहा है कि आंदोलनकारी किसान शांति से बैठे हुए हैं और अब तक सहयोग कर रहे हैं! पुलिस ने बताया है कि इससे पहले दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा जमाए बैठे किसानों से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपील की है कि वह आंदोलन को खत्म करें सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है! लेकिन अब वही किसान आंदोलन को लेकर शिवसेना के नेता संजय रावत का बड़ा बयान सामने आया है! शिवसेना सांसद का कहना है कि जिस तरीके से किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोका गया है ऐसा लग रहा है कि जैसे वह इस देश के है ही नहीं! उनके साथ आतंकवादियों के जैसा व्यवहार किया गया है क्योंकि वह सीखे और हरियाणा पंजाब से आए हैं इसलिए उन्हें खालिस्तानी कहा जा रहा है यह तो किसानों का अपमान है! [embed]https://twitter.com/ANI/status/1332912995723198464[/embed]